होम /न्यूज /जीवन शैली /अगर बच्चे की आंख में लगाते हैं केमिकल वाला काजल, तो जानें इसके नुकसान

अगर बच्चे की आंख में लगाते हैं केमिकल वाला काजल, तो जानें इसके नुकसान

केमिकल वाले काजल में लेड होता है. image canva

केमिकल वाले काजल में लेड होता है. image canva

बच्चों की आंखों में काजल लगाना पुरानी परंपरा है. माना जाता है कि काजल से बच्चे को नज़र नहीं लगती है और उनकी आंखे किरणों ...अधिक पढ़ें

Side Effects of Kajal: भारत में आम तौर पर हर घर में बच्चों को काजल लगाया जाता है. काजल को आंखों में लगाने के साथ-साथ माथे और हाथों पर भी लगाने की मान्यता है. ऐसा माना जाता है कि काजल का काला टीका बच्चों को बुरी नजर से बचाता है. क्या आप जानते हैं, काजल लगाने से बच्चों की आंखों को गंभीर नुकसान हो सकते हैं.

पहले के लोगों का मानना है कि काजल बच्चे को बुरी नज़र से बचाता है. इसके अलावा यह बच्चों को कई तरह के फायदे पहुंचाता है. जहां पहले घर एक बने काजलों का इस्तेमाल होता था, वहीं अब मार्केट के केमिकल युक्त काजल इस्तेमाल करने का चलन बढ़ चला है. इसका खतरा बड़ों की आंखों पर तो पड़ता ही है, उससे कहीं ज़्यादा नुकसान बच्चों की आंखों को पहुंचता है. दरअसल छोटे बच्चों की आंखें सेंसिटिव और नाजुक होती है, इसीलिए उनकी आंखों में किसी भी चीज़ का इस्तेमाल करने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी लेना ज़रूरी है.

ये भी पढ़ें: मानसून में बच्चों की इम्यूनिटी को स्‍ट्रॉन्‍ग रखने के लिए उनकी डाइट में शामिल करें ये 8 चीज़ें

छोटे बच्चों की आंखों में काजल लगाने के नुकसान
हेल्थलाइन के अनुसार काजल में मौजूद केमिकल्स से न सिर्फ बच्चों की आंखों में इंफेक्शन होता है, बल्कि काजल लगाने से छोटे बच्चों के नर्वस सिस्टम पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है. काजल का नुकसान किसी भी व्यक्ति पर हो सकता है, बच्चे बेहद नाजुक होते हैं और उनका गट अब्सॉर्प्शन काफी तेज़ होता है, इसीलिए बच्चों पर इसका असर अधिक और गंभीर होता है.

काजल लगाने पर बच्चा अपनी आंखों को रगड़ता है,जिससे काजल के कण उसकी आंखों के अंदर पहुंच सकते हैं जिससे इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है, जो आगे चलकर बच्चों की आंखों में समस्या का कारण भी बन सकता है.

ये भी पढ़ें: कैसे रखें बच्चों की आंखों का ख्याल? अपनाएं ये तरीके

काजल में मौजूद लेड बच्चों के लिए बहुत खतरनाक होते हैं. काजल का लगातार इस्तेमाल करने से शरीर में लेड इकट्ठा हो सकता है. लंबे समय तक काजल का इस्तेमाल बच्चे के शरीर में लेड की मात्रा को बढ़ाता है, जिसका परिणाम उसके नर्वस सिस्टम पर दिखाई दे सकता है.

लेड शरीर के लिए बहुत हानिकारक होता है इसका नकारात्मक असर बोन मैरो पर भी पड़ सकता है. इसके साथ-साथ मांसपेशियों के विकास पर इसका असर पड़ता है. यह किडनी से जुड़ी बीमारियां का कारण भी बन सकता है.

बच्चों को काजल लगाना चाहते हैं तो काजल घर पर ही बना सकते हैं-
बच्चों के लिए काजल बनाने के लिए 4-5 बादाम लेकर उसे कांटे वाले चम्मच में फंसा लें. उसे जलाकर प्लेट में रख लें और सारे बादामों को जलाकर उस से निकली राख में शुद्ध घी की कुछ बूंदें डालकर काजल बना लें और इसे बच्चे की आंखों में लगाएं.

Tags: Health, Kids, Lifestyle, Parenting tips

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें