Home /News /lifestyle /

टाइप-2 डायबिटीज की दवा पहले ले ली जाए, तो कोरोना से अस्पताल जाने की जरूरत नहीं- नई स्टडी

टाइप-2 डायबिटीज की दवा पहले ले ली जाए, तो कोरोना से अस्पताल जाने की जरूरत नहीं- नई स्टडी

जिन मरीजों को यह दवा गी गई, उन्हें सांस से संबंधित दिक्कतों का कम सामना करना पड़ा. (Image:shutterstock)

जिन मरीजों को यह दवा गी गई, उन्हें सांस से संबंधित दिक्कतों का कम सामना करना पड़ा. (Image:shutterstock)

Type 2 diabetes drug used in corona patients: नई रिसर्च में दावा किया गया है कि टाइप-2 डायबिटीज में इस्तेमाल होने वाली दवा को पहले ले लेने से कोरोना के मरीजों में मौत का जोखिम बहुत कम हो गया.

    Type 2 diabetes drug used in corona patients: कोरोना महामारी को हुए दो साल से ज्यादा का समय हो गया है, लेकिन अब तक इसका कोई ठोस इलाज सामने नहीं आया है. अब भी कोरोना के कहर से लोगों की मौत हो रही है. कोरोना का इलाज खोजने की दिशा में दुनिया भर में रिसर्च हो रही हैं. अब एक नई रिसर्च में दावा किया गया है कि टाइप-2 डायबिटीज (Type 2 diabetes) में इस्तेमाल होने वाली दवा को अगर पहले ले ली जाए, तो यह अस्पताल जाने और मौत के जोखिम को बहुत कम कर देती है. साइंसडेली की खबर के मुताबिक इस दवा का इस्तेमाल पहले से मोटापा और टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों पर किया जा रहा है.

    पेन स्टेट कॉलेज ऑफ मेडिसीन (Penn State College of Medicine) के शोधकर्ताओं ने कहा है कि एक अध्ययन में टाइप-2 डायबिटीज से पीड़ित मरीजों को कोविड-19 लगने से छह महीने पहले इस दवा को दी गई, तो उनमें सांस से संबंधित दिक्कतों का कम सामना करना पड़ा. साथ ही, ऐसे मरीजों को अस्पताल जाने की भी जरूरत नहीं पड़ी. इसके अलावा ऐसे मरीजों में मौत का जोखिम भी बहुत कम हो गया. यानी अगर पहले से टाइप-2 डायबिटीज में इस्तेमाल होने वाली दवा को दे दी जाए, तो ऐसे लोगों को कोरोना के कारण गंभीर रूप से बीमार पड़ने से बचाया जा सकता है.

    इसे भी पढ़ेंः  एंटीबॉडी कम होने पर भी कोरोना से मुकाबला कर सकता है टी सेल, एक्सपर्ट से जानिए कैसे

    कोविड के खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर सकती है दवा
    अमेरिका में पेन स्टेट कॉलेज ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं ने टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित करीब 30 हजार रोगियों के इलेक्ट्रॉनिक मेडिकल रिकॉर्ड का विश्लेषण किया, जो जनवरी और सितंबर 2020 के बीच सार्स-सीओवी-2 से पीड़ित पाए गए थे. अध्ययन में बताया गया कि अभी दवा ग्लूकागोन-लाइक पेप्टाइड-1 रिसेप्टर (जीएलपी-1आर) का और परीक्षण किए जाने की जरूरत है. अब इस बात की पड़ताल होगी कि क्या यह दवा कोविड-19 की जटिलताओं के खिलाफ संभावित सुरक्षा प्रदान कर सकती है. पेन स्टेट में प्रोफेसर पैट्रिसिया ग्रिगसन ने कहा, हमारे निष्कर्ष काफी उत्साहजनक हैं क्योंकि जीएलपी-1आर काफी सुरक्षा प्रदान करने वाला प्रतीत होता है, लेकिन इन दवाओं का इस्तेमाल और टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित रोगियों में कोविड-19 के गंभीर खतरे को कम करने के बीच संबंध स्थापित करने के लिए और शोध की जरूरत है.

    इसे भी पढ़ेंः चेस्ट इंफेक्शन में बच्चों पर एंटीबायोटिक का कोई असर नहीं – नई रिसर्च

    टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित लोगों की कोरोना से ज्यादा मौत
    शोधकर्ताओं ने कहा, अब तक कोविड-19 के कारण अस्पताल में भर्ती किए जाने और मौत से बचने के लिए टीका सबसे अधिक प्रभावी सुरक्षा है लेकिन गंभीर संक्रमण से पीड़ित रोगियों की हालत में सुधार के लिए अतिरिक्त प्रभावी उपचार की आवश्यकता है. कोविड-19 से पीड़ित जो मरीज पहले से ही मधुमेह जैसी बीमारियों से ग्रस्त हैं, उनके लिए संक्रमण का खतरा ज्यादा है और उनकी मौत भी हो सकती है. ब्रिटेन में हाल में एक अध्ययन में बताया गया कि देश में कोविड-19 के कारण जितने लोगों की मौत हुई, उनमें से करीब एक तिहाई टाइप 2 डायबिटीज से पीड़ित लोग थे.

    Tags: COVID 19, Health News, Lifestyle

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर