Home /News /lifestyle /

क्यों लगती है बार-बार प्यास, इन पांच बीमारियों के हो सकते हैं संकेत  

क्यों लगती है बार-बार प्यास, इन पांच बीमारियों के हो सकते हैं संकेत  

गर्मी के समय में ज्यादा पसीना आने या उल्टी होने के कारण प्यास लगती है तो यह एक सामान्य प्रक्रिया है. (Image: Shutterstock)

गर्मी के समय में ज्यादा पसीना आने या उल्टी होने के कारण प्यास लगती है तो यह एक सामान्य प्रक्रिया है. (Image: Shutterstock)

frequent thirst reasons:  गर्मी के समय में ज्यादा पसीना आने या उल्टी होने, डायरिया, ज्यादा एक्सरसाइज आदि के कारण अगर प्यास लगती है तो यह एक सामान्य प्रक्रिया है. इससे घबराने की जरूरत नहीं है. लेकिन इन कारणों के अलावा अगर बार-बार प्यास लगती है तो हेल्थ से संबंधित कई परेशानियों के ये संकेत हो सकते हैं. जब मुंह में ग्लैंड पर्याप्त स्लाइवा नहीं बना पाता है तो बार-बार प्यास लगती है. इसके अलावा कैंसर जैसी कुछ बीमारियों के कारण भी मुंह सूख जाता है और बार-बार प्यास लगती है.

अधिक पढ़ें ...

    frequent thirst reasons: शरीर को सबसे ज्यादा पानी (Water) की जरूरत होती है. जब भी शरीर को पानी की आवश्यक्ता होती है हमें प्यास (Thirst) लगती है. यह एक सामान्य प्रक्रिया है लेकिन जब बार-बार पानी पीने की चाहत हो तो इसका मतलब है कि आपके शरीर में कुछ अंदरुनी परेशानियां हैं. इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि बाद में इसके घातक परिणाम हो सकते हैं. जल्दी-जल्दी प्यास लगने के कई कारण हो सकते हैं. गर्मी के समय में ज्यादा पसीना आने या उल्टी होने, डायरिया, ज्यादा एक्सरसाइज आदि के कारण अगर प्यास लगती है तो यह एक सामान्य प्रक्रिया है. इससे घबराने की जरूरत नहीं है. लेकिन इन कारणों के अलावा अगर बार-बार प्यास लगती है तो हेल्थ से संबंधित कई परेशानियों के ये संकेत हो सकते हैं. आइए जानते हैं बार-बार प्यास लगने के कौन-कौन से कारण हो सकते हैं.

    ज्यादा प्यास लगने के कारण

    मुंह सूखना

    वेबएमडी की खबर के मुताबिक जब आपका मुंह सूखा लगने लगे तो आपको बार-बार प्यास लग सकती है. ऐसा इसलिए क्योंकि मुंह में ग्लैंड पर्याप्त स्लाइवा नहीं बना पाता है. इसके कई कारण हैं. कभी-कभी दवा खाने से मुंह का यह ग्लैंड बंद हो जाता है. इसके अलावा कैंसर जैसी कुछ बीमारियों के कारण भी मुंह सूख जाता है. अगर मुंह में स्लाइवा है तो सांस की बदबू, स्वाद में परिवर्तन, मसूड़ों में दिक्कत, दांत पर लिप्सटिक का रंग चढ़ना जैसे कई और कारण हो सकते हैं जिनकी वजह से बार-बार प्यास लगती है.

    इसे भी पढ़ेंः कोराना वायरस से अलग है ओमिक्रॉन वेरिएंट के लक्षण, जानिए कैसे बचें इससे

    एनीमिया

    सामान्य तौर पर यदि आपके शरीर में खून की कमी है तो बार-बार प्यास लग सकती है. यानी जब खून में आरबीसी (red blood cells) की कमी हो जाए तब भी बार-बार प्यास लगती है.

    चक्कर आना

    जब आपको ज्यादा चक्कर आ रहा हो तब भी आपको बार-बार प्यास लगती है. इसके अलावा यदि आप बहुत ज्यादा थके हुए हैं या बहुत ज्यादा कमजोर हैं तब भी बार-बार प्यास लगती है.

    हाइपरकैल्शिमिया

    हाइपरकैल्शिमिया (Hypercalcemia) का मतलब है कि जब खून में कैल्शियम की मात्रा जरूरत से ज्यादा हो जाए. हाइपरकैल्शिमिया के कारण कई और परेशानियां सामने आती हैं.

    इसे भी पढ़ेंः ओमिक्रॉन से मुकाबला करने के लिए क्या इम्यूनिटी बूस्ट करना ही बेस्ट उपाय है, जानिए सच्चाई

    डायबिटीज

    जब बार-बार प्यास लगे तो यह डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं. मेडिकल टर्म में इसे पॉलीडेप्सिया (polydipsia) कहते हैं. दरअसल, डायबिटीज के कारण जब इंसुलिन काम नहीं करता तब ग्लूकोज पेशाब से निकलने लगता है. पेशाब में ग्लूकोज के कारण पानी की ज्यादा जरूरत होती है. इसके साथ ही इसमें पेशाब भी बार-बार लगता है. अगर आप में भी ये लक्षण हैं तो आपको डायबिटीज है. तुरंत डॉक्टर से दिखाएं.

    Tags: Health, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर