पैनिक अटैक में क्या करना है सही, जानें आप भी

ये समस्या कई जानलेवा बीमारियों की जड़ है

इन दिनों पैनिक अटैक की समस्या युवाओं को तेज़ी से पकड़ रही है. ये तनाव का वो पड़ाव है जहां व्यक्ति अपने आपको स्थिर नहीं रख पाता. ये एक साइकोलोजिकल डिसऑर्डर (मनोविकार) है जिसमें व्यक्ति लगातार डिप्रेशन में रहता है.

  • Share this:
    इन दिनों पैनिक अटैक की समस्या युवाओं को तेज़ी से पकड़ रही है. ये तनाव का वो पड़ाव है जहां व्यक्ति अपने आपको स्थिर नहीं रख पाता. ये एक साइकोलोजिकल डिसऑर्डर (मनोविकार) है जिसमें व्यक्ति लगातार डिप्रेशन में रहता है. इसकी वजह से कई शाररिक समस्याएं जैसे सिर दर्द, दिल की धड़कन बढ़ना और सीने में दर्द भी हो सकती है. ये समस्या कई जानलेवा बीमारियों की जड़ है, इसलिए इसे नज़रअंदाज़ किया जाना ठीक नहीं है.

    उपचार से बेहतर है बचाव. इसलिए बेहतर यही होगा कि अगर किसी व्यक्ति में पैनिक डिसॉर्डर के लक्षण दिखाई दें तो शुरुआत से ही इन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

    *तनाव को खुद पर हावी न होने दें. पैनिक डिसॉर्डर का मूल कारण तनाव है. इससे बचने के लिए लोगों से मिलने-जुलने, सामाजिक उत्सवों में शामिल होने, घूमने-फिरने और आराम के लिए समय ज़रूर निकालें.

    *जब भी पैनिक अटैक का एहसास हो तो शांति से बैठ कर गहरी सांस लें. इससे शरीर और दिल की धड़कनें सामान्य हो जाएंगी. जल्दी-जल्दी सांस लेना शरीर को अव्यवस्थित कर देता है. लंबे समय तक ऐसा करने पर रक्त संचार भी तेज़ हो जाता है, जिससे उत्तेजना बढ़ जाती है. इसलिए सबसे पहले खुद को शांत करने की कोशिश करें.

    *जब भी इस तरह की समस्या हो तो सबसे पहले एक ग्लास ठंडा पानी पीएं. इससे शरीर सामान्य स्थिति में आ जाएगा.

    *अटैक के बाद जब व्यक्ति की मन:स्थिति सामान्य हो जाए तो उसे अपनी दिनचर्या पर गौर करते हुए यह जानने की कोशिश करनी चाहिए कि उसके साथ ऐसा क्यों हुआ? असली कारण ढूंढना बहुत ज़रूरी है. इसके बाद अटैक को रोकना आसान हो जाएगा.

    *एल्कोहॉल या अधिक मात्रा में नींद की दवाओं का सेवन भी अटैक का कारण हो सकता है. इसलिए ऐसी आदतों से दूर रहने की कोशिश करें.

    *पैनिक अटैक की समस्या से निजात पाने के लिए जीवनशैली में बदलाव ज़रूरी है. कई बार यह समस्या अव्यवस्थित दिनचर्या की वजह से भी होती है.

    * नियमित रूप से मॉर्निंग वॉक और योगाभ्यास करें. आठ घंटे की नींद लें. इससे तनाव कम होगा और शारीरिक-मानसिक स्फूर्ति भी बढ़ेगी.

    *अगर हमेशा रहने वाली बेचैनी आपकी सामान्य दिनचर्या पर असर डाल रही है तो डॉक्टर से सलाह लें.

    *पैनिक अटैक के उपचार में मनोविशेषज्ञ से थेरेपी के अलावा दवाओं की भी मदद ली जाती है. अटैक के बाद अपनी दिनचर्या में बदलाव लाकर भी इस समस्या से बचा जा सकता है.

    *परिवार के अन्य सदस्यों का सहयोग पूर्ण रवैया मरीज़ को शीघ्र स्वस्थ करने में मददगार होता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.