रूम मेट के साथ कमरा शेयर करने से पहले पढ़ लें ये खबर, सेहत को हो सकता है खतरा

News18Hindi
Updated: August 30, 2019, 5:52 AM IST
रूम मेट के साथ कमरा शेयर करने से पहले पढ़ लें ये खबर, सेहत को हो सकता है खतरा
रूम मेट के साथ कमरा शेयर करने से पहले पढ़ लें ये खबर, सेहत को हो सकता है खतरा

इंग्लैंड स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार रूम शेयरिंग लोगों की दिनचर्या में कई तरह के बदलाव लाता है जैसे कि सोना, खाना, नहाना, मनोरंजन, साफ-सफाई रखना आदि.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2019, 5:52 AM IST
  • Share this:
आपने देखा होगा कि अक्सर पढ़ाई या जॉब (Job) के चलते लोगों को अपने दोस्तों (Friends) या सहकर्मियों के साथ रूम शेयर करना पड़ता है. हालांकि ये एक आम बात है लेकिन क्या आपको पता है कि इसका गहरा असर आपकी सेहत और आदत दोनों पर पड़ता है. जॉब, पढ़ाई या आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण घर से दूर रहने के दौरान लोग रूम शेयर (Room Share) कर रहने की कोशिश करते हैं. रूम शेयर करने का फायदा यह होता है कि एक तो किसी का साथ मिल जाता है और साथ ही आर्थिक दबाव भी कम हो जाता है. विशेषज्ञों की मानें तो रूम पार्टनर (Room Partner) आपकी सेहत और आदत दोनों के लिए नुकसानदेह हो सकता है.

कई शोध में खुलासा हुआ है कि यदि लोग रूम शेयर करके रहते हैं तो इसका असर उनकी सेहत पर पड़ता है. इंग्लैंड स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग द्वारा किए गए एक शोध के अनुसार रूम शेयरिंग लोगों की दिनचर्या में कई तरह के बदलाव लाता है जैसे कि सोना, खाना, नहाना, मनोरंजन, साफ-सफाई रखना आदि. रूम के अंदर का वातावरण शरीर के अंग मौजूद जींस को भी प्रभावित करता है. इससे तनाव, मोटापा, रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने जैसी समस्या हो पैदा होती है.

ज्यादातर समय देखा गया है कि है रूम शेयरिंग करने वाले लोग तनाव में रहते हैं. तनाव का मुख्य कारण दूसरे साथी का व्यवहार होता है. उदाहरणस्वरूप अगर आपको नींद आ रही है और आपका रूम पार्टनर तेज आवाज में गाने सुन रहा है तो आपको उस समय परेशानी होगी. आपको शाकाहारी भोजन पसंद है और रूम पार्टनर मांसाहारी भोजन बनाने के लिए कह रहा है. आप घर के काम करने में परहेज नहीं करते लेकिन आपका पार्टनर उन्हें करने में दिलचस्पी नहीं दिखाता. आप मजबूरी या जरूरत के कारण उसे कुछ कह नहीं पाते और तनाव में रहने लगते हैं. उसकी आदतों के कारण आपकी आदतों में भी बदलाव आना शुरू हो जाता है. तनाव होने से उच्च रक्तचाप, नींद की कमी, गुस्सा, बेचैनी व मन न लगना जैसी समस्याएं हो सकती हैं.

रूम पार्टनर का व्यवहार, स्वभाव, पसंद-नापसंद, सोच सहित सभी गतिविधियां आपके जींस में परिवर्तन कर आपकी जीवनशैली को बदल देती है और आपको बीमार बनाती है. हमें यही लगता है कि इंसान अपने दिमाग और सोच के अनुसार अपने व्यवहार को बदलता रहता है, जो कि गलत है क्योंकि इंसान के अंदर जो भी अच्छाई या बुराई होती है, उसके लिए उसका जींस ही जिम्मेदार होता है. देखा जाता कि रूम शेयर करने वाले लोग बुरी आदतों का शिकार जल्दी हो जाते हैं, जैसे नशा करना, देर तक जागना, समय पर खाना न खाना, गंदगी रखना आदि. इसका सबसे बड़ा कारण आपके रूम पार्टनर का व्यवहार होता है. आप जैसा करते उसे देखते हैं, धीरे-धीरे उसे अपने व्यवहार में शामिल कर लेते हैं. इसका असर आपके मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ खानपान और आदतों पर भी पड़ता है जो आपको बीमार बनाता है.

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वेलनेस से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 5:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...