Home /News /lifestyle /

बच्चे को 6 महीने बाद देना शुरू करें सॉलिड फूड, ऐसी होनी चाहिए तैयारी

बच्चे को 6 महीने बाद देना शुरू करें सॉलिड फूड, ऐसी होनी चाहिए तैयारी

बेबी राइस या बेबी सिरिल भी बच्चे के सामान्य दूध के साथ मिला कर दे सकते हैं. Shutterstock

बेबी राइस या बेबी सिरिल भी बच्चे के सामान्य दूध के साथ मिला कर दे सकते हैं. Shutterstock

Feeding your baby: जीवन के पहले घंटे से लेकर 6 महीने की उम्र तक, आपका शिशु आपके दूध से वह सभी पोषण प्राप्त कर सकता है

    When to start with solid: बच्चे को जब सॉलिड फ़ूड खिलाना होता है तो कई सवाल दिमाग में आते हैं. कब खिलाएं क्या खिलाएं? लेकिन ये जानना ज़रूरी है बच्चे के लिए क्या आवश्यक है. यूनिसेफ के अनुसार जीवन के पहले घंटे से लेकर 6 महीने की उम्र तक, आपका शिशु आपके दूध से वह सभी पोषण प्राप्त कर सकता है, जो उसे बढ़ने और विकसित होने के लिए चाहिए. उसे किसी और चीज की जरूरत नहीं है. फिर कई लोग सलाह देते हैं की बच्चे को सॉलिड फ़ूड यानि अनाज देना शुरू कर देना चाहिए.

    छह माह के पहले न दें सॉलिड फूड

    6 महीने की उम्र से पहले अपने बच्चे को स्तनपान या फार्मूला के अलावा अन्य खाद्य पदार्थ या तरल पदार्थ देने से बचें. इससे उसे दस्त जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है, जो उसे दुबला और कमजोर बना सकता है. इतना ही नहीं ये बच्चे के जीवन के लिए खतरनाक भी हो सकता है. इसलिए बच्चे को छह माह तक सिर्फ दूध ही दें. इस अवधि के दौरान पानी, चाय, जूस, दलिया या कोई अन्य खाद्य पदार्थ या तरल पदार्थ नहीं देना चाहिए.

    कब दें बच्चे को सॉलिड आहार 

    जैसे-जैसे आपका शिशु बड़ा होता है, उसके साथ उसकी पोषण संबंधी जरूरतें भी बढ़ती हैं. जीवन के पहले दो वर्षों के दौरान, हर आहार का 75 प्रतिशत तक आपके बच्चे के मस्तिष्क के निर्माण में जाता है. इसलिए अपने बच्चे को ठोस खाद्य पदार्थों यानि सॉलिड फ़ूड से कब परिचित कराया जाए. उसके लिए समय का सही होना ज़रूरी है.  जब बच्चा छह माह का हो जाये तब उसे दिन में दो बार केवल दो से तीन चम्मच नरम भोजन, जैसे दलिया, मसले हुए फल या सब्जियां देना शुरू करें. इसके साथ ही पहले की तरह बार-बार स्तनपान या फार्मूला देना जारी रखें.

    यह भी पढ़ें :क्या बहुत रोता है आपका नवजात शिशु? कहीं उसे कॉलिक तो नहीं

    इन मिथ से बचें 

    जब बच्चे को सॉलिड देना शुरू करें तो साबुन से हाथ धोने के बाद ही कुछ खिलाएं. कई बार लोग ये भी सलाह देते मिल जायेंगे की बच्चा अगर बार- बार मुंह में हाथ डाले तो उसे सॉलिड देना चाहिए. लेकिन ऐसा कतई न करें.

    स्तनपान न करने वाले बच्चे

    यदि आप अपने बच्चे को स्तनपान नहीं कराती हैं, तो भी ठोस आहार से परिचित कराने का सबसे अच्छा समय भी 6 महीने का ही है. यही  उम्र सभी शिशुओं के लिए सही है, चाहे वे स्तनपान कर रहे हों या नहीं.

    यह भी पढ़ें :ज्यादा सफाई बच्चों की इम्यूनिटी को कर सकती है कमजोर

    ठोस भोजन शुरू करने के लिए बहुत लंबा इंतजार न करें

    आपके बच्चे के शरीर को अतिरिक्त ऊर्जा और पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है ताकि वह बढ़ते रहें. बहुत दिनों तक इंतज़ार करने से आपके शिशु का स्वास्थ्य प्रभवित हो सकता है. इसका असर बच्चे के  वजन पर भी पड़ सकता है. छह माह का होने पर बच्चे को ठोस आहार देना शुरू कर देना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि उनके बढ़ते शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषण उन्हें मिल रहा है.

    (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

    Tags: Kids, Parenting, Parenting tips

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर