होम /न्यूज /जीवन शैली /कम सोने वाले लोगों से न रखें मदद की कोई उम्मीद ! स्टडी में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

कम सोने वाले लोगों से न रखें मदद की कोई उम्मीद ! स्टडी में हुआ चौंकाने वाला खुलासा

पर्याप्त नींद लेने से कई बीमारियों से बचाव होता है.

पर्याप्त नींद लेने से कई बीमारियों से बचाव होता है.

How Sleep Affect Behavior: स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए सभी लोगों को प्रतिदिन 6-7 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए. ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

नींद का फिजिकल और मेंटल हेल्थ के अलावा बिहेवियरल हेल्थ पर भी असर पड़ता है.
अगर आप हर दिन 7-8 घंटे की नींद लेंगे तो मेंटल हेल्थ काफी बेहतर हो जाएगी.

Sleep Deprivation And Health: आज के दौर में अधिकतर लोग देर रात तक जागते हैं. इसकी वजह से उनका स्लीपिंग पैटर्न बिगड़ जाता है और वे पर्याप्त नींद नहीं ले पाते हैं. जानकारों की मानें तो स्वास्थ्य को बेहतर बनाए रखने के लिए हर दिन 6-7 घंटे की नींद जरूरी होती है. इससे कम सोने से फिजिकल और मेंटल हेल्थ बुरी तरह प्रभावित होती है. कम नींद लेने से मोटापा, कार्डियोवैस्कुलर डिजीज, डायबिटीज, डिप्रेशन, एंजाइटी का खतरा कई गुना बढ़ जाता है. कम नींद लेने के नेगेटिव इफेक्ट्स के बारे में आपने कई बार सुना होगा. एक हालिया स्टडी में नींद को लेकर हैरान करने वाली बात सामने आई है. इसे सुनकर आपके लिए यकीन करना मुश्किल होगा. इस बारे में जान लेते हैं.

यह भी पढ़ेंः ‘मौसम की तरह तुम भी बदल तो न जाओगे’, सिर्फ गाना नहीं हकीकत है !

हालिया स्टडी में हुआ बड़ा खुलासा
मेडिकल न्यूज़ टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक एक हालिया स्टडी में खुलासा हुआ है कि जो लोग पर्याप्त नींद नहीं लेते, उनके व्यवहार में बड़े बदलाव देखने को मिलते हैं. ऐसे लोगों के अंदर दूसरों की मदद करने की इच्छा कम हो जाती है. स्टडी में कहा गया है कि नींद बिगड़ने की वजह से लोगों का प्रो-सोशल बिहेवियर बदल जाता है और वह दूसरों की मदद करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाते हैं. जो लोग प्रॉपर नींद लेते हैं, उनमें लोगों की मदद करने की भावना ज्यादा होती है. आसान भाषा में यह कहा जा सकता है कि नींद का फिजिकल और मेंटल हेल्थ के अलावा बिहेवियरल हेल्थ पर भी गहरा असर पड़ता है. धीरे-धीरे व्यवहार में बदलाव हो जाते हैं.

यह भी पढ़ेंः हार्ट की सर्जरी के बाद जिम खतरनाक ! भूलकर भी न करें ये गलतियां 

नींद से व्यवहार होता है प्रभावित
कई अध्ययनों से पता चला है कि अपर्याप्त नींद के कारण हमारे ब्रेन के उन हिस्सों की एक्टिविटी कम हो जाती है, जो सहानुभूति या मदद से जुड़े होते हैं. नींद से हमारा मूड और व्यवहार काफी प्रभावित होता है और यही वजह है कि प्रॉपर नींद न लेने की कंडीशन में अधिकतर लोगों का मूड अच्छा नहीं होता और इसकी वजह से दूसरों की मदद करने की इच्छा में गिरावट दर्ज की जाती है. सभी लोगों का व्यवहार इससे नहीं बदलता, लेकिन बड़ी संख्या में लोग इससे प्रभावित होते हैं.

मेंटल प्रॉब्लम से राहत दिलाती है पर्याप्त नींद
अगर आप हर दिन 7-8 घंटे की नींद लेंगे तो आपकी मेंटल हेल्थ काफी बेहतर हो जाएगी. पर्याप्त नींद लेने से स्ट्रेस लेवल घट जाएगा और एंजाइटी व डिप्रेशन का खतरा भी कम हो जाएगा. इसके अलावा मोटापा और हार्ट डिजीज का खतरा पर्याप्त नींद लेने से काफी हद तक कम हो जाता है. लाइफस्टाइल को बेहतर बनाकर आप बीमारियों से दूर रह सकते हैं. वर्तमान समय में अधिकतर बीमारियों की वजह बिगड़ती लाइफस्टाइल है. जानकार सभी लोगों को सकारात्मक बदलाव करने की सलाह देते हैं.

Tags: Health, Lifestyle, Mental health, Trending news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें