बच्चों में कोरोना संक्रमण के ऐसे हो सकते हैं लक्षण, इन बातों का जरूर रखें ध्यान

बच्चों में कोरोना संक्रमण के ऐसे हो सकते हैं लक्षण, इन बातों का जरूर रखें ध्यान
बच्चों में डिहाइड्रेशन के लिहाज से भी नजर रखी जाना चाहिए.

बच्चों में कोरोना वायरस (Coronavirus) के लक्षण (Symptoms) थोड़े-से अलग हैं, जिन पर बारीकी से ध्यान देने की जरूरत है.

  • Last Updated: August 26, 2020, 3:06 PM IST
  • Share this:


कोरोना वायरस (Coronavirus) का खतरा कम होने का नाम नहीं ले रहा है. इस लाइलाज बीमारी ने 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को सबसे ज्यादा निशाना बनाया है. सबसे कम केस बच्चों (Children) के आए हैं, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि बच्चे इस बीमारी से अछूते हैं. भारत (India) समेत बाकी दुनिया में बच्चों के साथ ही नवजात शिशुओं में पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं. इसलिए बच्चों के साथ भी वे सभी सावधानियां बरतना जरूरी हैं, जो वयस्कों के लिए बरती जा रही हैं. बच्चों में इस बीमारी के लक्षण (Symptoms) थोड़े-से अलग हैं, जिन पर बारीकी से ध्यान देने की जरूरत है. myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन का कहना है कि कोरोना वायरस यूं तो हर आयु वर्ग के लिए नुकसानदायक है, लेकिन बच्चों की विशेष देखभाल जरूरी है. खासतौर पर वे बच्चे जो जन्म से थोड़े कमजोर हैं.

बच्चों और वयस्कों में लक्षण का फर्क



ब्रिटेन में डिजिज फॉर कंट्रोल एंड प्रिवेंशन विभाग ने अपने अध्ययन में पाया है कि कोरोना वायरस के लक्षण बच्चों में होते हैं, लेकिन उतने साफ तरह से नजर नहीं आते, जितने अन्य मरीजों में आते हैं. इसलिए भी बच्चों पर माता-पिता की पैनी नजर जरूरी है. इन वैज्ञानिकों के अनुसार, बच्चों में कोरोना वायरस के तीन प्रमुख लक्षण हैं - 1. बुखार 2. सूखी खांसी और 3. तेज सांस चलना. द न्यू इंग्लैंड जर्नल ऑफ मेडिसिन के मुताबिक, हो सकता है कि बच्चों में कोरोना वायरस होने की आशंका बहुत कम हो, लेकिन यदि संक्रमण होता भी है तो उनमें लक्षण बहुत कम नजर आते हैं.
डिहाइड्रेशन पर भी रखें नजर

बच्चों में डिहाइड्रेशन के लिहाज से भी नजर रखी जाना चाहिए. यदि बच्चे ने 8 से 12 घंटे तक पेशाब नहीं किया है, वो रो रहा है, लेकिन आंसू नहीं निकल रहे हैं, या सामान्य से कम सक्रिय नजर आ रहा है तो ध्यान दें. कोरोना वायरस पर चीन में हुए अध्ययन में बताया गया है कि कुछ बच्चों में उल्टी और डायरिया के संकेत भी मिले. बच्चों में आमतौर पर फ्लू के लक्षण दिखाई देते हैं, लेकिन इस बीमारी में खांसी और बुखार प्रमुख लक्षण रहे हैं. यदि बच्चे में ऐसे कुछ नजर आता है तो बिना देरी जांच करवानी चाहिए.

बच्चों में फ्लू और कोरोना वायरस के लक्षणों का फर्क जरूरी

कोरोना वायरस में बुखार आम है, लेकिन फ्लू में भी ऐसा होता है. फ्लू होने पर थकान भी होती है, लेकिन कोरोना वायरस में ऐसा नहीं होता. खांसी का भी ऐसा ही है. कोरोना वायरस और फ्लू, दोनों स्थितियों में सूखी खांसी होती है. बच्चों में कोरोना वायरस का एक अलग लक्षण बदन दर्द है, जबकि फ्लू में ऐसा नहीं होता. कोरोना वायरस के बहुत कम मामले में बच्चों की नाक बहती है. फ्लू में सिरदर्द होता है, लेकिन कोरोना वायरस में ऐसा कोई लक्षण नजर नहीं आया. इसी तरह सांस फूलना कोरोना वायरस का लक्षण है, लेकिन फ्लू या सामान्य कोल्ड में ऐसा नहीं होता है. myUpchar से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन का कहना है कि कोरोना वायरस का अभी कोई इलाज नहीं है. डॉक्टर लक्षणों के आधार पर ही इलाज कर रहे हैं.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, कोविड-19 से पीड़ित बच्चों को होने वाला दुर्लभ सिंड्रोम कावासाकी नहीं है : अध्ययन पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज