Home /News /lifestyle /

health news what is vitamin b12 deficiency its signs and symptoms food sources in hindi ans

नाखूनों में भी दिखते हैं विटामिन बी12 की कमी के संकेत, जानें स्वस्थ रहने के लिए क्यों जरूरी है ये पोषक तत्व

शरीर में विटामिन बी12 की कमी होने से तंत्रिका संबंधी समस्याएं जैसे सुन्नता या झुनझुनी हो सकती है.

शरीर में विटामिन बी12 की कमी होने से तंत्रिका संबंधी समस्याएं जैसे सुन्नता या झुनझुनी हो सकती है.

Vitamin B12 Deficiency: विटामिन बी 12 मेटाबॉलिज्म को सुधारता है. जब शरीर में विटामिन बी 12 की कमी हो जाती है, तो रेड ब्लड सेल्स की संख्या भी शरीर में कम होने लगती है. इससे व्यक्ति एनीमिया से ग्रस्त हो सकता है. आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी है या नहीं, इन्हें कई लक्षणों से आप पहचान सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...

Symptoms of Vitamin B12 Deficiency: शरीर के लिए जिस तरह से विटामिन ए, सी, डी, के आदि जरूरी होते हैं, वैसे ही विटामिन बी 12 भी स्वस्थ रहने के लिए बहुत ही आवश्यक पोषक तत्व है. विटामिन बी 12 मेटाबॉलिज्म को सुधारता है. शरीर में विटामिन बी 12 की पूर्ति होने से रूमेटाइड अर्थराइटिस, अल्जाइमर डिजीज, कई तरह के शारीरिक दर्द से बचाव होता है. जब शरीर में विटामिन बी 12 की कमी हो जाती है, तो रेड ब्लड सेल्स की संख्या भी शरीर में कम होने लगती है. इससे व्यक्ति एनीमिया से ग्रस्त हो सकता है. इससे शरीर में खून की कमी हो जाती है. मस्तिष्क, नर्वस सिस्टम में भी कुछ समस्याएं आने लगती हैं. ऐसे में बेहद जरूरी है कि आप अपनी डाइट में विटामिन बी 12 से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करें.

इसे भी पढ़ें: कैंसर से बचना है तो विटामिन बी 6 की कमी को पूरा कीजिए, जानिए इसके अन्य फायदे

क्या होता है विटामिन बी12
विटामिन बी12 को कोबालामिन भी कहा जाता है. यह विटामिन चयापचय में शामिल वाटर सॉल्युबल विटामिन है. यह प्लांट बेस्ड फूड्स में कम और एनिमल फूड्स में अधिक मौजूद होता है. शरीर में यह सेल्स, रक्त का निर्माण करता है. सेल्स को डिवाइड करना, नर्वस सिस्टम को हेल्दी बनाए रखना भी इसका काम है. यह व्हाइट ब्लड सेल्स को भी बनाने में मदद करता है. प्रेग्नेंसी में भी गर्भवती महिलाओं को विटामिन बी12 खाने की सलाह दी जाती है. गर्भ में पल रहे शिशु के मस्तिष्क के विकास में मदद करता है.

शाकाहारी लोग और विटामिन बी 12
जो लोग शाकाहारी खाना खाते हैं, उनके शरीर में विटामिन बी 12 की कमी अधिक हो सकती है, क्योंकि यह किसी भी प्लांट बेस्ड फूड्स में अधिक मौजूद नहीं होता है. यह अंडा, दूध में होता है, लेकिन मांस-मछली में विटामिन बी12 प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है, जिससे सख्त शाकाहारी भोजन का पालन करने वाले लोगों के लिए विटामिन बी12 की आवश्यक मात्रा प्राप्त करना मुश्किल हो जाता है. ऐसे में इस विटामिन की कमी होने से शरीर में कई तरह के संकेत नजर आते हैं और एक संकेत आपके नाखूनों में भी दिख सकते हैं.

विटामिन बी12 की कमी के संकेत
मिरर डॉट को डॉट यूके में छपी एक रिपोर्ट के अनुसार, जब शरीर में आवश्यक विटामिन बी12 की कमी होती है, तो कई असामान्य लक्षण नजर आ सकते हैं, जिसमें से एक है नाखूनों में बदलाव या इससे संबंधित कोई समस्या होना. इस विटामिन की कमी होने से हाथों-पैरों के नाखूनों के रंग में बदलाव नजर आने लगता है. आयरन और विटामिन बी 12 नाखूनों को हेल्दी और मजबूत रखने के लिए जरूरी होते हैं. हाल ही में बीएमजे में प्रकाशित एक अध्ययन में विटामिन बी12 की कमी के कारण होने वाले नाखून में नजर आने वाले लक्षणों की जांच की गई.
शोध में एक 12 वर्षीय लड़के को केस स्टडी के लिए शामिल किया गया था. इस लड़के के तीन महीने में दोनों हाथों और पैरों के नाखून काले हो गए थे. अध्ययन में कहा गया है कि गंभीर रूप से विटामिन बी 12 की कमी होने से नाखूनों खासकर अंगूठे के नाखूनों में पिग्मेंटेशन और हाइपरपिग्मेंटेशन की समस्या देखी गई. बच्चे को सात दिनों के लिए विटामिन बी12 थेरेपी दी गई. लगातार चार सप्ताह तक प्रत्येक सप्ताह इंजेक्शन के साथ-साथ ओरल बी12 सप्लिमेंट्स दिए गए. विटामिन बी12 थेरेपी लेने से एक महीने बाद ही बच्चे में सुधार देखा गया.

इसे भी पढ़ें: क्या आप वेजिटेरियन हैं और अक्सर विटामिन बी12 की कमी से जूझते हैं? ये फूड्स करेंगे मदद

विटामिन बी12 की कमी के लक्षण

  • कमजोरी, थकान या चक्कर आना
  • दिल की धड़कनें बढ़ना
  • सांस की तकलीफ
  • त्वचा का पीला होना
  • जीभ का चिकना महसूस होना
  • कब्ज, दस्त
  • भूख न लगना, गैस की समस्या
  • तंत्रिका संबंधी समस्याएं जैसे सुन्नता या झुनझुनी
  • मांसपेशियों में कमजोरी और चलने में समस्या
  • दृष्टि खोना
  • डिप्रेशन
  • याद्दाश्त कम होना
  • व्यवहार में बदलाव

विटामिन बी12 के मुख्य फूड सोर्स
यदि आपके शरीर में विटामिन बी 12 की कमी ना हो या फिर नाखूनों का रंग बदला हुआ दिखे, पिग्मेंटेशन की समस्या हो, भूख ना लगे, दिल की धड़कनें तेज हों, सांस लेने में तकलीफ आदि लक्षण नजर आएं, तो आप डॉक्टर से जरूर मिलें. साथ ही अपने खानपान में अंडा, दूध, मीट, मछली, चिकन, चीज, अनाज, समुद्री फूड्स, ब्रोकली, सैल्मन फिश, ऑइस्टर आदि का सेवन करें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर