Home /News /lifestyle /

कैल्शियम सप्लीमेंट से फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है

कैल्शियम सप्लीमेंट से फायदे की जगह नुकसान भी हो सकता है

कैल्शियम सप्लीमेंट की जगह लें कैल्शियम रिच फूड (Image- Shutterstock)

कैल्शियम सप्लीमेंट की जगह लें कैल्शियम रिच फूड (Image- Shutterstock)

Calcium supplements: सरकारी गाइडलाइन के मुताबिक कैल्शियम सप्लीमेंट की जगह कैल्शियम युक्त फूड्स का सेवन करना सेहत के लिए ज्यादा फायदेमंद है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    Calcium supplements: शरीर में पाए जाने वाले मिनरल्स में सबसे ज्यादा कैल्शियम पाया जाता है. यह हड्डियों और दांतों के लिए आवश्यक पोषक तत्व है. हमारे शरीर की हड्डियों और दांतों का 90 प्रतिशत हिस्सा कैल्शियम से ही बनता है. कैल्शियम मसल्स के मूवमेंट और हार्ट के फंक्शन में भी मदद करता है. इसके अलावा कैल्शियम दिमाग और शरीर के अन्य हिस्सों के बीच हेल्दी संपर्क के लिए भी जरूरी है. इतने सारे गुण होने के कारण कैल्शियम हमारे शरीर के लिए बहुत महत्व रखता है. इसलिए इन दिनों लोग कैल्शियम सप्लीमेंट लेने पर जोर दे रहे हैं पर विशेषज्ञों के मुताबिक कैल्शियम सप्लीमेंट की उतनी जरूरत नहीं है जितनी लोग लेते हैं. द हेल्थसाइट के मुताबिक कैल्शियम सप्लीमेंट लेते समय सावधानियां बरतने की जरूरत है, वरना इसका उल्टा असर भी हो सकता है. इसलिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि कैल्शियम की कमी है या नहीं. कुछ लक्षणों के आधार पर कैल्शियम की कमी का पता लगाया जा सकता है.

    इसे भी पढ़ेंः बच्चे की कम हाइट को लेकर हैं परेशान, इन आदतों में सुधार से हो सकता है फायदा

    कैल्शियम की कमी के लक्षण
    -कंफ्यूजन और मेमोरी लॉस.
    -मांसपेशियों में ऐंठन.
    -हाथ, पैर या चेहरे में कभी-कभी सुन्नापन या झुनझुनी होना.
    -अवसाद.
    -मतिभ्रम.
    -मसल्स क्रेंप.
    -नाखून का कमजोर होना या निकल जाना.
    -आसानी से हड्डी फ्रेक्चर हो जाना.

    डॉक्टरों की सलाह से ही कैल्शियम की गोली लें
    अगर ये लक्षण दिखें तो भी यह तय नहीं हो पाएगा कि लोगों को वास्तव में कैल्शियम की कमी है. इसके लिए कैल्शियम की जांच जरूरी है. कैल्शियम की जांच से यह पता लगाया जाता है कि खून में कैल्शियम की कितनी मात्रा है. एक सामान्य वयस्क व्यक्ति में प्रति डेसीलीटर खून में 8.5 से 10.5 मिलीग्राम कैल्शियम की मात्रा होनी चाहिए. दूसरी जांच है आयोनाइज्ड कैल्शियम की. एक स्वस्थ्य वयस्क में प्रति डेसीलीटर खून में 4.65 से 5.2 मिलीग्राम आयोनाइज्ड कैल्शियम की मात्रा होनी चाहिए. अगर खून में कैल्सियम की मात्र कम है तो सिर्फ डॉक्टरों की सलाह से ही कैल्शियम की गोली लेनी चाहिए. सरकारी गाइडलाइन के मुताबिक शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट की जगह कैल्शियम युक्त फूड्स का सेवन करना ज्यादा बेहतर है.

    इसे भी पढ़ेंं-डायबिटीज की वजह से भी आता है आंखों में धुंधलापन, बचाव के लिए ये तरीके अपनाएं

    सप्लीमेंट लेने से हार्ट रोग का खतरा
    बीबीसी की ख़बर के मुताबिक जर्मनी में कुछ शोधकर्ताओं का कहना है कि जो लोग कैल्शियम के लिए अलग से दवा लेते हैं उन्हें दिल का दौरा पड़ने का ज्यादा खतरा होता है. हार्ट नाम की पत्रिका में छपे शोध में कहा गया है कि कैल्शियम सप्लीमेंट सावधानी से लेने चाहिए. विशेषज्ञों का मानना है कि इसके बजाए संतुलित डाइट लेना बेहतर तरीका होगा, खासकर जिसमें कैल्शियम शामिल हो. जर्मन कैंसर रिसर्च सेंटर के शोधकर्ताओं ने एक दशक से भी ज्यादा समय तक 23980 लोगों का अध्ययन किया है. अध्ययन के दौरान पाया गया कि कैल्शियम के लिए दवा लेने वाले लोगों में दिल का दौरा पड़ने के आसार 86 फीसदी ज्यादा हैं.

    Tags: Health, Lifestyle

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर