होम /न्यूज /जीवन शैली /फास्टिंग में साबुदाना का सेवन हो सकता है नुकसानदेह, 5 तरह के लोगों को नहीं खाना चाहिए

फास्टिंग में साबुदाना का सेवन हो सकता है नुकसानदेह, 5 तरह के लोगों को नहीं खाना चाहिए

नवरात्रि व्रत के दौरान अधिकांश लोग साबुदाना खीर खाते हैं.

नवरात्रि व्रत के दौरान अधिकांश लोग साबुदाना खीर खाते हैं.

Stop Eationg Sabudana: वैसे तो साबुदाना पौष्टिक तत्वों से भरपूर आहार है लेकिन कुछ जटिलताओं से पीड़ित लोगों का साबुदाना ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

एक कप साबुदाना से 544 कैलोरी ऊर्जा मिलती है
साबुदाना के सेवन से वजन और अधिक बढ़ सकता है

Side effects of Sabudana: नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है. इस दौरान अधिकांश लोग मां भगवती की अराधना में उपवास या फास्टिंग करते हैं. उपवास कई तरीके के होते हैं. कुछ लोग उपवास के दौरान सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच कुछ नहीं खाते. कुछ लोग इस दौरान पानी भी नहीं पीते. कुछ ऐसे भी लोग हैं जो उपवास के दौरान अन्न ग्रहण नहीं करते लेकिन फल इत्यादि खाते हैं. साबुदाना इन्हीं में से एक है. नवरात्रि में उपवास के दौरान साबुदाना से बनी चीजों का सेवन बढ़ जाता है. साबुदाना पौष्टिक तत्वों से भरपूर होता है. हेल्थलाइन के मुताबिक एक कप साबुदाना से 544 कैलोरी ऊर्जा मिलती है. यानी उपवास के दौरान सिर्फ साबुदाना खा लेते हैं तो आपको एनर्जी की कमी नहीं होगी. इसमें सबसे ज्यादा 135 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है. इसके अलावा फाइबर, प्रोटीन, फैट, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटैशियम जैसे तत्व पाए जाते हैं. इस हिसाब से देखा जाए तो कुछ लोगों के लिए साबुदाना का सेवन नुकसान पहुंचा सकता है.

इसे भी पढ़ें- क्या कोलेस्ट्रॉल सच में शरीर के लिए दुश्मन है? इसके फायदे जानकर हैरान हो जाएंगे आप

इन लोगों के लिए साबुदाना का सेवन हानिकारक

  • वजन कम करने वालों के लिए-जो लोग मोटापा का सामना कर रहे हैं, उनके लिए साबुदाना का सेवन सही नहीं है क्योंकि इससे वजन और अधिक बढ़ सकता है. वजन कम करने के लिए ज्यादा कैलोरी नुकसानदेह हो सकता है. चूंकि साबुदाना में बहुत अधिक कार्बोहाइड्रेट होता है, इसलिए यह बहुत अधिक कैलोरी बनाता है. इसके अलावा स्टार्च ज्यादा होने के कारण यह बहुत जल्दी पच जाता है जिसके कारण तुरंत भूख लगने का अहसास होता है जिससे लोग ज्यादा खाने लगते हैं. यही कारण है कि वजन कम करने वालों के लिए साबुदाना सही नहीं है.
  • शुगर के मरीजों के लिए-जैसा कि पहले बताया गया कि साबुदाना में बहुत अधिक कार्बोहाइड्रेट होता है जो खून में ब्लड शुगर की मात्रा को बढ़ा देता है. वैसे फास्टिंग में कुछ घंटों तक भूखा रहने के बाद अचानक साबुदाना से ब्लड शुगर का स्तर बहुत अधिक बढ़ सकता है. डायबिटीज में ज्यादा देर तक भूखा रहने से ब्लड शुगर एकदम कम हो जाता है. वहीं इसके बाद खाना खाने से ब्लड शुगर के स्तर में अचानक तेजी आने लगती है. यह खतरनाक स्थिति हो सकती है.
  • लो बीपी वालों के लिए-जिन व्यक्ति को लो बीपी की शिकायत है, उन्हें भी साबुदाना नहीं खाना चाहिए. हालांकि साबुदाना का सेवन यदि कम मात्रा में किया जाए तो इससे हानि नहीं है लेकिन अगर इसकी थोड़ी भी मात्रा ज्यादा हो जाए तो इससे नुकसान हो सकता है.
  • दिल के मरीजों के लिए-साबुदाना में प्रोटीन बहुत कम होता है. इसके अलावा इसमें पोटैशियम भी होता है. पोटैशियम दिल के मरीजों के लिए नुकसानदेह होता है. इसलिए जिसे दिल से संबंधित परेशानियों का सामना कर पड़ रहा है उन्हें साबुदाना नहीं खाना चाहिए.

  • थायराइड के मरीजों के लिए-जिन लोगों को पहले से थायराइड की समस्या है उन्हें भी साबुदाना का सेवन नहीं करना चाहिए. इससे थायराइड बढ़ सकता है. साबुदाना को हमेशा अच्छे से पकाकर खाना चाहिए.

Tags: Health, Health tips, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें