Home /News /lifestyle /

तनाव लेने पर लोगों को सांस लेने में दिक्कत का होता है भ्रम- रिसर्च

तनाव लेने पर लोगों को सांस लेने में दिक्कत का होता है भ्रम- रिसर्च

 तनाव वाले लोगों को लगता है कि उनकी सांस ठीक नहीं चल रही, (प्रतीकात्मक फोटो-pexels.com)

तनाव वाले लोगों को लगता है कि उनकी सांस ठीक नहीं चल रही, (प्रतीकात्मक फोटो-pexels.com)

Health And Stress: ऐसा होने पर शरीर में हार्ट रेट बढ़ जाता है. हथेलियां पसीने से तर-बतर हो जाती हैं. सांस तेज चलने लगती है और लगातार बुरे ख्याल आने लगते हैं. इससे तनाव और भी अधिक बढ़ जाता है.

    Health News, Difficulty in Breathing Due to Stress: एक नई स्टडी (New study) में पता चला है कि जो लोग बहुत ज्यादा चिंता करते हैं या तनाव (Stress) लेते हैं, उन्हें सांस लेने में दिक्कत (Difficulty in breathing) का भ्रम (Illusion) होता है. इससे उनका तनाव और अधिक बढ़ जाता है. दैनिक जागरण अखबार में छपी न्यूज रिपोर्ट के अनुसार ये रिसर्च न्यूजीलैंड (New Zealand) की ओटागो विश्वविद्यालय (University of Otago) के रिसर्चर्स ने की है. यहां के रूदरफोर्ड डिस्कवरी रीसर्च की फेलो डॉ. ओलीविया हैरिसन (Dr Olivia Harrison) ने कहा कि दुनिया भर में तनाव से कमोबेश सभी प्रभावित होते हैं. इसका सबसे ज्यादा असर मेंटल हेल्थ (Mental Health) पर पड़ता है.

    यह स्थिति और भी अधिक बढ़ गई है क्योंकि लोग मौजूदा समय में वैश्विक महामारी के दौर से गुजर रहे हैं. इस रिसर्च पेपर को न्यूरान (Neuron) नामक पत्रिका में प्रकाशित किया गया है.

    क्या होते हैं लक्षण?
    इस शोध में तनाव के लक्षणों (Symptoms) को बताते हुए कहा गया है कि ऐसा होने पर शरीर में हार्ट रेट बढ़ जाता है. हथेलियां पसीने से तर-बतर हो जाती हैं. सांस तेज चलने लगती है और लगातार बुरे ख्याल आने लगते हैं. इससे तनाव और भी अधिक बढ़ जाता है. डा. हैरिसन ने बताया कि ज्यूरिख विश्वविद्यालय (University of Zurich) में कम तनाव वाले करीब 30 हेल्दी लोगों पर यह रिसर्च की गई है. इसके अलावा, ज्यादा तनाव वाले 30 अन्य लोगों पर भी तुलनात्मक अध्ययन किया गया.

    यह भी पढ़ें- हड्डियों के लिए दवा से ज्यादा कारगर है योग, ये 7 आसन हैं असरदार

    प्रतिभागियों से प्रश्नावली भरवाई गई और दो तरह से सांस लेने को कहा गया. सांस लेने के एक टास्क के दौरान उनकी ब्रेन इमेजिंग की गई. साथ में ब्लड में आक्सीजन और बहाव पर नजर रखी गई.

    स्टडी में क्या निकला?
    स्टडी में पाया गया कि ज्यादा तनाव वाले लोगों को लगता है कि उनकी सांस ठीक नहीं चल रही, जबकि कम तनाव वाले लोगों को ऐसा कुछ महसूस नहीं होता है. ज्यादा तनावग्रस्त लोगों के ब्रेन की एक्टिविटी भी बढ़ जाती है.

    यह भी पढ़ें- क्या है ब्रेन फॉग? एक्सपर्ट से जानें इसके लक्षण और सावधानियां

    हालांकि, स्टडी से इस बात का जवाब नहीं मिला कि चिंता का प्रभावी ढंग से इलाज कैसे किया जाए लेकिन इससे यह पता चला है कि ज्यादा चिंता (Tension) करने से शरीर कैसे प्रभावित होता है.

    Tags: Health, Health News, New Study

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर