होम /न्यूज /जीवन शैली /सिर्फ बूस्‍टर या पहली-दूसरी डोज में भी ले सकेंगे नेजल वैक्‍सीन? NTAGI चीफ ने बताया

सिर्फ बूस्‍टर या पहली-दूसरी डोज में भी ले सकेंगे नेजल वैक्‍सीन? NTAGI चीफ ने बताया

भारत बायोटेक की नेजल वैक्‍सीन को सिर्फ बूस्‍टर ही नहीं बल्कि कोरोना वैक्‍सीन की दोनों डोज के रूप में भी लिया जा सकेगा. 
(File Photo)

भारत बायोटेक की नेजल वैक्‍सीन को सिर्फ बूस्‍टर ही नहीं बल्कि कोरोना वैक्‍सीन की दोनों डोज के रूप में भी लिया जा सकेगा. (File Photo)

नेशनल इम्‍यूनाइजेशन टैक्निकल एडवाइजरी ग्रुप के चेयरमैन डॉ. एन के अरोड़ा ने न्‍यूज18 हिंदी से बातचीत में बताया कि भारत म ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस (Corona Virus) के खिलाफ भारत ने हाल ही में भारत बायोटेक की नेजल वैक्‍सीन (Nasal Vaccine) की मंजूरी दी है. परंपरागत वैक्‍सीन से अलग इस नेजल वैक्‍सीन को नाक के द्वारा दिया जाएगा. बिना इंजेक्‍ट किए, इस वैक्‍सीन की नाक में सिर्फ दो बूंद डाली जाएंगी और यह कोरोना को भगाने में कारगर होगी. वैक्सीन को शुक्रवार से टीकाकरण अभियान में शामिल किया गया है और कोविन पोर्टल में शामिल करने की तैयारी की जा रही है. फिलहाल इसकी कीमत को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय और कंपनी के बीच में बातचीत की जा रही है.

ये भी पढ़ें- नेजल वैक्‍सीन iNCOVACC की पहली-दूसरी डोज के बीच कितना होगा अंतराल? जानें

भारत बायोटेक की इनकोवैक (iNCOVACC) नेजल वैक्‍सीन परंपरागत वैक्‍सीन से अलग है. यह वैक्‍सीन सांस प्रणाली के ऊपरी हिस्‍से यानि नाक और गले में कोरोना के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता उत्‍पन्‍न करती है. ऐसे में न केवल यह संक्रमण (Infection) को रोकती है बल्कि रोग के खिलाफ भी लड़ती है. अभी चूंकि भारत में 97 फीसदी लोग कोरोना वैक्‍सीन की पहली डोज और करीब 90 फीसदी लोग दूसरी डोज ले चुके हैं ऐसे में इस नेजल वैक्‍सीन को बूस्‍टर डोज (Booster Dose) के रूप में उपयोग किया जाएगा.

आंकड़ों के अनुसार भारत में 27 फीसदी लोगों ने ही बूस्‍टर डोज ली है, इनमें हेल्‍थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स ज्‍यादा हैं. जबकि बाकी बचे लोगों ने यह तीसरी सतर्कता डोज नहीं ली है तो अब उम्‍मीद की जा रही है कि इस वैक्‍सीन के आने से लोग आसानी से इसे ले सकेंगे. हालांकि एक सवाल यह भी है कि भारत में पहली और दूसरी डोज न लेने वाले क्रमश 3 और 10 फीसदी लोग भी हैं, तो क्‍या वे इस नेजल वैक्‍सीन का इस्‍तेमाल पहली और दूसरी डोज के रूप में ले सकेंगे?

इस बारे में नेशनल इम्‍यूनाइजेशन टैक्निकल एडवाइजरी ग्रुप (NTAGI) के चेयरमैन डॉ. एन के अरोड़ा ने न्‍यूज18 हिंदी से बातचीत में बताया कि भारत में भारत बायोटेक की नेजल वैक्‍सीन इनकोवैक को न केवल कोवैक्‍सीन (Covaxin) और कोविशील्‍ड (Covishield) की दोनों डोज लेने के बाद सतर्कता डोज यानि बूस्‍टर डोज के रूप में बल्कि कोरोना वैक्‍सीन की पहली और दूसरी डोज के रूप में लेने के लिए भी मंजूरी दी गई है. ऐसे में इसे बूस्‍टर डोज या प्राथमिक रूप से ली जाने वाली दोनों डोज के रूप में लिया जा सकता है. इस वैक्‍सीन का इम्‍यून रेस्‍पॉन्‍स (Immune Response) बहुत ही अच्‍छा है. साथ ही यह लेने में भी आसान और एकदम दर्द रहित है.

Tags: Corona vaccine, Corona Virus

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें