जानें फ्रूट्स खाने का सही समय क्या है, अपनाएं ये तरीका

तरबूज़ का सेवन वजन कम करने में सहायक है

तरबूज़ का सेवन वजन कम करने में सहायक है

Eating fruits with a meal or after a meal: आप फ्रूट्स (Fruits) खाना कब पसंद करते हैं ? क्या आप इन्हें खाने की जगह, खाने के साथ या फिर खाने के बाद लेते हैं? जानें न्यूट्रिशियनिस्ट (Nutritionist) की राय.

  • Share this:
कोई बिरला ही होगा जिसे फ्रूट्स (Fruits) नापसंद होंगे. इनकी बात ही ऐसी है कि हर कोई इन्हें पसंद करता है केवल इनके स्वाद की वजह से नहीं बल्कि इनसे हेल्थ को होने वाले फायदों की वजह से भी. कोई इन्हें एक पूरे मील (Meal) के तौर पर ले लेता है, तो कोई खाने से पहले और कोई खाने के बाद, लेकिन फ्रूट्स कैसे लिए जाएं और इन्हें लेने का सही वक्त और तरीका क्या है यह जान लें तो इन्हें खाने से हेल्थ को दोगुना फायदा होता है. ऐसे में इस बारे में न्यूट्रिशियनिस्ट (Nutritionist) की राय जान ले तो ये सोने पे सुहागा होने जैसा है. आइए जानते हैं फ्रूट्स खाने को लेकर  न्यूट्रिशियनिस्ट की राय.

सही जवाब पाना है थोड़ा मुश्किलः  

हालांकि फ्रूट्स खाने का सबसे अच्छा समय क्या होना चाहिए इसका कभी भी सही जवाब नहीं पाया जा सकता है. इसके पीछे एक साधारण सी वजह यह है कि हर किसी के डाइट और खाने के पैटर्न अलग हैं. एक व्यक्ति सुबह सबसे पहले फ्रूट्स खा सकता है या खाने के बाद इन्हें ले सकता है. यह उसकी निजी पसंद है. तो यह ऐसे किसी दूसरे व्यक्ति के खाने के पैटर्न से बिल्कुल अलग हो सकता है जो खाने के साथ ही फ्रूट्स लेना पसंद करता है. लेकिन यदि आप अपना वजन कम करना चाहते हैं या फिर आप डायबिटीज के रोगी हैं तो फिर आपको अपने फ्रूट्स खाने के वक्त पर ध्यान देना बेहद जरूरी हो जाता है.

इसे भी पढ़ेंः सही समय पर खाएंगे फल, तो मिलेगा दोगुना फायदा  
फ्रूट्स न खाएं बेवक्त और बेतरीकाः  

सेलिब्रिटी न्यूट्रिशियनिस्ट पूजा मखीजा ने हाल ही में फ्रूट्स खाने के वक्त और तरीके को लेकर अपने इंस्टाग्राम पर कुछ विशिष्ट वजहों के बारे में बताया है. उनके मुताबिक आपको अपने मील के साथ या मील के बाद डिज़र्ट के तौर पर फ्रूट्स नहीं खाने चाहिए. इसकी वजह यह है कि फ्रूट्स में एक में एक वाष्पशील पोषण (volatile nutrition) होता है जो विटामिन, खनिज और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है. मेन मील के कार्ब्स, फैट और प्रोटीन के साथ पचने के इंतजार में यह उड़ जाते हैं या खत्म हो जाते हैं. इस तरह से भले ही आप अपने मेन मील के साथ एक छोटी कटोरी फ्रूट्स खा रहे हों, यह आपके खाने में अधिक कैलोरी जोड़ने के अलावा कोई फायदा नहीं करेगा, और आपको वह पोषण भी नहीं मिलेगा जो आप शायद उनसे चाह रहे हैं. इसके अलावा खाने के बाद डिज़र्ट के तौर पर फ्रूट्स खाना भी सेहत की नजर से अच्छा नहीं है. यह केवल आपके खाने के कैलोरी पूल का ही हिस्सा बनेगा और इससे कोई फायदा नहीं होगा. उलटा ये शरीर में फैट के तौर पर स्टोर हो जाएगा क्योंकि जो भी खाना शरीर इस्तेमाल नहीं करता वह फैट के तौर पर स्टोर होता जाता है.

फ्रूट्स खाने का बेहतरीन वक्तः



आखिरकार फल यानी फ्रूट्स खाने का सबसे बेहतरीन वक्त कौन सा है. न्यूट्रिशियनिस्ट की माने तो

फल खाने का सबसे अच्छा वक्त एक अलग स्टैंडअलोन (Standalone) स्नैक के रूप में है. यह आपको एक डैश (Dash) फाइबर और एंटीऑक्सिडेंट देगा,जो आपके मेन मील से पहले उठने वाले  हंगर पैंग्स से राहत देगा. इस वजह से आपके मेन मील की भूख बरकरार रहेगी और पेट भरा-भरा लगने की परेशानी भी नहीं होगी. सुबह के वक्त या दिन के पहले मील के रूप में फ्रूट्स लेना हेल्दी रहता है और यह दिन की सही शुरुआत करने का बेहतर तरीका है. इससे पाचन को बढ़ाने में भी मदद मिलती है.

इसे भी पढ़ेंः Health Explainer: सेहत के लिए क्या बेहतर है- साबुत फल या फलों का जूस, जानें सही जवाब

फ्रूट्स हैं बैलेंस्ड डाइटः  

सभी के लिए, यह जानना भी अहम है कि फ्रूट्स खाना एक हेल्दी और बैलेंस्ड डाइट माना जाता है. लेकिन, उनसे अधिकतम फायदा लेने के लिए, आपको उन्हें सही पैटर्न में खाना चाहिए, जैसा कि ऊपर बताया गया है. यह भी सुनिश्चित करें कि आपके पास स्थानीय और मौसमी फल हों, क्योंकि ये आपके आहार में विविधता की सुविधा देते हैं और गट फ्लोरा (gut flora) सुधार करते हैं (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज