Post COVID-19 care: सांस लेने में दिक्कत हो तो अपनाएं ये पोजिशन और एक्सरसाइज

सांस लेने में दिक्कत हो तो अपनाएं ये पोजिशन
सांस लेने में दिक्कत हो तो अपनाएं ये पोजिशन

डब्ल्यूएचओ (WHO) के अनुसार कुछ पोजिशन हैं, जिनमें सांस लेने की तकलीफ को कम किया जा सकता है. आपको चाहिए कि उन पोजिशन को परखें और जिससे आपको सबसे ज्यादा आराम मिले उसे नियमित तौर पर करें.

  • Last Updated: August 5, 2020, 6:28 AM IST
  • Share this:


कोविड-19 (Covid 19) का वायरस फेफड़ों को निशाना बनाता है और इस तथ्य को हर कोई जानता है. लांसेट में हाल ही में छपी एक स्टडी में बताया गया कि कैसे इस पेंडेमिक के दौरान दुनियाभर के आईसीयू में एक्यूट रेस्पीरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम (ARDS) के मामले बढ़े हैं. कोविड-19 के इलाज और देखभाल के मामले में श्वसन पथ से जड़े लक्षण, इलाज और इसका नियोजन काफी महत्वपूर्ण हो गया है.

अगर आप कोविड-19 से ग्रसित हो चुके हैं और अब आपकी सेहत सुधर रही है तो सांस लेने में तकलीफ होना आम बात है. भले ही आपको अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी हो या फिर हल्के लक्षण दिखने पर घर पर ही क्वारंटीन होने के निर्देश मिले हो. आपको अपने फेफड़ों के स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहने की जरूरत है, भले ही अब आपका टेस्ट नेगेटिव आया हो. सांस लेने में तकलीफ होने पर क्या करें के साथ ही आपको ऐसा क्यों हो रहा यह भी जानना जरूरी है. डब्ल्यूएचओ ने हाल ही में कोविड-19 से उबर रहे मरीजों के लिए गाइडलाइन जारी की है, ताकि वे सांस लेने में हो रही तकलीफ से आसानी से निपट सकें.



सांस लेने में दिक्कत होने पर सर्वोत्तम पोजिशन
डब्ल्यूएचओ (WHO) के अनुसार कुछ पोजिशन हैं, जिनमें सांस लेने की तकलीफ को कम किया जा सकता है. आपको चाहिए कि उन पोजिशन को परखें और जिससे आपको सबसे ज्यादा आराम मिले उसे नियमित तौर पर करें.

1. तीन-चार तकिये लगाकर लेटें : तीन-चार तकिये लगाएं और उनके ऊपर सिर रखकर एक तरफ लेट जाएं. आपके सिर और गर्दन को तकियों से पूरा सपोर्ट मिलना चाहिए और घुटने मुड़े हुए रखें.

2. आगे की तरफ झुककर बैठें : कुर्सी पर आराम से बैठ जाएं और आगे की तरफ थोड़ा सा झुकते हुए अपने हाथों को अपनी गोद में आराम करने दें. अगर आपके सामने कोई टेबल है तो अपनी कमर से झुकते हुए बाहों को टेबल पर रखें और एक कुशन या तकिया टेबल पर रखकर उस पर सिर रख दें. ध्यान रहे कि इस दौरान आपके हाथ भी टेबल पर आरामदायक मुद्रा में हों.

3. आगे की ओर झुककर खड़े हों : एक सपाट जमीन पर किसी दीवार या वस्तु के आगे कुछ दूरी पर खड़े हो जाएं. अब अपने हाथों को उस दीवार या वस्तु पर रखें, ताकि आप आगे की तरफ झुककर खड़े हो सकें.

4. पीछे की तरफ झुककर खड़े हों : किसी दीवार की तरफ पीठ करके उससे कुछ दूरी पर खड़े हो जाएं. अब दीवार पर पीठ लगाकर अपने हाथों से दोनों तरफ ग्रिप बना लें. ध्यान रहे इस दौरान आपके घुटने मुड़े हुए होने चाहिए.

सांस लेने में दिक्कत होने पर सर्वोत्तम व्यायाम

ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस के अनुसार जिस कमरे में आप रह रहे हैं वहां पर वेंटीलेशन अच्छा होना चाहिए. याद रखें कि ऑक्सीजन सिलेंडर से अतिरिक्त ऑक्सीजन लेने से आपकी स्थिति में सुधार नहीं होगा. डब्ल्यूएचओ के अनुसार आप आराम करने और साधारण तौर पर सांस लेने के लिए कुछ ब्रीदिंग तकनीक का सहारा ले सकते हैं. जब भी आपको लगे कि सांस लेने में दिक्कत हो रही है, इन तकनीक का इस्तेमाल करें.

1. नियंत्रित श्वसन प्रक्रिया

एक हाथ अपनी छाती और दूसरा पेट पर रखते हुए आरामदायक मुद्रा में बैठ जाएं. अब कोमलता से आंखें बंद कर लें (चाहें तो आंखें खुली भी रख सकते हैं) और नियमित तौर पर आ रही अपनी सांसों पर ध्यान केंद्रित करें. धीरे-धीरे अपनी नाक से सांस लें और मुंह से छोड़ें.

इस दौरान सांस लेने और छोड़ने में अपनी तरफ से ज्यादा कोशिश न करें. इस प्रक्रिया को प्राकृतिक तौर पर होने दें और आप आराम से बैठ जाएं.

2. तेज-तेज सांस लें

यह तकनीक उन परिस्थितियों में आपकी मदद कर सकती है, जब आप कोई ऐसा कार्य कर रहे हों जिसमें सांस लेने में ज्यादा तकलीफ हो रही है. फिर चाहे वह साधारण वॉकिंग हो, सीढ़ियों पर चढ़ना हो या कुछ और. ध्यान रखें कि इस दौरान जल्दबाजी न करें और जबरदस्ती अपनी स्पीड न बढ़ाएं, इससे आपकी तकलीफ बढ़ सकती है.

यदि कार्य जरूरी हो तो इसे छोटे-छोटे हिस्सों में निपटाएं. इससे आपका काम भी हो जाएगा और सांस लेने में तकलीफ भी नहीं होगी.

जब भी कोई कार्य करें तो गहरी सांस लें और जब भी उसमें ज्यादा श्रम लगाएं तो सांस छोड़ें. काम से कुछ देर का आराम लें और फिर इसे शुरू करें.

हमेशा कोशिश करें कि आप नाक से सांस लें और मुंह से छोड़ें. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, कोविड-19 को फैलने से रोकने और मृत्यु दर को कम करने में बीसीजी वैक्सीन मददगार: अध्ययन पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।)

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज