मुरमुरे को डेली स्नैक्स में करें शामिल, जान लें इसके गजब के फायदे

मुरमुरे एनर्जी को बढ़ाने और वजन को कंट्रोल करने में मदद करते हैं-Image/shutterstock

Benefits of Murmure- मुरमुरे (Puffed rice) तो खाते हैं पर क्या आप मुरमुरे के फायदों (Benefits) के बारे में जानते हैं? अगर नहीं जानते हैं तो बता दें कि मुरमुरे केवल स्वाद को ही बूस्ट नहीं करते बल्कि सेहत को बूस्ट करने में भी अच्छी भूमिका (Role) निभाते हैं.

  • Share this:
    मुरमुरे (Puffed rice) तो आपने बहुत बार खाए होंगे और भेलपूरी, झालपूरी, चिक्की, लड्डू और सत्तू के ज़रिये इनका अलग-अलग टेस्ट भी ट्राई किया होगा. लेकिन क्या आप मुरमुरे के फायदों (Benefits) के बारे में जानते हैं? अगर नहीं जानते हैं तो बता दें कि मुरमुरे केवल स्वाद को ही बूस्ट नहीं करते बल्कि सेहत को बूस्ट करने में भी अच्छी भूमिका (Role) निभाते हैं. मुरमुरे में प्रोटीन, ऊर्जा, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, पोटैशियम, नियासिन, थियामिन और राइबोफ्लेविन जैसे कई और पोषक तत्व होते हैं. आइए मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जानते हैं मुरमुरे के फायदों के बारे में.

    एनर्जी बढ़ाते हैं

    मुरमुरे का सेवन करने से शरीर में एनर्जी लेवल बढ़ता है. मुरमुरे में काफी मात्रा में कार्बोहाइड्रेट होता है. शरीर कार्ब्स को ग्लूकोज़ में बदलता है जो एनर्जी का मेन सोर्स होता है. ये शरीर में साठ-सत्तर प्रतिशत एनर्जी की ज़रूरत को पूरा करने में मदद कर सकते हैं.

    ये भी पढ़ें: खाएं इनके आटे से बनी रोटियां, बीमारियां होंगी दूर, हड्डियां बनेंगी मजबूत



    पाचन तंत्र को सही रखते हैं

    मुरमुरे खाने से पाचन तंत्र सही रहता है और कब्ज़ की दिक्कत दूर होती है. मुरमुरे में डाइटरी फाइबर काफी मात्रा में होता है जो पाचन तंत्र को सही रखने में मदद करता है. इसके सेवन के बाद पेट काफी देर तक भरा रहता है.

    इम्यूनिटी बूस्ट करते हैं

    मुरमुरे विटामिन, मिनरल्स और फाइटोकेमिकल्स से भरपूर होते हैं जो इम्यून सिस्टम को सुधारने में मदद करते हैं. इसके सेवन से इम्यूनिटी बूस्ट होती है और जल्दी-जल्दी बीमार होने का खतरा कम होता है.

    ये भी पढ़ें: खजूर खाएं रोज, सेहत के लिए है बहुत लाभकारी

    सीलिएक बीमारी में सेवन के लिए सही होते हैं

    सीलिएक बीमारी से जूझ रहे पेशेंट के लिए मुरमुरे का सेवन करना बेहतर विकल्प होता है. क्योंकि मुरमुरे ग्लूटेन फ्री होते हैं और इस बीमारी के पेशेंट को ग्लूटेन युक्त खाद्य पदार्थों जैसे  गेहूं, राई और जौ आदि चीजों का सेवन करना मना होता है. दरअसल सीलिएक बीमारी में ग्लूटेन का सेवन करने से छोटी आंत को नुकसान पहुंच सकता है.

    वजन कंट्रोल करते हैं

    मुरमुरे में कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है जिसके चलते इसका सेवन वजन को कंट्रोल करने में मदद करता है. साथ ही इसमें डाइटरी फाइबर भी काफी मात्रा में होता है जिसकी वजह से इसको खाने के बाद पेट काफी देर तक भरा महसूस होता है और भूख कम लगती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
    Published by:Meenal Tingel
    First published: