Home /News /lifestyle /

महिलाओं में होने वाली किडनी डिजीज के शुरुआती संकेत और लक्षण, ना करें नजरअंदाज

महिलाओं में होने वाली किडनी डिजीज के शुरुआती संकेत और लक्षण, ना करें नजरअंदाज

महिलाओं में किडनी डिजीज के शुरुआती लक्षण. news18

महिलाओं में किडनी डिजीज के शुरुआती लक्षण. news18

Symptoms of kidney Disease in Women: किडनी से संबंधित बीमारी (kidney disease) आज देश में तेजी से बढ़ रही है. पुरुषों की तुलना में महिलाओं में भी किडनी रोग अधिक होता है. इसके लक्षण जल्दी नजर नहीं आते हैं और जब किडनी रोग का पता चलता है, तो वह काफी गंभीर हो चुका होता है. ऐसे में किडनी रोग के कुछ शुरुआती संकेतों को भूलकर भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

Symptoms of kidney Disease in Women: किडनी से संबंधित बीमारी (kidney disease) आज देश में तेजी से बढ़ रही है. खासकर, पुरुषों की तुलना में महिलाओं में किडनी संबंधित समस्याएं अधिक हो रही हैं. किडनी रोग की चपेट में आने के बाद समय पर इलाज ना लेने से प्रत्येक वर्ष लाखों महिलाओं की मौत हो जाती है. डब्लूएचओ (WHO) के अनुसार, जिनकी उम्र 30-35 वर्ष से अधिक होती है, उनमें किडनी रोग अधिक होता है. महिलाएं हों या पुरुष किडनी की बीमारी (Kidney disease in women) के मुख्य जोखिम कारक हैं मोटापा, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर आदि. किडनी की बीमारी आपको कब हो जाती है, इसका पता कई साल नहीं लगता, इसलिए इसे ‘साइलेंट किलर’ भी कहते हैं. इसके लक्षण जल्दी नजर नहीं आते हैं और जब किडनी रोग का पता चलता है, तो वह काफी गंभीर रूप धारण कर लेता है.

किडनी डिजीज होने के कारण

किडनी रोग होने के कई कारण होते हैं, जिनमें पानी कम पीना, शुगर लेवल को कंट्रोल में ना रखना, अधिक दर्द निवारक दावाओं का सेवन, मोटापा, डायबिटीज, पेशाब को देर तक रोककर रखना, अधिक नमक का सेवन, यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में अधिक होता है), हाई ब्लड प्रेशर, अधिक शराब का सेवन आदि शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें: Kidney Care Tips: किडनी के लिए दुश्मन साबित हो सकती हैं ये 5 चीजें, जल्द बना लें दूरी

महिलाओं में नजर आने वाले किडनी डिजीज के लक्षण

साइमेंस हेल्थइनर्स में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, सीकेडी वाले अधिकांश लोगों में कोई लक्षण नहीं होते हैं, क्योंकि शरीर किडनी के कार्यों में आई महत्वपूर्ण कमी को सहन कर सकता है. सीकेडी की उपस्थिति तब तक छिपी रह सकती है, जब तक कि रोग एडवांस स्टेज में ना पहुंच जाए. महिलाओं में किडनी की बीमारी के कुछ लक्षण इस प्रकार नजर आ सकते हैं:

  • भूख में कमी आना.
  • लगातार थकान, कमजोरी महसूस करना.
  • मतली और उल्टी जैसा महसूस होना.
  • मांसपेशियों में दर्द, ऐंठन, खिंचाव महसूस होना.
  • रात में बार-बार पेशाब लगना.
  • वजन कम होना.
  • सूजे हुए टखने या पैर.
  • सांस लेने में परेशानी महसूस करना.
  • पेशाब में खून आना.
  • नींद न आना.
  • त्वचा में खुजली होना, ड्राइनेस.
  • ध्यान लगाने में कमी.
  • आंखों के आसपास सूजन.

इसे भी पढ़ें: क्या लिवर के लिए नुकसानदायक है गिलोय? अधिक लाभ पाने के लिए किस तरह करें गिलोय का सेवन

किडनी रोग से बचने के लिए क्या करें

  • एल्कोहल, धूम्रपान का सेवन कम करें.
  • हेल्दी जीवनशैली अपनाएं. मोटापा कम करें.
  • डाइट में फल, सब्जियों को अधिक मात्रा में शामिल करें.
  • यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन से बचें.
  • पानी पर्याप्त मात्रा में पिएं.
  • पेशाब को देर तक रोककर ना रखें.

किडनी को हेल्दी रखने के उपाय

  • किडनी को निरोग रखना चाहती हैं, तो डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर की समस्या को कंट्रोल में रखें.
  • किसी भी शारीरिक समस्या, दर्द को दूर करने के लिए दर्द निवारक दवाओं का सेवन अधिक करने से बचें.
  • अधिक वजन है, तो इसे कंट्रोल करने के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करें.
  • जीवनशैली में हेल्दी आदतों को शामिल करें. हेल्दी डाइट लें, रेड मीट अधिक ना खाएं.
  • पार्याप्त मात्रा में पानी पिएं. पेशाब को देर तक ना रोकें.
  • प्रतिदिन 7-8 घंटे की नींद लें.
  • किडनी को स्वस्थ रखने के लिए हरी सब्जियों, फलों का सेवन करें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर