Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    भारत में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के बड़े पैमाने पर इस्तेमाल को मंजूरी, लांसेट ने इस 'संजीवनी' को बताया खतरनाक

    उत्तराखंड में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. सांकेतिक फोटो.
    उत्तराखंड में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. सांकेतिक फोटो.

    नई गाइडलाइंस में ICMR ने कहा है कि सभी सावधानियां बरतते हुए HCQ उन सभी हेल्थकेयर वर्कर्स को दी जा सकती है, जो कोविड-19 के इलाज में लगे हुए हैं और जिनमें इसके लक्षण नहीं दिख रहे हैं.

    • Last Updated: May 23, 2020, 6:06 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने कोविड-19 (Covid-19) की रोकथाम के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन (HCQ) के बड़े पैमाने पर इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है. यह दवा मलेरिया (Malaria) के इलाज में दी जाती है. इस दवा को पिछले दिनों आधुनिक युग की 'संजीवनी' तक कहा गया था. इससे पहले आई रिपोर्टों में बताया गया था कि आईसीएमआर (ICMR) इस दवा को अपने प्रोटोकॉल से हटा सकता है. लेकिन इसके ठीक उलट उसने अपने आकलन में दवा के निम्न स्तर पर दुष्प्रभावी पाए जाने के बाद इससे जुड़ी चिंताओं को खारिज कर दिया है. बताया गया है कि ICMR ने 1,323 हेल्थकेयर वर्कर्स (Healthcare Workers) पर दवा (Medicine) के प्रभाव का आकलन करने के बाद यह फैसला लिया है.

    क्या कहती है ICMR की नई गाइडलाइंस?
    नई गाइडलाइंस में ICMR ने कहा है कि सभी सावधानियां बरतते हुए HCQ उन सभी हेल्थकेयर वर्कर्स को दी जा सकती है, जो कोविड-19 के इलाज में लगे हुए हैं और जिनमें इसके लक्षण नहीं दिख रहे हैं. इनमें क्वारंटीन केंद्रों में तैनात स्वास्थ्यकर्मियों के अलावा सभी अस्पतालों के हेल्थकेयर वर्कर्स को भी शामिल किया गया है. स्वास्थ्यकर्मियों के अलावा कोविड-19 की रोकथाम में सबसे अगली पंक्ति में काम कर रहे अन्य लोगों को भी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दिए जाने की सिफारिश की गई है. इनमें कंटेंमेंट जोन घोषित किए गए इलाकों में तैनात पुलिसकर्मी और पैरामिलिट्री के जवान भी शामिल हैं.

    इसके अलावा लैब टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए व्यक्ति के घर में उसके संपर्क में आए लोगों को भी यह दवा दी जा सकती है. दूसरी तरफ HCQ के इस्तेमाल से जुड़ी सावधानियों में कहा गया है कि अगर किसी व्यक्ति में इसके साइड इफेक्ट्स जैसे- हृदय रोग दिखे तो दवा का इस्तेमाल तुरंत बंद कर देना चाहिए. 15 साल से कम उम्र के बच्चों और गर्भवती महिलाओं को भी HCQ न दिए जाने की सिफारिश की गई है. साथ ही जो लोग रेटिनोपैथी से पीड़ित हैं और इस दवा के प्रभाव के लिहाज से अतिसंवेदनशील हैं, उन्हें यह दवा देने की मनाही होगी.
    नए शोध में HCQ फिर 'बेअसर' साबित


    ICMR ने यह फैसला ऐसे समय में लिया है, जब कोरोना वायरस को रोकने को लेकर हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के प्रभाव के संबंध 'दि लांसेट' पत्रिका का शोध चर्चा में बना हुआ है. इस जानी-मानी पत्रिका ने 96 हजार से ज्यादा कोविड-19 मरीजों के विश्लेषण के बाद बताया है कि HCQ नए कोरोना वायरस को रोकने में प्रभावी नहीं है. उसके मुताबिक, इस दवा का सेवन करने वाले लोगों में कोविड-19 से मरने की आशंका ज्यादा पाई गई, जबकि जिन्होंने दवा नहीं ली उनमें यह आशंका कम थी.

    हालांकि, यह पहली बार नहीं है, जब HCQ की क्षमता पर सवाल उठे हैं. इससे पहले भी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन को लेकर हुए शोधों में इसी तरह के परिणाम सामने आए थे. लेकिन दि लांसेट के अध्ययन की अपेक्षा उनके सैंपल यानी मरीजों की संख्या अपेक्षाकृत कम थी.

    ताजा शोध के सामने आने के बाद उन विशेषज्ञों की राय को बल मिल गया है, जिनका दावा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ HCQ के इस्तेमाल से फायदे कम और नुकसान ज्यादा हैं.

    अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, ICMR ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के बड़े पैमाने पर इस्तेमाल को मंजूरी दी, रिसर्च बता रही बेअसर पढ़ें.

    न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

    अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज