• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • HEALTH NEWS WORLD NO TOBACCO DAY 2021 STOP FAMILY MEMBERS AND FRIENDS FROM SMOKING FOLLOW THESE TIPS PUR

World No Tobacco Day 2021: परिवार वालों और दोस्तों को स्मोकिंग करने से ऐसे रोकें, अपनाएं ये टिप्स

धूम्रपान एक महंगी लत है और यह लत बढ़ती ही जाती है. Image-shutterstock.com

World No Tobacco Day 2021: किसी को भी धूम्रपान (Smoking) से रोकने से पहले आपको खुद धूम्रपान नहीं करना चाहिए. लोगों के लिए रोल मॉडल बनें और सुनिश्चित करें कि आपके आसपास रहने वाला कोई भी युवा तम्‍बाकू (Tobacco) उत्पादों का किसी भी प्रकार से सेवन न करें.

  • Share this:
    World No Tobacco Day 2021: तम्‍बाकू (Tobacco) के दुष्प्रभावों के बारे में जानने के बावजूद दुनियाभर में कई लोग इसके विभिन्न उत्पादों का सेवन करते हैं. आपको बता दें कि तम्बाकू का हमारे जीवन पर बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ता है. तम्‍बाकू की वास्तविकता लोगों को सोचने पर मजबूर कर देती है. कई रिपोर्टों के मुताबिक तम्‍बाकू उत्पादों का सेवन करने वाले आधे से ज्यादा लोगों की इसी वजह से मौत हो जाती है. तम्‍बाकू उत्पादों का लगातार सेवन करने वालों को इसकी लत लग जाती है. इसके बाद उनके लिए इसे छोड़ पाना काफी मुश्किल हो जाता है. लोगों को तंबाकू का सेवन करने से रोकने और तंबाकू की वजह से स्वास्थ को होने वाले नुकसान के बारे में जागरूक करने के उद्देश्य से, विश्व भर में हर वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस यानी वर्ल्ड नो टोबैको डे (World No Tobacco Day) मनाया जाता है. आइए आपको बताते हैं कि किस प्रकार से आप अपने परिजनों और दोस्तों को इस भयानक लत से बचा सकते हैं.

    युवाओं को धूम्रपान से बचाने के कुछ खास टिप्स

    सही तरीके से समझाने की कोशिश करें
    किसी को भी धूम्रपान से रोकने से पहले आपको खुद धूम्रपान नहीं करना चाहिए. लोगों के लिए रोल मॉडल बनें और सुनिश्चित करें कि आपके आसपास रहने वाला कोई भी युवा तम्‍बाकू उत्पादों का किसी भी प्रकार से सेवन न करें. अपने बच्चों और अन्य लोगों के साथ अपने अनुभवों को शेयर करें और उन्हें धूम्रपान से होने वाले नुकसानों के बारे में बताएं.

    इसे भी पढ़ेंः अपनी सलाद की प्लेट में जरूर रखें ये चीजें, बढ़ेगी इम्यूनिटी और वजन पर रहेगा कंट्रोल

    बच्चों से चर्चा करें न कि उन्हें डराएं
    बच्चों को डांटना, धमकाना और डराना कभी-कभी तो काम कर जाता है, लेकिन बार-बार ऐसा करने से वह जिद्दी बन जाते हैं. फिर वह चोरी छिपे उन चीजों को करने की कोशिश करते हैं, जिनसे आप उन्हें रोक रहे होते हैं. इसलिए जरूरी है कि आप एक ऐसा माहौल बनाएं, जहां बातचीत संभव हो, जहां बच्चे बिना डर के अपनी बातें आपसे शेयर कर सकें. ये ऐसे रास्ते हैं, जिनके माध्यम से आप बच्चों की आदतों के बारे में जान पाएंगे और उन्हें सही गलत के बारे में बता भी सकेंगे.

    बच्चों को शिक्षित करें
    बच्चों को सिर्फ धूम्रपान और तम्‍बाकू के सेवन के दुष्प्रभावों और डरावनी बातें बता कर आप नहीं समझा सकते हैं. बच्चे स्मार्ट होते हैं, इसलिए उन्हें बताएं कि इसके नुकसान क्या हैं, उसके पीछे तर्क क्या है? किस प्रकार से मार्केटिंग रणनीति और विज्ञापन के जरिए इन उत्पादों को लोगों की जान की परवाह किए बिना बेचा जा रहा है. तर्क के साथ बात करेंगे तो उन्हें ज्यादा आसानी से समझा सकेंगे.

    शरीर पर पड़ने वाले प्रभावों को बताएं
    अपनों को बताएं कि तम्‍बाकू के सेवन से शरीर पर क्या असर होता है. किस प्रकार से पूरा शरीर खराब हो जाता है. उन्हें बताएं कि तम्‍बाकू ​के सेवन से शक्ति पर असर होता है, सांसों से बदबू आती है, दांत और होंठ खराब हो जाते हैं. यहां तक कि कैंसर भी हो सकता है. बच्चों से पूछें कि क्या वह भी अपने शरीर के साथ ऐसा ही करना चाहते हैं.

    धूम्रपान के खर्च के बारे में समझाएं
    धूम्रपान एक महंगी लत है और यह लत बढ़ती ही जाती है. बच्चों को समझाएं ​कि धूम्रपान की आदत के चलते उन्हें कितना पैसा खर्च करना पड़ सकता है. उनसे पूछें कि क्या वह अपना पैसा बर्बाद करना चाहते हैं या उस पैसे का इस्तेमाल ट्रेंडी कपड़े, इलेक्ट्रॉनिक्स जैसी चीजों को खरीदने में करना चाहते हैं.

    इसे भी पढ़ेंः कोरोना काल में 'तुलसी काढ़ा' करेगा कमाल, इम्यूनिटी से लेकर शूगर लेवल तक सब रहेगा कंट्रोल

    धूम्रपान के सभी विकल्पों से दूर रखें
    आजकल के युवा ई-सिगरेट, हुक्का, शीशा, वेप्स, आदि सिगरेट के मॉर्डन और कम हानिकारक विकल्पों के रूप में भी प्रचलित हैं. बच्चों को समझाएं कि इन उत्पादों से भी स्वास्थ्य को उतना ही नुकसान है जितना सिगरेट से. इन उत्पादों और उनके दुष्प्रभावों के बारे में बच्चों को विस्तार से समझाएं.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)