आर्थराइटिस में नेचुरल तरीके से दर्द में मिलेगा आराम, इन 5 जड़ी बूटियों को लाएं घर

आम तौर पर अर्थराइटिस 60 साल के बाद ही देखने को मिलती है. Image Credit : Pexels/ Maria Lindsey Content Creator

Herbs For Arthritis Control : आर्थराइटिस से बचने का सबसे आसान तरीका है कि हम शरीर से यूरिक एसिड (Uric Acid) को कम करें. आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों की मदद से यूरिक एसिड घटा सकते हैं और आर्थराइटिस में सुधार ला सकते हैं.

  • Share this:
    Herbs For Arthritis Control - जब हमारे शरीर में यूरिक एसिड (Uric Acid) की मात्रा बढ़ने लगती है तो आर्थराइटिस की समस्‍या (Arthritis Problems) होती है. अर्थराइटिस की समस्‍या से बचने का सबसे आसान तरीका है कि हम शरीर से यूरिक एसिड को घटाने की कोशिश करें. जब कोई व्‍यक्ति अर्थराइटिस से ग्रस्‍त होता है तो उसे जोड़ों में काफी दर्द (Joint Pain) रहता है और सूजन की शिकायत रहती है. यह दर्द कई बार असहनीय हो जाता है. दरअसल शरीर में जब प्‍यूरीन एसिड टूटने लगता है और यह हमारे शरीर से बाहर नहीं निकल पाता तो हड्डियों और जोड़ों के बीच यह जमा होने लगता है.

    हेल्‍थ लाइन के मुताबिक, अर्थराइटिस के 100 से ज्‍यादा प्रकार हैं जिनके इलाज का तरीका भी अलग अलग है. आम तौर पर यह बीमारी 60 साल के बाद ही देखने को मिलती है लेकिन इसकी शुरुआत किसी भी उम्र से हो सकती है. यह भी कहा जाता है कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अर्थराइटिस की समस्‍या ज्‍यादा होती है. ओवरवेट लोगों को भी यह बीमारी हो सकती है. इस बीमारी से उबरने के लिए कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां हैं जिनके प्रयोग से नेचुरल तरीके से शरीर से यूरिक एसिड घटाती हैं और अर्थराइटिस में तेजी से फायदा मिलता है.

    1.मुलेठी

    आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों में मुलेठी का नाम प्रमुख रूप से लिया जाता है. यह अर्थराइटिस की बीमारी में बहुत ही काम आती है. मुलेठी में ग्लाइसिराइजिन नामक का एक कंपाउड होता है जो अर्थराइटिस में होने वाले सूजन को कम कर सकता है. यह शरीर को फ्री रेडिकल्स के प्रभाव से भी बचाती है. अगर विशेषज्ञ की राय लेकर आप मुलेठी का सही तरीके से सेवन करते हैं तो इसका प्रयोग काफी असरदार साबित हो सकता है.

    इसे भी पढ़ें : ये हैं उल्‍टी रोकने के 11 कारगर उपाय, जो तुरंत देंगे आराम



    2.अश्वगंधा

    अश्‍वगंधा भी एक ऐसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटी है जो अर्थराइटिस में यूरिक एसिड घटाने में काफी फायदेमंद है. यह अर्थराइटिस में सूजन और जोड़ों के दर्द में आराम पहुंचाती है. अगर आप अश्वगंधा पाउडर का सेवन दूध के साथ करते हैं तो इसका तुरंत असर दिखेगा. अश्वगंधा के सेवन से कई और हेल्‍थ प्रॉब्‍लम भी दूर रहते हैं.

    3.हल्दी

    घर घर में हल्दी का प्रयोग किया जाता है. इसमें एंटी ऑक्सीडेंट्स और एंटी इंफ्लेमेटरी में गुण होते हैं. यह आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों के रूप मे भी प्रयोग में आता है. हल्दी में करक्यूमिन नाम का तत्‍व होता है जो शरीर में सूजन को कम करने में असरदार होता है. यह अर्थराइटिस के सूजन को भी कम करता है और दर्द में आराम पहुंचाता है.

    4.अदरक

    अर्थराइटिस की समस्या से निजात दिलाने में अदरक भी फायदेमंद है. इसे आप चाय, सलाद या खाने में इस्‍तेमाल कर सकते हैं. अर्थराइटिस के मरीजों को अदरक का सेवन जरूर करना चाहिए. इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण शरीर की सूजन को कम करने में मदद करता है.
    इसे भी पढ़ें : सर्वाइकल स्पॉन्डिलाइटिस के दर्द से हैं परेशान, तो करें ये उपाय, तुरंत दिखेगा असर



    5.यूकेलिप्टस

    अर्थराइटिस के दर्द में आराम पहुंचाने के लिए यूकेलिप्‍टस का पत्‍ता बहुत काम आता है.अगर इसे बदाम के तेल के साथ मिलाकर जोड़ों पर लगाया जाए तो दर्द से राहत मिलती है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.