#काम की बात : बिना सेक्‍सुअल कंपैटबिलिटी जांचें शादी करने से डर लगता है

सेक्‍स सलाह
सेक्‍स सलाह

अगर सेक्‍सुअल कंपैटबिलिटी का पहले से पता हो तो निश्चित ही बेहतर होता है, लेकिन न भी हो इसे मुद्दा नहीं बनाना चाहिए. नए रिश्‍ते की शुरुआत विश्‍वास के साथ करिए

  • Last Updated: August 23, 2018, 4:29 PM IST
  • Share this:
प्रश्‍न : मेरी उम्र 26 साल है और तीन महीने बाद मेरी शादी होने वाली है. ये अरेंज मैरिज है. मैं लड़के से सिर्फ दो-तीन बार मिली हूं. वो थोड़ा शर्मीला टाइप का लगता है. मुझे शादी के बाद हमारी सेक्‍सुअल कंपैटिबिलिटी को लेकर डर लगता है. मेरी कई सहेलियों की शादीशुदा जिंदगी अच्‍छी नहीं चल रही है क्‍योंकि उनकी सेक्‍स लाइफ अच्‍छी नहीं है. मुझे डर लगता है कि पता नहीं, मेरी मैरिड लाइफ कैसी होगी. हम सेक्‍सुअली कंपैटिबल होंगे या नहीं. अगर वो अच्‍छा नहीं हुआ तो. क्‍या कोई ऐसा तरीका है, जिससे मैं शादी से पहले सेक्‍सुअल कंपैटिबिलिटी चेक कर सकूं?

उत्‍तर : सेक्‍सुअल कंपैटिबिलिटी चेक करने का एक ही तरीका है कि सेक्‍स करके देखा जाए. उसके पहले सिर्फ चेहरा देखकर या बातें करके यह नहीं बताया जा सकता कि कोई व्‍यक्ति अंतरंग क्षणों में कैसा होगा. लेकिन सवाल यहां यह नहीं है. सवाल है आपके मन में सिर उठा रही ढेरों आशंकाएं और डर, जिसका कोई आधार नहीं है.

मेरी आपको सलाह यही है कि ये सारे डर अपने मन से निकाल दें कि पता नहीं वो कैसा होगा, अच्‍छा होगा भी या नहीं. जब हम इतनी सारी आशंकाओं और अविश्‍वास के साथ किसी रिश्‍ते में कदम रखते हैं तो वह रिश्‍ता अच्‍छा नहीं रह पाता. आपको यह विश्‍वास करने की जरूरत है कि जो भी होगा, वो अच्‍छा होगा. आपसी प्रेम, आदर और तालमेल के साथ ही चीजें सुंदर बनती हैं, सेक्‍सुअल रिलेशंस भी.



यहां मैं आपको बतौर सेक्‍सोलॉजिस्‍ट यह बताना चाहूंगा कि आज की तारीख में 90 फीसदी से ज्‍यादा सेक्‍सुअल प्रॉब्‍लम्‍स का भी इलाज मुमकिन है. अब कोई भी सेक्‍सुअल प्रॉब्‍लम इतनी बड़ी समस्‍या नहीं रह गई है. मैं सिर्फ आशंका के समाधान के लिए यह कह रहा हूं कि मान लीजिए, अगर कोई दिक्‍कत होती भी है तो एक अच्‍छे सेक्‍सोलॉजिस्‍ट की सलाह से उसे दूर किया जा सकता है.
इसलिए अपने मन से ये सारे डर निकाल दें और खुले दिल-दिमाग के साथ एक नए रिश्‍ते का स्‍वागत करें.

(डॉ. पारस शाह सानिध्‍य मल्‍टी स्‍पेशिएलिटी हॉस्पिटल, अहमदाबाद, गुजरात में चीफ कंसल्‍टेंट सेक्‍सोलॉजिस्‍ट हैं.) 

अगर आपके मन में भी कोई सवाल या जिज्ञासा है तो आप इस पते पर हमें ईमेल भेज सकते हैं. डॉ. शाह आपके सभी सवालों का जवाब देंगे.
ईमेल – Ask.life@nw18.com

ये भी पढ़ें-

#काम की बात : जब से मेरे पार्टनर का वजन बढ़ा है, हमारी सेक्स लाइफ खत्म हो गई है
#काम की बात : क्या स्त्रियों की यौन इच्छा का संबंध उनके मासिक चक्र से भी है ?
#काम की बात: मुझे ऑर्गज्म नहीं होता, दिक्कत कहां है, शरीर में या दिमाग में?
#काम की बात : पोर्न की आदत पोर्नोग्राफी की लत में बदल सकती है?
#काम की बात: अगर एक से ज्‍यादा लोगों से यौन संबंध हों तो एसटीडी हो जाता है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से भी प्रेगनेंसी हो सकती है?
#काम की बात: क्या सेक्स के समय लड़कों को भी पीड़ा हो सकती है?
# काम की बात : क्‍या देसी वियाग्रा लेने से शरीर पर बुरा असर पड़ता है ? 
# काम की बात : क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करने से बीमारी हो जाती है?
#काम की बात: क्‍या पीरियड्स के समय सेक्‍स करना सुरक्षित है?
#कामकीबात: कौन सी बात अंतरंग क्षणों को ज्यादा यादगार बना सकती है?
#कामकीबात: सेक्स के दौरान महिला साथी भी क्लाइमेक्स तक पहुंची, ये कैसे समझा जा सकता है? 
#कामकीबात: सेक्स-संबंध नीरस हो गया है. कभी मेरा मन नहीं करता तो कभी उसका

अन्य लेख पढ़ने के लिए नीचे लिखे Sexologists पर क्लिक करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज