खराब हो चुके पैड्स का हो सकेगा दोबारा इस्तेमाल, IIT छात्राओं ने बनाया 'क्लींज राइट'

इसके बारे में बताते हुए छात्रों ने कहा कि एक औरत की जिंदगी में पीरियड्स के दौरान लगभग 125 kg तक नॉन बायोग्रेडेबल कचरा बनता है और मिट्टी में इस पैड को डीकम्पोस्ट होने में लगभग 500 से 800 सालों का समय लगता है.

News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 3:05 PM IST
खराब हो चुके पैड्स का हो सकेगा दोबारा इस्तेमाल, IIT छात्राओं ने बनाया 'क्लींज राइट'
खराब हो चुके पैड्स का कर सकेंगी दोबारा इस्तेमाल, IIT छात्राओं ने बनाया 'क्लींज राइट'
News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 3:05 PM IST
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ( IIT) के दो स्टूडेंट्स ने सेनेटरी पैड्स के दोबारा इस्तेमाल के लिए एक डिवाइस बनाया है. इससे खराब हो चुके सेनेटरी पैड्स का इस्तेमाल किया जा सकेगा. साथ ही ये डिवाइस बायोमेडिकल कूड़े से निपटने का भी एक अच्छा तरीका है. सेनेटरी पैड्स को दोबारा इस्तेमाल योग्य बनाने वाले इस डिवाइस का नाम है 'क्लींज राइट'. आईआईटी मुंबई और गोवा के छात्रों ने इस डिवाइस को बनाया है. बाजार से आप महज 1500 रुपये की कीमत पर यह डिवाइस खरीद पाएंगे.

इसे भी पढ़ें: अंक भी करते हैं चमत्कार! क्या बदल कर रख देते हैं भाग्य?

इस डिवाइस के बारे में जानकारी साझा करते हुए आईआईटी-बॉम्बे की इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की छात्रा ऐश्वर्या ने कहा कि पीरियड्स और इससे जुड़ी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को लेकर समाज में आई जागरुकता के बाद महिलाएं अब महीने के उन दिनों के दौरान कपड़े की जगह सेनेटरी पैड्स का इस्तेमाल करती हैं.

इसे भी पढ़ें: पेट की चर्बी छुपाने में मदद करेंगे ये कपड़े


इस डिवाइस के इस्तेमाल से हमारे काफी पैसों की बचत होगी साथ ही साफ़ सफाई भी रहेगी. बता दें कि इन सेनेटरी पैड्स का निर्माण नॉन-बायोग्रेडेबल प्लास्टिक से होता है और इस्तेमाल के बाद यह बायोमेडिकल कचरे का रूप ले लेता है. इसके बारे में बताते हुए छात्रों ने कहा कि एक औरत की जिंदगी में पीरियड्स के दौरान लगभग 125 kg तक नॉन बायोग्रेडेबल कचरा बनता है और मिट्टी में इस पैड को डीकम्पोस्ट होने में लगभग 500 से 800 सालों का समय लगता है. इस उपकरण की सबसे ख़ास बात यह है कि इन्हें साफ़ करने के लिए बिजली का इस्तेमाल नहीं करना होता है.

यह भी पढ़ें- सिगरेट की लत से हैं परेशान, ये उपाय कर सकते हैं मदद
Loading...

ऑफिस में आती है नींद तो जान लें ये जरूरी बात

आज ही छोड़ दें जानलेवा प्लास्टिक बैग्स का इस्तेमाल

 
First published: July 25, 2019, 1:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...