होम /न्यूज /जीवन शैली /

रोज केला खाने से कम होता है कैंसर का खतरा ! स्टडी में हुआ बड़ा खुलासा

रोज केला खाने से कम होता है कैंसर का खतरा ! स्टडी में हुआ बड़ा खुलासा

केला खाने से शरीर को कई पोषक तत्व मिलते हैं.

केला खाने से शरीर को कई पोषक तत्व मिलते हैं.

जिन फूड्स में स्टार्च सप्लीमेंट की मात्रा भरपूर होती है, वे लोगों को कई बीमारियों से बचाने में मददगार होते हैं. केला में भी स्टार्च सप्लीमेंट होता है. अगर आप हर दिन एक केला खाएंगे तो हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद रहेगा.

हाइलाइट्स

रजिस्टेंट स्टार्च प्लांट बेस्ड फूड जैसे केला, सेम, अनाज, चावल और पास्ता में पाया जाता है.
यह कोलोरेक्टल कैंसर और कई बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करता है.

Banana Reduce Cancer Risk: केला खाना हर उम्र के लोगों को पसंद होता है. केला स्वादिष्ट होने के साथ कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है. अधिकतर लोग रोज केले का सेवन करते हैं. एक हालिया रिसर्च में खुलासा हुआ है कि प्रतिदिन एक केला खाने से कई तरह के कैंसर का खतरा काफी हद तक कम किया जा सकता है. सुनकर आपको भी हैरानी हो रही होगी. सिर्फ केला ही नहीं बल्कि रजिस्टेंट स्टार्च से भरपूर खाद्य पदार्थ कैंसर से बचाव कर सकते हैं. आपको बताएंगे कि इस ट्रायल के शोधकर्ताओं ने कैंसर को लेकर किन ज़रूरी बातों को साझा किया है. साथ ही यह भी बताएंगे कि किन फूड्स का सेवन करना फायदेमंद होता है.

यह भी पढ़ेंः कोल्ड ड्रिंक की एक कैन में 10 चम्मच चीनी? डायबिटीज का शिकार न हो जाएं

इन चीजों से कैंसर का खतरा होता है कम

मेडिकल न्यूज़ टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, रजिस्टेंट स्टार्च (RS) कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं, जो छोटी आंत से बिना डाइजेस्ट हुए बड़ी आंत तक पहुंचते हैं. बड़ी आंत में यह डाइजेस्ट हो जाते हैं. रजिस्टेंट स्टार्च प्लांट बेस्ड फूड जैसे केला, सेम, अनाज, चावल, पका हुआ और ठंडा पास्ता आदि में भरपूर मात्रा में पाया जाता है. यह फाइबर का एक हिस्सा होता है, जो कोलोरेक्टल कैंसर और कई बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करता है. ब्रिटेन की न्यू कैसल और लीड्स यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने पता लगाया है कि रजिस्टेंट स्टार्च पाउडर लिंच सिंड्रोम वाले लोगों में भी कैंसर के जोखिम को कम करता है.

हर दिन एक केला खाना फायदेमंद

रिसर्च में शामिल लोगों को हर दिन 30 ग्राम रजिस्टेंट स्टार्च की मात्रा दी गई जो करीब एक कच्चे केले के बराबर थी. इसके शोधकर्ताओं ने करीब 10 साल तक फॉलोअप के बाद डाटा इकट्ठा किया था. इसमें पता चला कि ऐसे लोगों में नॉन कोलोरेक्टल कैंसर का जोखिम 10 सालों तक कम रहा और यह आगे भी कम होने की संभावना बनी रही. हालांकि अभी इस बारे में रिसर्च करना बाकी है कि किस तरह रजिस्टेंट स्टार्च कई तरह के कैंसर के खतरे को कम करता है. हालांकि इतना जरूर पता चल चुका है कि इसमें गट माइक्रोबायोटा अहम भूमिका निभाता है. खाने पीने का भी सेहत पर काफी असर होता है.

यह भी पढ़ेंः पेट की बढ़ी हुई चर्बी से हैं परेशान, इन 4 आसान तरीकों से मिलेगा छुटकारा

Tags: Cancer, Health, Lifestyle, Trending news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर