होम /न्यूज /जीवन शैली /रनिंग से वजन घटा रहे हैं तो हो जाए सावधान! पुरुषों को आ सकता है हार्ट अटैक

रनिंग से वजन घटा रहे हैं तो हो जाए सावधान! पुरुषों को आ सकता है हार्ट अटैक

महिलाओं पर रनिंग का सकारात्मक असर होता है. (File Photo)

महिलाओं पर रनिंग का सकारात्मक असर होता है. (File Photo)

Running and Men: अक्सर कहा जाता है कि पुरुषों के लिए रनिंग करना बेहद फायदेमंद है और महिलाओं को इससे नुकसान होता है लेकि ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

अध्ययन में दावा किया गया है कि पुरुषों के लिए लंबी दूरी की दौड़ बेहद नुकसानदेह है.
अध्ययन में महिलाओं में दौड़ने का सकारात्मक असर देखा गया

Running and heart attack in men: अक्सर कहा जाता है कि दौड़ता हुआ घोड़ा और चलता हुआ आदमी कभी बूढा नहीं होता. अगर इस कहावत में आदमी को सिर्फ चलता हुआ ही मानें तब तो सही है लेकिन अगर इसे दौड़ता हुआ मानें तो यह जानलेवा हो सकता है. यह बात हम नहीं बल्कि एक अध्ययन में कही गई है. अध्ययन में दावा किया गया है कि पुरुषों का दौड़ना उनके स्वास्थ्य के लिए सही नहीं है. इससे हार्ट अटैक भी आ सकता है. टीओआई की खबर के मुताबिक यह अध्ययन यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (यूसीएल), बार्ट्स हार्ट सेंटर में सेंट बार्थोलोम्यू अस्पताल और सेंट जॉर्ज अस्पताल द्वारा किया गया है. अध्ययन में दावा किया गया है कि पुरुषों के लिए लंबी दूरी की दौड़ बेहद नुकसानदेह है. इससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक का जोखिम रहता है. इसलिए यदि आप भी वजन कम करने के लिए रनिंग का सहारा ले रहे हैं तो इसे फौरन रोक दें.

इसे भी पढ़ें- मखाना खाने से जल्दी नहीं होंगे बूढ़े और ब्लड शुगर भी रहेगा कंट्रोल, जानें कैसे

महिलाओं को रनिंग से फायदा
अध्ययन में कहा गया कि पुरुषों में धमनियां बहुत सख्त होती है जिसके कारण दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा अधिक रहता है. शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में 300 से अधिक धावकों को हिस्सा बनाया. ये लोग नियमित रूप से मैराथन, आयरनमैन ट्रायथलॉन और साइकलिंग जैसे गेम्स में भाग लेते थे. जब ये लोग 40 साल के हो गए तब शोधकर्ताओं ने इनके 10 साल का हेल्थ रिकॉर्ड खंगाला. इसके बाद अध्ययन में पता चला कि मैराथन, साईक्लिंग जैसी प्रतियोगिताओं में भाग लेने वाले पुरुष अपने उम्र से 10 साल ज्यादा बड़े दिख रहे थे. इसके अलावा उनमें हेल्थ संबंधी कई जटिलताएं भी आ गईं. हालांकि आश्चर्य़जनक रूप से इस तरह की महिलाओं में दौड़ने का सकारात्मक असर देखा गया. ये महिलाएं अपनी उम्र से औसतन 6 साल कम दिख रही थीं. यह नतीजा आमतौर पर इस धारणा के विपरीत है कि महिलाओं को दौड़ना नहीं चाहिए. अक्सर महिलाओं को कहा जाता है दौड़ने से उनकी सुंदरता में कमी आएगी, इससे चेहरे पर झुर्रिया आएंगी और उम्र से ज्यादा बड़ी दिखने लगेगी. अध्ययन में इन बातों को पूरी तरह दरकिनार कर दिया गया.

पुरुषों को कब हो जाना चाहिए सतर्क
आज बॉडी को सुडौल, वजन कम करने और हेल्दी बनाने के लिए अधिकांश पुरुष रनिंग करते हैं. उन्हें छोटी-मोटी परेशानी होती है तो अक्सर उसे नजरअंदाज कर देते हैं. लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि दौड़ने या ट्रेड मिल पर चलने के दौरान यदि पुरुष में हार्ट बीट बढ़ जाए, उन्हें बेचैनी महसूस हो, सांस फूलने लगे, ज्यादा पसीना आए तो इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए. इस स्थिति में डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. यदि पुरुषों की उम्र 40 साल से अधिक है तो पहले डॉक्टर से सलाह ले लें उसके बाद ही ट्रेड मील या बाहर दौड़ें. 40 के बाद हार्ट संबंधित सभी टेस्ट नियमित रूप से करवाने चाहिए.

Tags: Health, Heart attack, Heart Disease, Lifestyle, Trending news, World Heart Day

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें