होम /न्यूज /जीवन शैली /

बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए 'शंख मुद्रा' फायदेमंद, जानें इसे करने का सही तरीका

बच्चों का आत्मविश्वास बढ़ाने के लिए 'शंख मुद्रा' फायदेमंद, जानें इसे करने का सही तरीका

शंख मुद्रा से मानसिक तनाव कम होता है. (image-canva)

शंख मुद्रा से मानसिक तनाव कम होता है. (image-canva)

शंख मुद्रा का अभ्यास करना बेहद आसान है और इसका नियमित अभ्यास करने से बच्चों का फोकस बढ़ता है और उनका मन शांत रहता है. इसे अपने शेड्यूल में शामिल करना सभी उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होता है.

हाइलाइट्स

शंख मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर का पित्त नियंत्रित रहता है.
एकाग्रता बढ़ाने के लिए शंख मुद्रा का अभ्यास करना चाहिए.

Benefits of Shankh Mudra: हाथों से बनाई जाने वाली मुद्रा जो दिखने में एकदम शंख जैसे होती है उसे शंख मुद्रा या अंजलि मुद्रा कहा जाता है. हिंदू धर्म में पूजा करते समय या किसी शुभ कार्य को आरंभ करने से पहले शंखनाद किया जाता है. जिस तरह से शंख बजाने से किसी भी स्थान को शुद्धता और पवित्रता मिल सकती है. ठीक उसी तरह शंख मुद्रा भी शारीरिक और मानसिक गंदगी निकालकर गले के चक्र की विशुद्धि करती है. योग के अनुसार हाथों की पांचों उंगलियों में अग्नि तत्व, आकाश तत्व, जल तत्व, पृथ्वी तत्व और वायु तत्व को मिलाकर पंच तत्व मौजूद होते हैं. शंख मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर का पित्त नियंत्रित रहता है. जिन लोगों को गले में परेशानी रहती है उनके लिए शंख मुद्रा काफी फायदेमंद है, इसका अभ्यास करने से वाणी में मधुरता आती है और बोलने की शक्ति मिलती है.

यह भी पढ़ें- वजन कम करने के लिए करें ये योगाभ्‍यास, पूरे बॉडी के फैट को करता है कम

आत्मविश्वास बढ़ाने के फायदेमंद शंख मुद्रा
प्राणायाम डॉट कॉम के मुताबिक
 शंख मुद्रा का अभ्यास करने से बच्चों की बैठी आवाज या बात-बात पर हकलाने की परेशानी दूर हो सकती है. शंख मुद्रा का नियमित अभ्यास करने से कई वोकल कॉर्ड संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है. शंख मुद्रा का अभ्यास करते हुए हाथ एक शंख की भांति आकार लेते हैं. शंख मुद्रा को हार्ट के नजदीक और गले के नीचे बनाने से आत्मविश्वास में वृद्धि होती है. शंख मुद्रा करने से बच्चों का मन शांत रहता है और दिमाग एक्टिव रहता है. शंख मुद्रा का अभ्यास करने से बच्चों की एकाग्रता बढ़ती है और पढ़ाई पर फोकस कर पाते हैं.

शंख मुद्रा को करने का सही तरीका

  • शंख मुद्रा को करने के लिए कहीं भी कंफर्टेबल होकर बैठ जाएं
  • कमर सीधी करके बैठें और हाथों को चेस्ट के सामने लाएं
  • अपने बाएं हाथ की उंगलियों से दाहिने हाथ के अंगूठे को कवर कर लें
  • मुद्रा को ठीक शंख के आकार में अपनी चेस्ट के पास बनाए रखना है
  • शंख मुद्रा बनाने के बाद आंखों को बंद करके ओम की ध्वनि का ध्यान करते हुए लंबी गहरी सांसे लें.
  • शंख मुद्रा का अभ्यास करते हुए ध्यान को एकाग्र करने की कोशिश करें.
  • शंख मुद्रा का अभ्यास हर रोज 15 मिनट कर सकते हैं.

यह भी पढ़ेंः फिट और हेल्दी रहने के लिए करें स्विमिंग, हार्ट डिजीज का खतरा होगा कम

Tags: Benefits of yoga, Health, Lifestyle

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर