होम /न्यूज /जीवन शैली /फिट और हेल्दी रहने के लिए रोज करें स्विमिंग, हार्ट और लंग्स डिजीज का खतरा होगा कम

फिट और हेल्दी रहने के लिए रोज करें स्विमिंग, हार्ट और लंग्स डिजीज का खतरा होगा कम

स्विमिंग करने से मसल्स मजबूत होती हैं.

स्विमिंग करने से मसल्स मजबूत होती हैं.

अधिकतर लोगों को स्विमिंग करना पसंद होता है. हर दिन स्विमिंग पूल में कुछ देर बिताने से हेल्थ को कई फायदे हो सकते हैं. यह ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

एक स्टडी के मुताबिक, 19 से 64 साल तक के लोगों को हर दिन स्विमिंग करनी चाहिए.
स्विमिंग करने से लंग्स की कैपेसिटी बढ़ जाती है और अस्थमा के मरीजों को राहत मिलती है.

Health Benefits of Swimming: क्या आपको भी ‘नीले पानी’ से भरा हुआ स्विमिंग पूल अपनी तरफ आकर्षित करता है? अगर हां तो आपका यह शौक स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है. स्विमिंग करने से आप खुद को फिट रख सकते हैं और इससे कई बीमारियों के होने का खतरा कम हो जाता है. युवा और मिडिल एज लोग स्विमिंग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना सकते हैं. खास बात यह है कि स्विमिंग फिजिकल के अलावा मेंटल हेल्थ के लिए भी बढ़िया मानी जाती है. प्रेग्नेंसी के दौरान भी स्विमिंग करना सेफ माना जाता है. आपको स्विमिंग से होने वाले हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में बता रहे हैं.

यह भी पढ़ेंः क्या डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है जामुन? एक्सपर्ट से जानें 

हर दिन कितनी देर तक करें स्विमिंग?

मेडिकल न्यूज़ टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, हर सप्ताह लोगों को कम से कम 150 मिनट तक एक्सरसाइज या स्विमिंग करनी चाहिए. इस हिसाब से करीब 25 से 30 मिनट रोज स्विमिंग करने से आपकी बॉडी अच्छी शेप में रहेगी और मसल्स को मजबूती मिलेगी. स्विमिंग एक फुल बॉडी एक्सरसाइज है, जो शरीर की फ्लैक्सिबिलिटी बढ़ाती है. यह कई खतरनाक बीमारियों से बचाने में कारगर है. 19 से 64 साल तक के लोगों को हर दिन स्विमिंग करनी चाहिए. इससे उनकी फिटनेस में सुधार देखने को मिलेगा.

स्विमिंग के फायदे जान लीजिए

  • स्विमिंग एक फुल बॉडी वर्कआउट होता है, जिससे शरीर की मसल्स को मजबूती मिलती है. फिटनेस बेहतर होती है और शरीर की स्ट्रेंथ इंप्रूव होती है. यह वजन कंट्रोल करने में भी कारगर है.
  • स्विमिंग करने से आपका कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम मजबूत होता है. स्विमिंग में आपका हार्ट, फेफड़े और सर्कुलेटरी सिस्टम शामिल होता है. कार्डियोवैस्कुलर डिजीज का खतरा इससे कई गुना कम हो जाता है.
  • स्विमिंग करने से आपके जॉइंट्स पर ज्यादा जोर नहीं पड़ता, ऐसे में जो लोग घुटनों के दर्द या चोट से जूझ रहे हैं, वे भी आसानी से स्विमिंग कर फिट रह सकते हैं. इसके अलावा डिसेबिलिटी वाले लोग भी स्विमिंग कर सकते हैं.
  • स्विमिंग करने से लंग्स की कैपेसिटी बढ़ जाती है और अस्थमा के मरीजों को काफी हद तक राहत मिलती है. स्टडी में यह बात सामने आई है कि स्विमिंग करने से ब्लड शुगर कंट्रोल होती है और इन्सुलिन सेंसटिविटी इंप्रूव होती है.
  • स्विमिंग करने से आपको बेहतर नींद आती है. इससे काफी कैलोरी बर्न होती है. इसके अलावा प्रेग्नेंसी के दौरान स्विमिंग करना सेफ माना जाता है. हालांकि यह हर महिला की कंडीशन के ऊपर डिपेंड करता है. इसलिए डॉक्टर की सलाह के बाद ही स्विमिंग करनी चाहिए.

यह भी पढ़ेंः युवाओं में बढ़ रही ब्रेन स्ट्रोक की समस्या, जानें लक्षण और बचाव के तरीके

Tags: Fitness, Health, Lifestyle, Trending news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें