होम /न्यूज /जीवन शैली /क्या एल्युमिनियम फॉयल का इस्तेमाल करना खतरनाक है? जानिए क्या है सच्चाई

क्या एल्युमिनियम फॉयल का इस्तेमाल करना खतरनाक है? जानिए क्या है सच्चाई

 एल्युमिनियम फॉयल का इसेतेमाल कुकिंग से लेकर सिल्‍वर ज्‍वेलरी की सफाई आदि में भी किया जाता है. Image: canva

एल्युमिनियम फॉयल का इसेतेमाल कुकिंग से लेकर सिल्‍वर ज्‍वेलरी की सफाई आदि में भी किया जाता है. Image: canva

Aluminium foil side effects: एल्युमिनियम फॉयल से कई काम लिए जाते हैं. लेकिन सबसे ज्यादा एल्युमिनियम फॉयल का इस्तेमाल खा ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

अगर एल्युमिनियम फॉयल में एसिडिक भोजन को रखा जाए तो उसमें भी एल्युमिनियम की मात्रा अधिक हो सकती है
कुछ अध्ययनों में यह भी कहा गया है कि एल्युमिनियम इंसानी दिमाग की कोशिकाओं के विकास को प्रभावित करता है

Is It Safe to Use Aluminum Foil in Cooking: हम अपने जीवन में रोजमर्रा के कई कामों के लिए एल्‍युमिनियम फॉयल का इस्तेमाल करते हैं. एल्युमिनियम फॉयल का इसेतेमाल कुकिंग से लेकर सिल्‍वर ज्‍वेलरी की सफाई आदि में भी किया जाता है. एल्युमिनियम फॉयल का सबसे ज्यादा इस्तेमाल खाने की चीजों को लपेटने में किया जाता है. इससे खाना ताजा बना रहता है. चाहे वह रोटी हो, ब्रेड हो या बेकिंग किए जाने वाले फूड, इन सबको एल्युमिनियम फॉयल से लपेटकर रखते हैं. लेकिन कई बार यह कहा जाता है कि एल्युमिनियम फॉयल के इस्तेमाल से हेल्थ पर बुरा असर पड़ता है. एल्युमिनियम फॉयल का ज्यादा इस्तेमाल करने का संबंध अल्जाइमर से जोड़ा जाता है, लेकिन इसकी सच्चाई क्या है, इसपर अभी अध्ययन किए जाने की जरूरत है.

इसे भी पढ़ें- Diabetes care: डायबिटीज में अगर बढ़ती है मीठा खाने की चाहत, तो इन 5 फूड को करें ट्राई

एल्युमिनियम फॉयल में देर तक भोजन रखने के परिणाम
डॉक्टर एनडीटीवी  के मुताबिक एल्युमिनियम को शरीर से आसानी से बाहर निकाला जा सकता है. इसलिए एल्युमिनियम फॉयल का कम इस्तेमाल या जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल बहुत ज्यादा हानिकारक नहीं है. हालांकि, ज्यादातर लोग हर चीज को एल्युमिनियम फॉयल में लपेटकर रखते हैं और इसमें बहुत देर तक ब्रेड या अन्य चीजों को रखते हैं. वहीं गर्म चीजों को एल्युमिनियम फॉयल में लपेटने पर और इसे अधिक देर तक इसमें रखने पर एल्युमिनियम के रिसने की आशंका रहती है. यह खाना में मिल सकता है. वैसे देखा जाए तो मक्का, नमक, पीली चीजें, जड़ी-बूटियां, मसाले और चाय, सभी में एल्युमीनियम मौजूद होता है. यानी हम अपने जीवन में अप्रत्यक्ष तौर पर रोजाना एल्युमिनियम फॉयल के अलावे कई चीजों के माध्यम से एल्युमिनियम को ग्रहण करते हैं. वास्तव में, एल्यूमीनियम सल्फेट का उपयोग अक्सर पानी को शुद्ध करने के लिए किया जाता है. ऐसे मामलों में अतिरिक्त एल्युमिनियम को शरीर खुद ही निकाल देता है और इनसे कोई खास नुकसान नहीं है.

एल्युमिनियम फॉयल के ज्यादा इस्तेमाल से नुकसान
कुछ अध्ययन के मुताबिक जिन लोगों को अल्जाइमर की समस्या हैं, उनके दिमाग में एल्युमिनियम की मात्रा ज्यादा पाई गई. कुछ अध्ययनों में यह भी कहा गया है कि एल्युमिनियम इंसानी दिमाग की कोशिकाओं के विकास को प्रभावित करता है. इसके अलावा जिन लोगों को हड्डियों से संबंधित बीमारियां हैं, उनके लिए भी एल्युमिनियम नुकसानदेह है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, एल्युमिनियम फॉयल में पके हुए भोजन मानक से अधिक एल्युमिनियम की मात्रा हो सकती है. वहीं अगर एल्युमिनियम फॉयल में एसिडिक भोजन को रखा जाए तो उसमें भी एल्युमिनियम की मात्रा अधिक हो सकती है. अगर भोजन में ज्यादा मसाले और तेल है तो भी एल्युमिनियम की मात्रा अधिक हो सकती है. इस प्रकार अगर एल्युमिनियम फॉयल में ठंडे भोजन को रखा जाए तो इससे कोई नुकसान नहीं है लेकिन इसे सीमित समय के लिए ही रखना सही है.

इसे भी पढ़ें – Myositis: गंभीर बीमारी मायोसाइटिस से जूझ रही हैं एक्ट्रेस समांथा रुथ, जानिए क्या है इसके लक्षण और इलाज

Tags: Health, Health tips, Lifestyle, Trending news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें