बच्चों को जरूर दें यौन शिक्षा की जानकारी, इन बातों का विशेष रूप से रखें ध्यान

बच्चों को जरूर दें यौन शिक्षा की जानकारी, इन बातों का विशेष रूप से रखें ध्यान
बच्चों को यौन शिक्षा देने के प्रति हर माता-पिता को जागरूक होना चाहिए.

एक सही उम्र में और सही तरीके से सेक्स की शिक्षा (Sex Education) देना बच्चों (Children) के लिए बेहद जरूरी होता है. इसकी शुरुआत बच्चे की चार या पांच साल की उम्र से की जा सकती है. छोटी उम्र में बच्चों को उनके प्राइवेट पार्टस् के बारे में जानकारी दें.

  • Last Updated: August 26, 2020, 11:35 AM IST
  • Share this:


भारतीय समाज में आज भी यौन शिक्षा (Sex Education) को असहज भाव से लिया जाता है. ऐसे में टीवी पर आने वाले गर्भनिरोधक विज्ञापनों को देखकर बच्चों (Children) के मन में भी कई सवाल उठते हैं और बढ़ती उम्र में उनके सवालों का यदि उचित तरीके से समाधान न हो तो कई बच्चे गलत राह भी चुन लेते हैं. बच्चों को यौन शिक्षा देने के प्रति हर माता-पिता को जागरूक (Aware) होना चाहिए. कई माता-पिता इसे लेकर सकारात्मक कदम भी उठाते हैं, लेकिन उनके सामने सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि आखिर कैसे यौन संबंधों के बारे में खुलकर बच्चों से बात की जाए या किस प्रकार से बच्चों को इस बारे में शिक्षित किया जाए. आइए जानते हैं इस संबंध में कुछ महत्वपूर्ण टिप्स -

उम्र के आधार पर दें सेक्स ज्ञान



बच्चों को एक सही उम्र में ही यौन शिक्षा के बारे में जानकारी देनी चाहिए, ताकि वे गलत रास्ते पर ना जाएं. विशेषज्ञों के मुताबिक, एक सही उम्र में और सही तरीके से सेक्स की शिक्षा देना बच्चों के लिए बेहद जरूरी होता है. इसकी शुरुआत बच्चे की चार या पांच साल की उम्र से की जा सकती है. छोटी उम्र में बच्चों को उनके प्राइवेट पार्टस् के बारे में जानकारी दें. उन्हें शरीर के नाम के साथ प्राइवेट पार्ट्स के बारे में पूरी जानकारी देनी चाहिए. गुड टच और बेड टच के बारे में भी बताना चाहिए.
आठ साल तक की उम्र के बच्चों के लिए

आठ साल या उससे ज्यादा उम्र के बच्चे इन दिनों काफी समझदार होने लगे हैं. टीवी, इंटरनेट देखकर भी काफी कुछ समझने लगते हैं. कई बार इन तमाम माध्यमों से गलत जानकारी भी मिल जाती है. इसलिए बच्चों की यौन गतिविधियों पर नजर रखने के साथ उन्हें सही जानकारी देने की जिम्मेदारी भी माता-पिता की होती है. myUpchar के अनुसार,  बच्चे अक्सर यह सवाल पूछते हैं कि हमारा जन्म कैसे हुआ और माता-पिता उसे टाल देते हैं, जबकि बच्चों को बताना चाहिए कि उनकी मां के पेट में यूट्रस नाम की एक थैली होती है, जिसमें 9 माह तक बच्चा पलता है और उसके बाद उसका जन्म होता है.

10 से 13 साल से बड़ी उम्र की बच्चों के साथ करें चर्चा

10 साल की उम्र तक बच्चा पढ़ना-लिखना जानने लगता है और अपने आसपास की गतिविधियों से भी जागरुक हो जाता है. इस दौरान बच्चों में कुछ शारीरिक परिवर्तन भी होने लगते हैं. लड़के हो या लड़कियां, दोनों ही मामले में माता-पिता को इस दौरान ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. गलत संगत से जीवन भी तबाह हो सकता है, इसलिए अब माता-पिता को अपने बच्चों से यौन संबंधों के बारे सहज होकर बात करना चाहिए. रोजमर्रा की समाचार-पत्रों में छपने वाली दुष्कर्म की घटनाओं के बारे में भी नाश्ते या चाय के दौरान परिवार के बात करनी चाहिए. ताकि बच्चा भी सुनकर इसके प्रति सतर्क रहे.

15 साल से ज्यादा की उम्र

15 साल की उम्र तक बच्चे काफी समझदार हो जाते हैं. इस उम्र में उनकी अपनी वैचारिक क्षमता भी विकसित हो जाती है. ऐसे में बच्चों की सोच को समझने के साथ ही उन्हें समझाना चाहिए. बच्चों को बताएं कि सेक्स करना किस उम्र में सही होता है. इस संबंध में बने पोक्सो एक्ट के बारे में जानकारी देनी चाहिए और गलत रास्ते पर जाने से रोकना चाहिए. myUpchar के अनुसार, इसी उम्र में बच्चों को यौन संबंधों से होने वाली बीमारियों, एचआईवी, एटीडी के बारे में बताया जाना चाहिए.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य जागरूकता दिवस', जानें क्या है इसका मकसद और महत्व पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading