कार्डियक अरेस्ट से सुषमा स्वराज का निधन, जानें, क्या है कार्डियक अरेस्ट और इसके लक्षण

Sushma Swaraj Died: ज़्यादातर लोग हार्ट अटैक को ही कार्डियक अरेस्ट समझ लेते हैं, लेकिन दोनों में कुछ अंतर है. आइए जानते हैं क्या हैं कार्डियक अरेस्ट के लक्षण

News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 4:39 PM IST
कार्डियक अरेस्ट से सुषमा स्वराज का निधन, जानें, क्या है कार्डियक अरेस्ट और इसके लक्षण
कार्डियक अरेस्ट से सुषमा का निधन, जानें, क्या है कार्डियक अरेस्ट और इसके लक्षण
News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 4:39 PM IST
भारतीय जनता पार्टी की शीर्ष नेत्री और पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने गत मंगलवार रात एम्स अस्पताल में आखिरी सांस ली. कार्डियक अरेस्ट के बाद उन्हें इलाज के लिए दिल्ली के एम्स अस्पताल में एडमिट कराया गया था, जहां वो 70 मिनट तक मौत से जिंदगी की जंग लड़ती रहीं. लेकिन उनका निधन हो गया. अमूमन ज़्यादातर लोग हार्ट अटैक को ही कार्डियक अरेस्ट समझ लेते हैं, लेकिन दोनों में कुछ अंतर है. आइए जानते हैं क्या हैं कार्डियक अरेस्ट के लक्षण और इससे जुड़ी बातें:

कार्डियक अरेस्ट दिल का दौरा पड़ना या हार्ट फेल होने जैसा नहीं है. हृदय में होने वाली आंतरिक गड़बड़ियों के कारण उसके पंप करने की क्षमता पर गहरा असर पड़ता है. इससे शरीर के कई मुख्य अंगों तक पर्याप्त मात्रा में खून की सप्लाई नहीं हो पाती और जब दिमाग तक खून और ऑक्सीजन का सर्कुलेशन रुक जाता है तब इंसान बेहोश हो जाता है. इसे ही कार्डियक अरेस्ट कहते हैं क्योंकि बेहोशी होने के कुछ समय बाद ही लोगों की मौत भी हो जाती है.

कार्डियक अरेस्ट के लक्षण:

- कार्डियक अरेस्ट में रोगी लंबी सांसे नहीं ले पाता है.

- कार्डियक अरेस्ट की स्थिति में हृदय में अचानक तेज दर्द उठता है जिसे बर्दाश्त करना लगभग नामुमकिन होता है.
- कार्डियक अरेस्ट से पहले थकान महसूस होना भी इसका एक लक्षण है.
- अचानक से हार्टबीट तेज हो जाना
Loading...

- चक्कर आना
- बेहोश हो जाना

इसे भी पढ़ें: डार्क चॉकलेट खाएं, Depression होगा दूर, मूड रहेगा अच्छा

इस वजह से बढ़ जाता है खतरा:

- धूम्रपान
- कॉलेस्ट्रॉल
- हाई ब्लडप्रेशर और हाइपरटेंशन
- डायबेटीज
- नियमित रूप से योग और कसरत नहीं करना

इसे भी पढ़ें: वजन घटाने वाले ग्रीन टी के हैं कुछ बड़े नुकसान, हो सकती हैं

इससे बचने के उपाय

- फास्ट फूड से परहेज बनाए रखने पर कार्डियक अरेस्ट के चांस कम हो सकते हैं.
- कार्डियक अरेस्ट से बचने के लिए डॉक्टर से समय समय पर रेगुलर चेकअप कराते रहना चाहिए ताकि शरीर में होने वाले रोगों की जानकारी रहे.

 
First published: August 7, 2019, 12:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...