होम /न्यूज /जीवन शैली /Heart burn: खाना खाने के बाद छाती में क्यों होती है जलन, जानिए हार्ट बर्न के कारण और उपचार

Heart burn: खाना खाने के बाद छाती में क्यों होती है जलन, जानिए हार्ट बर्न के कारण और उपचार

एसिड रिफलेक्स जब क्रोनिक बन जाए तो यह जीईआरडी में बदल जाता है. Image: Canva

एसिड रिफलेक्स जब क्रोनिक बन जाए तो यह जीईआरडी में बदल जाता है. Image: Canva

Heart burn: अधिकांश मामलों में सीने में जलन या हार्ट बर्न का कारण पेट की गैस है लेकिन कुछ मामलों में यह हार्ट अटैक भी ह ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

गैस्ट्रोफेगल रिफलेक्स डिजीज बार-बार एसिड रिफ्लक्स या पेट में नॉन-एसिडिक सामग्री के रिफ्लेक्स होने के कारण होती है
एसिड का लगातार उपर की ओर उठना आहारनली के लिए परेशानी का सबब है

Heart burn in chest aafter eating: खाने-पीने की खराब आदतों और स्थूल जीवनशैली के कारण पेट में गैस की समस्या बनती है. इससे सीने में जलन होने लगती है. आजकल अधिकांश लोगों का डाइजेस्टिव सिस्टम खराब रहता है जिसके कारण उन्हें हार्ट बर्न या सीने में जलन की समस्या रहती है. जिन्हें यह समस्या क्रोनिक बन गई है वे कुछ भी खाने से डरते हैं. तेल-मसाले वाली चीजों से इन्हें सीने में जलन और कच्ची डकार आने लगती है. मेडिकल भाषा में गैस्ट्रोफेगल रिफलेक्स डिजीज (gastroesophageal reflux disease (GERD) कहते है. इससे पहले एसिड रिफ्लेक्स (acid reflux) होता है. एसिड रिफलेक्स जब क्रोनिक बन जाए तो यह जीईआरडी में बदल जाता है. इसमें खाना खाने के बाद पेट का एसिड उपर की ओर फूड पाइप में आने लगता है जिसके कारण ऐसा लगता है कि सब कुछ सीने के उपर है और उसे दबा रहा है. इसे हार्ट बर्न या सीने में जलन कहते हैं. चूंकि आहार नली (esophagus) हार्ट के पास से गले तक जाती है, इसलिए हार्ट में जलन महसूस होती है.

इसे भी पढ़ें- Heart attack: हार्ट अटैक के समय एस्पिरिन की गोली क्या सच में मौत से बचाती है? जानें क्या कहते हैं डॉक्टर और क्या हो SOS

क्यों होता है एसिड रिफलेक्स या हार्ट बर्न
मायो क्लिनिक के मुताबिक गैस्ट्रोफेगल रिफलेक्स डिजीज (GERD) बार-बार एसिड रिफ्लक्स या पेट नॉन-एसिडिक सामग्री के रिफ्लेक्स होने के कारण होती है. जब हम भोजन करते हैं और इसे निगलते हैं तब एसोफेगस यानी आहार नली के पिछले हिस्से में चारों ओर मांसपेशियों का एक बैंड होता है जिसे स्फिंगटर कहते हैं. एक तरह से स्फिंगटर हमारे मुंह और आंत के बीच में कपाट का काम करता है. जब हम भोजन को निगते हैं तो यह खुल जाता है और जैसे ही खाना पेट के अंदर जाता है यह अपने आप बंद हो जाता है. लेकिन अगर स्फिंगटर को सही से आराम नहीं मिलता या यह कमजोर हो जाता है तो पेट का एसिड उपर उठने लगता है और ऐसा लगता है कि सारी चीज छाती को दबा रहा है. एसिड का लगातार उपर की ओर उठना आहारनली के लिए परेशानी का सबब है और इससे इसमें सूजन भी आ सकती है.

एसिड रिफलेक्स के लक्षण

  • खाना खाने के बाद सीने में जलन (हार्ट बर्न). रात में सोते समय हार्ट बर्न और तेज हो जाना या लेटते समय
  • जलन बढ़ जाना.
  • खट्टी डकार निकलना.
  • पेट के उपरी हिस्से में दर्द या सीने में दर्द.
  • भोजन निगलने में परेशानी.
  • ऐसा महसूस होना का गले में गांठ है.
  • अगर रात में एसिड रिफलेक्स होता है तो कफ महसूस होना.
  • वोकल कॉर्ड में सूजन.
  • अस्थमा के लक्षण दिखना.

क्या है इलाज-diagnosis of acid reflex
डॉक्टर एंडोस्कोपी के माध्यम से जांच करते हैं कि कहां दिक्कत है. इसके बाद कई अन्य तरह के टेस्ट करते हैं. फिर दवाई से जीईआऱ़डी को ठीक किया जा सकता है. इसके लिए घरेलू इलाज भी है. सबसे पहले सोने का तरीका ठीक करना होगा. जब भी आप सोएं बाईं करवट लेकर सोएं ताकि पेट में बन रहे एसिड को उपर जाने के लिए रास्ता नहीं मिल सके. भोजन को अच्छे से चबाकर खाएं. अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएं. ज्यादा तेल-मसाले वाली चीजें न खाएं. अल्कोहल, स्मोकिंग, कोल्ड ड्रिंक, जंक फूड आदि से दूर रहें और सबसे बड़ी बात कि रोजाना एक्सरसाइज करें. गर्म पानी पीएं और अदरक का सेवन करें.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें