होम /न्यूज /जीवन शैली /PCOS से हैं परेशान, डाइट में यूं करें कद्दू के बीज शामिल और पाएं पीसीओएस के लक्षणों से छुटकारा

PCOS से हैं परेशान, डाइट में यूं करें कद्दू के बीज शामिल और पाएं पीसीओएस के लक्षणों से छुटकारा

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम में यूं करें कद्दू के बीजों का सेवन. news18

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम में यूं करें कद्दू के बीजों का सेवन. news18

Pumpkin Seeds Benefits in PCOS: महिलाओं में होने वाली बीमारी पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम आज कॉमन होती जा रही है. पीसीओएस ...अधिक पढ़ें

Pumpkin Seeds Benefits in PCOS: महिलाओं में होने वाली बीमारी पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome) आज बहुत कॉमन होती जा रही है. पीसीओएस (PCOS) की समस्या तब होती है, जब शरीर में हार्मोंस असंतुलित हो जाते हैं. साथ ही अनुवांशिक, मेल हार्मोन एंड्रोजन का ओवरी में निर्माण होना, खराब जीवनशैली, इंसुलिन असंतुलन आदि भी पीसीओएस के कारण होते हैं. जब किसी महिला को पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम होता है, तो ओवरी में बनने वाले अंडाणुओं का विकास नहीं होता है. इस रोग के होने पर महिलाओं का मासिक धर्म प्रभावित होता है. पीसीओएस होने पर ना सिर्फ पीरियड्स प्रभावित होता है, बल्कि पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग, इर्रेगुलर पीरियड्स, महिलाओं में इनफर्टिलिटी की समस्या, स्किन संबंधित समस्याएं, त्वचा पर बालों का निकलना, गर्भ धारण करने में परेशानी, मोटापा, डायबिटीज, हार्ट रोग, डिप्रेशन, मुंहासों की समस्या, ऑयली स्किन, बालों का झड़ना जैसी परेशानियां नजर आ सकती हैं.

कद्दू के बीजों में मौजूद पोषक तत्व

यह बीज  (Pumpkin Seeds Benefits) सेहत को कई तरह के लाभ पहुंचाता है. इसमें कैल्शियम, फॉस्फोरस, जिंक, मैग्नीशियम, पोटैशियम, आयरन, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, डायटरी फाइबर, विटामिन ए, बी6, सी, डी, फोलेट आदि भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं.

यह भी पढ़ें: कद्दू की सब्जी पसंद नहीं है, तो उसके बीज खाइए

पीसीओएस की समस्या दूर करे कद्दू के बीज

डाइट में बदलाव लाकर पीसीओएस की समस्या से काफी हद तक बचाव हो सकता है. इसके लिए आप हेल्दी डाइट का सेवन करें. बाहर का खान, प्रॉसेस्ड फूड्स, जंक फूड्स, शुगरी ड्रिंक्स के सेवन से बचें. बीज (Seed) में आप कद्दू के बीजों (Pumpkin Seeds) के सेवन से पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम के लक्षणों को कम कर सकते हैं.

पीसीओएस में कद्दू के बीज का यूं करें सेवन

10 से 15 कद्दू के बीजों को छील लें और इसे खाएं. आप इसे हल्का भूनकर भी खा सकती हैं. ट्राई फ्रूट्स के साथ मिलाकर कद्दू के बीजों का सेवन किया जा सकता है. सलाद, सूप, सब्जी आदि में इसे मिलाकर खा सकती हैं. इन बीजों को सुखाकर पाउडर बनाकर पानी के साथ ले सकती हैं.

इसे भी पढ़ें: पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम बीमारी महिलाओं को तेजी से बना रही है अपना शिकार, जानिए क्‍या है ये?

पीसीओएस में कद्दू के बीजों के फायदे

कद्दू के बीज में कुछ एसेंशियल फैटी एसिड मौजूद होते हैं, जो हेल्दी रहने के लिए बेहद जरूरी होते हैं. फैटी एसिड शरीर में असंतुलित हुए हार्मोन लेवल को संतुलित करता है. शरीर में इंसुलिन को बैलेंस करता है, जिससे ब्लड शुगर लेवल कंट्रोल होता है. इर्रेगुलर पीरियड्स में सुधार करता है. इसके नियमित सेवन से पीसीओएस से बचाव हो सकता है.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें