दांत के दर्द को पलभर में दूर कर सकता है अजमोद, जानें कैसे

अस्थमा, ब्रोन्काइटिस जैसी बीमारी के इलाज में अजमोद काफी फायदेमंद है.
अस्थमा, ब्रोन्काइटिस जैसी बीमारी के इलाज में अजमोद काफी फायदेमंद है.

अजमोद (Parsley) को जलाकर इसकी धूनी मुंह में थोड़ी देर रखने से दांतों के दर्द (Toothache) से राहत मिलती है.

  • Last Updated: October 30, 2020, 7:02 AM IST
  • Share this:


अजमोद एक ऐसा औषधीय पौधा है, जो अजवाइन और धनिया की तरह दिखाई देता है. इस पौधे के फूल में अनेक ऐसे गुण हैं, जो शारीरिक स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है. इसमें कपूर की तरह मिलता-जुलता एपीओला नामक पदार्थ होता है, जो तैलीय और सूंघने में तेज होता है. myUpchar के अनुसार, अजमोद में विटामिन ए, विटामिन B1, पोटैशियम, विटामिन B2, पॉलीन, सोडियम, विटामिन B6, एमिनो एसिड और विटामिन सी, प्लांट हार्मोन और इसेंशियल ऑयल पाया जाता है, जो शरीर के लिए फायदेमंद है.

दांतों का दर्द करे दूर



दांतों के दर्द से छुटकारा दिलाने में यह काफी असरदार है. अजमोद को जलाकर इसकी धूनी मुंह में थोड़ी देर रखने से दांतों के दर्द से राहत मिलती है. इसके अलावा अजमोद को पान में रखकर चूसने से सूखी खांसी की समस्या जल्दी ठीक हो जाती है.
हिचकी से तुरंत राहत

कुछ लोगों को खाना खाने के बाद हिचकी आती है. इसका मुख्य कारण है कि खाने को अच्छी तरह से चबाकर नहीं खाया जाता है, जिससे पेट में गैस भर जाती है. ऐसे में अजमोद के 10-15 दाने मुंह में रखने से हिचकी तुरंत बंद हो जाती है.

कोलेस्ट्रॉल दूर करता है अजमोद

जिन लोगों को हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या है, उनके लिए अजमोद फायदेमंद हो सकता है. एक अध्ययन के मुताबिक, अजमोद में ब्यूटिल प्थैलाइड पाया जाता है. यह शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल (एलडीएल) को कम करने में मदद करता है. इसके अलावा अजमोद में अत्यधिक मात्रा में फाइबर होता है, जो पाचन ठीक करने में मदद करता है.

दूर होता है यूरिनरी इंफेक्शन

अजमोद शरीर में यूरिक एसिड को कम करने में मदद करता है और मूत्र के निर्माण के प्रक्रिया को उत्तेजित करता है. myUpchar के अनुसार, अजमोद बैक्टीरियल इंफेक्शन से लड़ने में मदद करता है और ब्लैडर की बीमारी, किडनी व प्रजनन अंगों में सिस्ट बनने से रोकता है.

अनिद्रा की बीमारी से पाएं निजात

जिन लोगों में अनिद्रा है उन्हें रासायनिक दवाओं के सेवन से बचना चाहिए और रोज सुबह एक ग्लास अजमोद के जूस का सेवन करना चाहिए. अजमोद के रस में काफी मात्रा में मैग्नीशियम होता है, जो हृदय की धड़कनों को नियंत्रित रखने में मदद करता है. अजमोद में फ्लेनॉयड, टैनिन और एल्केनॉयड तत्व पाए जाते हैं, जो पेट में अल्सर जैसी बीमारी को बढ़ने से रोकते हैं. अजमोद में एक विशेष प्रकार का एथेनॉल होता है, जो अल्सर से पाचन तंत्र की परत को सुरक्षित रखता है.

दूर हो जाती है सूजन

अस्थमा, ब्रोन्काइटिस जैसी बीमारी के इलाज में अजमोद काफी फायदेमंद है. अजमोद में पॉलीएसिटिलीन नाम का एक रसायन होता है, जो शरीर के किसी भी अंग में सूजन को दूर करने में सहायक है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, अजमोद के फायदे और नुकसान पढ़ें.न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज