Home /News /lifestyle /

मल (स्टूल) में खून आना या कब्ज हो सकता है इस एक कैंसर का संकेत, बिल्कुल ना करें इग्नोर

मल (स्टूल) में खून आना या कब्ज हो सकता है इस एक कैंसर का संकेत, बिल्कुल ना करें इग्नोर

कोलोन कैंसर के लक्षण. news18

कोलोन कैंसर के लक्षण. news18

Colon Cancer Symptoms: आपको मल त्याग करते समय बार-बार खून आता है या तेज दर्द होता है, तो इन्हें नजरअंदाज ना करें. ये कोलोन कैंसर के हो सकते हैं शुरुआती संकेत.

Colon Cancer Symptoms: क्या आपको कुछ दिनों से मल (Stool) त्याग करने में किसी तरह की समस्या महसूस हो रही है. मल के साथ खून (Blood in stool) आता है या फिर तेज दर्द होता है, तो इस समस्या को नजरअंदाज करना सही नहीं है. कई बार कब्ज होने पर लोगों को मल त्याग करने में कठिनाई होती है, लेकिन इसके साथ खून आना या फिर बार-बार तेज दर्द होना किसी गंभीर रोग जैसे कोलोन (Colon Cancer) या रेक्टल कैंसर (Rectal cancer) की तरफ इशारा करता है. कई बार बवासीर, मलद्वार के पास ब्लड वेसल्स में सूजन होने से भी स्टूल पास करने में बेहद तकलीफ होती है. कोलोन कैंसर को कोलोरेक्टल कैंसर (colorectal cancer) भी कहते हैं, जो बड़ी आंत या रेक्टम में होता है. स्टूल में नजर आने वाली किसी भी तरह की समस्याओं को छिपाने से बेहतर है कि आप जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें. कोलोरेक्टल कैंसर के शुरुआती लक्षणों का जल्द निदान करके इलाज शुरू किया जाए, तो इसके ठीक होने की संभावना बढ़ सकती है.

कोलोन कैंसर के लक्षण

टीओआई की खबर के अनुसार, कोलोन कैंसर (Colon cancer) होने पर अचानक वजन कम होने लगता है, मल त्याग करते समय ब्लीडिंग हो सकती है, नैरो स्टूल, एनीमिया, लगातार पेट में दर्द होने जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं. हालांकि, ये सभी लक्षण अल्सर, हेमोरॉयड्स के कारण भी होती हैं, ऐसे में डॉक्टर से जरूर कंसल्ट करना चाहिए. कुछ अन्य लक्षण जैसे मल में खून आना, कब्ज होना, बार-बार पेट खाली करने की इच्छा में वृद्धि होना, बड़ी आंत के नीचे लम्प होना. ये सभी लक्षण पुरुष-महिलाओं दोनों में नजर आ सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: खाने की वे 10 चीजें, जिनसे हो सकता है कैंसर

कोलोन या बाउल कैंसर के जोखिम

जो लोग बहुत ज्यादा स्मोकिंग करते हैं, उनमें इस कैंसर के होने की संभावना अधिक रहती है. जिन्हें पहले से ही अल्सरेटिव कोलाइटिस या कोलोन में क्रॉन्स डिजीज है, तो उनमें भी बाउल कैंसर होने का रिस्क बढ़ जाता है. इनके अलावा, मोटापे से ग्रस्त लोगों, अधिक रेड मीट खाने वालों में भी कोलोन या बाउल कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है. ऐसे में आपको रेगुलर स्क्रीनिंग करानी चाहिए, ताकि यह पता चल सके कि आपको बाउल कैंसर है या नहीं.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर