Home /News /lifestyle /

खाने के बाद पछताते हैं तो डाइजेशन ठीक रखने के लिए अपनाएं ये 5 आसान तरीके

खाने के बाद पछताते हैं तो डाइजेशन ठीक रखने के लिए अपनाएं ये 5 आसान तरीके

अनयिमित समय में खाना खाने से डाइजेशन की समस्‍या हो सकती है (Image: Shutterstock)

अनयिमित समय में खाना खाने से डाइजेशन की समस्‍या हो सकती है (Image: Shutterstock)

Digestive System: अगर आप डेली डाइट (Diets) में हेल्दी फूड हैबिट्स (Healthy Food Habits) को फॉलो करते हैं तो आपको कभी पाचन संबंधी समस्‍या नहीं आएगी.

    Tips For Strong Digestive System: कभी-कभी अपच की समस्‍या नॉर्मल है, जो अपने आप ही ठीक हो जाती है. इसे घरेलू उपायों की मदद से भी आसानी से दूर किया जा सकता है. लेकिन मुश्किल तब आने लगती है जब ये समस्‍या लगातार होने लगे. डाइजेशन (Digestion) प्रॉब्‍लम यानी कि गैस होना, पेट में दर्द, ब्‍लोटिंग की समस्‍या, कब्‍ज, डायरिया, नॉजिया आदि हमारे डेली रुटीन को काफी प्रभावित करते हैं.

    मेडिकलन्‍यूज टुडे के मुताबिक, अगर हम अपने लाइफ स्‍टाइल और फूड हैबिट (Food Habit) में कुछ बदलाव लाएं तो लॉन्‍ग टर्म के लिए इन समस्‍याओं से छुटकारा मिल सकता है. तो आइए जानते हैं कुछ ऐसी आदतों के बारे में जिन्‍हें अपनाकर आप पाचन की समस्‍या से छुटकारा पा सकते हैं.

    पाचन तंत्र को मजबूत करने के उपाय

    1. फाइबर फूड को करें डाइट में शामिल

    पाचनतंत्र के लिए फाइबर काफी जरूरी होता है. साबुत अनाज, सब्जियां, फल आदि में भरपूर फाइबर पाए जाते हैं जिन्‍हें डाइट में शामिल कर पाचन में सुधार किया जा सकता है. बता दें कि फाइबर डाइट पाचन तंत्र में भोजन को आगे बढ़ने में मदद करती है, जिससे कब्ज की समस्‍या नहीं होती. इसके लिए आप अघुलनशील और घुलनशील फाइबर दोनों का सेवन करें.

    इसे भी पढ़ें : दिल को रखना है जवां तो कम से कम 7 घंटे की नींद है बहुत जरूरी, जानें नींद और दिल का रिश्‍ता

    2. लीन मीट से बचें

    प्रोटीन एक हेल्दी डाइट के लिए जरूरी है लेकिन मीट खाते वक्‍त इसके फैट से बचें. ये आपके पाचन को प्रभावित कर सकता है. उदाहरण के तौर पर पोर्क लोइन और त्वचा रहित पोल्ट्री के मुकाबले अधिक फाइबर युक्त चीजों को डाइट में शामिल करें.

    3. प्रोबायोटिक्स और प्रीबायोटिक्स जरूरी

    अगर आप अपने डेली डाइट में प्रोबायोटिक्स और प्रीबायोटिक फूड्स को शामिल करेंगे तो ये आपके डाइजेशन को बेहतर बनाने में काफी कारगर रहेंगे. प्रोबायोटिक्‍स हेल्दी बैक्टीरिया और यीस्ट होते हैं जो पाचन तंत्र में स्वाभाविक रूप से मौजूद होते हैं. जबकि प्रोबायोटिक्स पोषक तत्वों के अवशोषण में मदद करता है. यह लैक्टोज को तोड़ने में मदद करता है. इसके सेवन से इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है.

    4. समय पर खाना जरूरी

    अगर आप अनयिमित समय में खाते हैं तो डाइजेशन की समस्‍या हो सकती है. ऐसे में रोज लगभग एक ही टाइम पर नाश्ता, दोपहर का भोजन और रात का खाना खाएं.

    ये भी पढ़ें: ब्रेन स्ट्रोक होने पर अस्पताल पहुंचने में न करें ज़रा भी देर, एक्सपर्ट से जानें क्या करें

    5. इन चीजों को कहें न

    प्रोसेस्‍ड फूड, मसालेदार भोजन, फ्राई फूड्स, साइट्रिक चीजें, फ्रुक्‍टोज, अल्‍कोहल और कैफीन चीजों से दूरी बनाएं. ये डाइजेशन को प्रभावित करने में ट्रिगर का काम करते हैं. ऐसे में खाने के समय इन बातों को ध्‍यान में जरूर रखें.

    Tags: Health, Health News, Health tips, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर