Home /News /lifestyle /

Sleep Walking: जानिए लोग क्‍यों होते हैं स्‍लीप वॉकिंग के शिकार, क्‍या हैं इसके लक्षण

Sleep Walking: जानिए लोग क्‍यों होते हैं स्‍लीप वॉकिंग के शिकार, क्‍या हैं इसके लक्षण

कई बार स्लीपवॉकिंग के दौरान लोग एक्‍स्‍ट्रीम कंडीशन में चले जाते हैं और कई बार तो हिंसक हो जाते हैं.Image Credit : shutterstock

कई बार स्लीपवॉकिंग के दौरान लोग एक्‍स्‍ट्रीम कंडीशन में चले जाते हैं और कई बार तो हिंसक हो जाते हैं.Image Credit : shutterstock

Know All About Sleepwalking: अगर आप या आपके परिवार का कोई सदस्‍य रात में नींद में चलता (Sleepwalking) है तो इसे हल्‍के में ना लें. जानें इसके लक्षण (Symptoms) और कारण (Causes).

    Sleepwalking Symptoms And Cause: हॉरर फिल्‍मों में हम स्‍लीप वॉकिंग (Sleep walking) की घटनाओं को देख चुके हैं लेकिन यह दरअसल किसी भी आम इंसान की समस्‍या हो सकती है. जी हां, दरअसल यह एक मेडिकल सिचुएशन होता है जिसे सोनामबुलिज्म (Somnambulism) भी कहा जाता है. ऐसी स्थिति में इंसान नींद में उठकर बैठ जाता है और कई बार तो चलने भी लगता है. कई बार स्लीप वॉकिंग की वजह से गंभीर दुर्घटनाएं भी हो सकती हैं. ऐसे में अगर इसका सही समय पर उपचार (Treatment) कराया जाए तो इसे ठीक किया जा सकता है.

    क्‍या है लक्षण

    मायोक्‍लीनिक के अनुसार, स्लीपवॉकिंग के लक्षण आमतौर पर रात में देखने को मिलती है. यह गहरी नींद में जाने के बाद शुरू होती है और कई मिनट तक इसके लक्षण रह सकते हैं. इसके लक्षण की बात की जाए तो बिस्तर से उठना और इधर उधर घूमने लगना, बिस्तर पर बैठ जाना और अपनी आंखें खोलकर रखना, दूसरों के साथ किसी तरह की प्रतिक्रिया या बातचीत न करना, जागने के बाद थोड़े समय के लिए विचलित या भ्रमित होना आदि रहता है.

    इसे भी पढ़ें : कोरोना महामारी में इन्फ्लूएंजा वैक्‍सीन दे रहा है सुरक्षा कवच, Covid के गंभीर प्रभावों से कर रहा बचाव: शोध

     

    क्‍या है स्लीप टेरर

    कई बार स्लीपवॉकिंग के दौरान लोग एक्‍स्‍ट्रीम कंडीशन में चले जाते हैं और कई बार तो हिंसक हो जाते हैं. सोते वक्त डेली रुटीन की एक्टिवीटज करने लगना जैसे कि कपड़े पहनना, बात करना या भोजन खाना आदि, घर छोड़कर बाहर चले जाना, नींद में कार चलाना, यहां वहां पेशाब करना, सीढ़ियों या खिड़की से नीचे गिर जाना आदि.

    ऐसा हो तो क्‍या करें

    वैसे तो स्‍लीप वॉकिंग एक सामान्‍य मेडिकल कंडीशन होता है लेकिन अगर यह स्‍लीप टेरर में बदलने लगे तो डॉक्‍टर की सलाह जरूरी हो जाती है.

    स्लीपवॉकिंग के ये हैं वजह

    मायोक्‍लीनिंक के मुताबिक, स्लीपवॉकिंग को रोकने के लिए सोने का टाइम सेट करना और पर्याप्त नींद लेना बहुत जरूरी है.

    -इसके अलावा जहां तक हो सके तनाव, चिंता से बचें और इसके लिए योगा मेडिटेशन आदि को लाइफस्‍टाइल में शामिल करें.

    -सुबह जल्दी उठें और रात को जल्दी सोने की आदत डालें.

    -डेली वर्कआउट करें और वॉक आदि करें.

    इसे भी पढ़ें : एसिडिटी की समस्‍या है तो ऐसे पाएं आराम, खानपान में लाएं ये 6 बदलाव

    -कैफीन युक्त पदार्थ का अधिक सेवन करने से बचें.

    -सोते वक्‍त रूम की सभी लाइट को बंद करें.

    Tags: Better sleep, Health, Lifestyle, Mental health

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर