• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • Sawan 2021: व्रत में क्‍यों खाया जाता है कुट्टू का आटा? जानिए इसके 6 फायदे

Sawan 2021: व्रत में क्‍यों खाया जाता है कुट्टू का आटा? जानिए इसके 6 फायदे

कुट्टू का आटा दरअसल पोषक तत्‍वों से भरपूर होता है. Image Credit : shutterstock

कुट्टू का आटा दरअसल पोषक तत्‍वों से भरपूर होता है. Image Credit : shutterstock

What Is Buckwheat Flour And Its Benefits : सावन (Sawan) के सोमवार में लोग व्रत रखते हैं और कुट्टू के आटे (Buckwheat Flour) से बनी पूड़ियां, पराठे, पकौड़े, चीला आदि बनाकर खाना पसंद करते हैं. आइए जानते हैं इसके बारे में.

  • Share this:

    What Is Buckwheat Flour And Its Benefits: सावन (Sawan) का महीना शुरू हो चुका है. इस महीने में लोग सोमवार का व्रत आदि रखते हैं. व्रत के दिन लोग फलाहार करते हैं और कुट्टू के आटे से बनी पूरियां, पराठे, चीला आदि खाना पसंद करते हैं.  कुट्टू को अंग्रेजी में बकव्हीट (Buckwheat) कहा जाता है लेकिन इसका किसी तरह के अनाज से कोई संबंध नहीं होता है. बकव्हीट पौधे से प्राप्त फल तिकोने आकार के होते हैं जिन्‍हें पीसकर इस आटे को तैयार किया जाता है. छोटे आकार के इस पौधे में गुच्छों में फूल और फल आते हैं. भारत में इसकी खेती हिमालय के कुछ हिस्सों में की जाती है. जैसे जम्मू-कश्मीर, हिमाचल, उत्तराखंड और दक्षिण के नीलगिरी में जबकि नॉर्थ ईस्ट राज्यों में उगाया जाता है.

    पोषण से भरपूर कुट्टू का आटा

    कुट्टू का आटा दरअसल पोषक तत्‍वों से भरपूर होता है. इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन, मैग्नीशियम, विटामिन-बी, आयरन, कैल्शियम, फॉलेट, जिंक, कॉपर, मैग्नीज और फासफोरस पाया जाता है.  इसमें मौजूद फाइटोन्यूट्रिएंट रूटीन कोलेस्ट्रोल और ब्लड प्रेशर को कम करता है. जो लोग सेलियक रोग से पीड़ित हैं उन्‍हें इसे खाने की सलाह दी जाती है.

    मधुमेह को करे दूर

    कूटू में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है. फाइबर रक्त शर्करा के स्तर को बहुत तेजी से बढ़ने से रोकता है. इसके साथ ही कूटू में एंटीडायबिटिक गुण पाए जाते हैं जो टाइप 2 मधुमेह के नियंत्रण में सहायक होते हैं.

    इसे भी पढ़ें : वेजाइनल इन्फेक्शन को दूर करने में प्रोबायोटिक्स है फायदेमंद, जानिए कैसे करता है काम

    पित्त की पथरी की रोकथाम

    कुट्टू में पाई जाने वाली प्रोटीन की मात्रा पित्त में मौजूद पथरी के गठन और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करती है. कुट्टू के प्रयोग से शरीर में बाइल एसिड का निर्माण होता है जिस कारण पित्त की पथरी से छुटकारा मिल सकता है.

    रक्तचाप को करे नियंत्रित

    कूटू को मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो रक्त वाहिकाओं को आराम पहुंचाकर रक्तचाप में सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

    ह्रदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी

    कूटू में नियासिन, फोलेट, विटामिन बी और विटामिन बी 6 जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद हैं. कूटू में मौजूद विटामिन रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है और नियासिन के कारण एचडीएल कोलेस्ट्रॉल यानी अच्छे कोलेस्ट्रॉल के स्तर में सुधार होता है. इससे रक्त वाहिकाएं बेहतर तरीके से काम करती हैं और एलडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद मिलती है.

    इसे भी पढ़ें : कच्चे दूध का सेवन सेहत के लिए है खतरनाक, जान लें ये नुकसान

    हड्डियों को बनाता है मजबूत

    कुट्टू में कैल्शियम, प्रोटीन, मैग्नीशियम, फास्फोरस और पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो हड्डियों और दांतों को मजबूत रखते हैं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज