होम /न्यूज /जीवन शैली /जब बच्चे खुद की करें बॉडी शेमिंग, अपनाएं ये टिप्स

जब बच्चे खुद की करें बॉडी शेमिंग, अपनाएं ये टिप्स

जब बच्चे करें बॉडी शेमिंग तो उन्हें समझाएं.(Image:shutterstock.com)

जब बच्चे करें बॉडी शेमिंग तो उन्हें समझाएं.(Image:shutterstock.com)

कई बार बच्चे खुद की लोगों से तुलना करते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    Parenting tips- आजकल के बच्चे (Kids)अपनी सेहत और अपने लुक को  लेकर बहुत ज्यादा सतर्क (Alert)रहते हैं. कई बार बच्चे खुद की लोगों से तुलना करते हैं. इसी का नतीजा है कि बच्चे खुद को मोटा और पतला भी कहने लगते हैं. खास कर यह दिक्कत लड़कियों में ज्यादा होती है. इंटरनेशनल जर्नल ऑफ ईटिंग डिसऑर्डर में 2015 के एक अध्ययन के अनुसार, 34 प्रतिशत लड़कियां 5 साल की उम्र से अपने खाने को प्रतिबंधित कर रही हैं ताकि वे मोटी न हों. अगर आपका बच्चा भी इसी तरह की  बात करता है तो आप उसको इन तरीकों से समझाएं

    पहले खुद को सुधारें

    बच्चे मां बाप को सुनते हैं और समझते हैं. कई बार जब हम अपने शरीर के बारे में मोटे पतले होने की बात करते हैं. तो बच्चे उस बात को बहुत ज्यादा समझ तो नहीं पाते लेकिन उस पर अपनी प्रतिक्रिया जरुर दे देते हैं.तो इस बात का विशेष ध्यान रखें कि बच्चों के सामने कभी किसी के बारे में या खुद के बारे में मोटे पतले होने की बात ना करें, ना ही कभी रंग को लेकर कोई बात करें. इसका बच्चों पर बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ता है और वह फिर वैसी ही बात खुद को लेकर भी करने लगते हैं.

    आप रखें  नजर

     किशोरावस्था के दौरान लड़कियों का वजन बढ़ना स्वाभाविक है लेकिन कितना बढ़ना चाहिए. इसका ध्यान रखना जरूरी है कई बार इस स्थिति में भी लड़कियां अपने पेरेंट्स से शिकायत करती  हैं कि उनका वजन बढ़ रहा है या वह मोटी हो रही हैं. आप उनको प्यार से समझाएं कि यह ऐसी स्थिति है जिसमें सब का वजन बढ़ता है. ऐसा नहीं होना चाहिए कि बच्चे उस टाइम पर सही ढंग से खाना ना खाएं.इससे उनको पोषक तत्व नहीं मिलेगा और फिर उनका विकास भी सही ढंग से नहीं होगा.

    यह भी पढ़ें- नहीं छूट रही स्मोकिंग की लत? अपनाएं ये घरेलू नुस्खे और छोड़ें घूम्रपान

    परवरिश हो सही 

    बच्चे वही करेंगे, वही सुनेंगे जो आप कहेंगे. बच्चों में शुरू से रंग-रूप, कद-काठी को लेकर कोई भेदभाव न पनपने दें.  बच्चों को यह सिखाएं के रंग रूप और कद काठी से कहीं ज्यादा जरूरी है एक अच्छा इंसान बनना. आपकी प्रतिक्रिया बच्चों की सोच को बनाती है अगर आप किसी के बारे में इस तरह की बात करेंगे. तो बच्चा भी खुद के बारे में और लोगों के बारे में वैसी ही भावना बनाएगा. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Home, Kids, Parenting tips

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें