#काम की बात : क्‍या सेक्‍स के लिए कोई सुरक्षित समय हो सकता है, जब कॉन्‍ट्रसेप्‍शन की जरूरत न हो?

सेक्‍स सलाह
सेक्‍स सलाह

कोई ऐसा समय नहीं होता, जो आपको इस चिंता से सौ फीसदी मुक्‍त कर दे कि प्रेग्‍नेंसी नहीं होगी. इसलिए कहा जाता है कि कंडोम सबसे प्रभावी और सुरक्षित उपाय है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 19, 2018, 3:49 PM IST
  • Share this:
प्रश्‍न : मैं 35 साल का विवाहित पुरुष हूं. हमारी एक बेटी है और हम अभी दूसरा बच्‍चा नहीं चाहते. अगर हम कंडोम या कॉन्‍ट्रेसेप्टिव पिल्‍स का इस्‍तेमाल न करना चाहें तो क्‍या सेक्‍स के लिए कोई ऐसा समय हो सकता है, जो सुरक्षित हो. जैसेकि पीरियड्स के पहले या बाद में.

उत्‍तर: एक लाइन में कहूं तो नहीं. पूरे महीने में कोई ऐसा समय नहीं होता, जब पूरी गारंटी के साथ ये कहा जा सके कि ये समय सुरक्षित है और इस दौरान सेक्‍स करने से प्रेग्‍नेंसी नहीं होगी.

हालांकि महीने के कुछ दिन ऐसे होते हैं, जिस दौरान सेक्‍स करने पर महिला में गर्भधारण करने की संभावना सबसे कम होती है. पीरियड आने के पहले दिन से लेकर दसवें दिन तक का समय उर्वर नहीं माना जाता. इस दौरान गर्भधारण की संभावना सबसे कम होती है. 12वें दिन से लेकर 18वें दिन तक गर्भधारण की संभावना सबसे ज्‍यादा होती है. इसलिए यदि इस समय के मुताबिक संबंध बनाए जाएं तो गर्भधारण की संभावना कम होती है. लेकिन याद रखिए, यह सौ फीसदी सुरक्षित उपाय नहीं है.



इन तारीखों के मुताबिक सेक्‍स करने के बावजूद प्रेग्‍नेंसी हो सकती है. वैसे तो पीरियड्स का समय भी प्रेग्‍नेंसी के लिहाज से सुरक्षित माना जाता है, लेकिन सुरक्षा की सौ फीसदी गारंटी उसमें भी नहीं है. ऐसे भी मामले देखे गए हैं, जहां पीरियड्स के समय भी सेक्‍स करने से गर्भ ठहर गया है.
इसलिए कुल मिलाकर कोई ऐसा समय नहीं होता, जो आपको इस चिंता से सौ फीसदी मुक्‍त कर दे कि प्रेग्‍नेंसी नहीं होगी. इसलिए कहा जाता है कि कंडोम सबसे प्रभावी और सुरक्षित उपाय है. यह प्रेगनेंसी से लेकर सेक्‍सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज तक से बचाव करता है.

(डॉ. पारस शाह सानिध्‍य मल्‍टी स्‍पेशिएलिटी हॉस्पिटल, अहमदाबाद, गुजरात में चीफ कंसल्‍टेंट सेक्‍सोलॉजिस्‍ट हैं.) 

अगर आपके मन में भी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप इस पते पर हमें ईमेल भेज सकते हैं. डॉ. शाह आपके सभी सवालों का जवाब देंगे.
ईमेल – Ask.life@nw18.com

ये भी पढ़ें-

#काम की बात : जब से मेरे पार्टनर का वजन बढ़ा है, हमारी सेक्स लाइफ खत्म हो गई है
#काम की बात : क्या स्त्रियों की यौन इच्छा का संबंध उनके मासिक चक्र से भी है ?
#काम की बात: मुझे ऑर्गज्म नहीं होता, दिक्कत कहां है, शरीर में या दिमाग में?
#काम की बात : पोर्न की आदत पोर्नोग्राफी की लत में बदल सकती है?
#काम की बात: अगर एक से ज्‍यादा लोगों से यौन संबंध हों तो एसटीडी हो जाता है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से भी प्रेगनेंसी हो सकती है?
#काम की बात: क्या सेक्स के समय लड़कों को भी पीड़ा हो सकती है?
# काम की बात : क्‍या देसी वियाग्रा लेने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है ? 
# काम की बात : क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से बीमारी हो जाती है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करना सुरक्षित है?
#कामकीबात: कौन सी बात अंतरंग क्षणों को ज्यादा यादगार बना सकती है?
#कामकीबात: सेक्स के दौरान महिला साथी भी क्लाइमेक्स तक पहुंची, ये कैसे समझा जा सकता है? 
#कामकीबात: सेक्स-संबंध नीरस हो गया है. कभी मेरा मन नहीं करता तो कभी उसका

अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे लिखे Sexologists पर क्लिक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज