अपना शहर चुनें

States

मोटापे के कारण इस लड़की को 26 साल की उम्र में पड़ा था हार्ट अटैक, तीन साल में कम किया 94 किलो वजन!

मोटापे के कारण 26 साल की उम्र में लौरा को हार्ट अटैक पड़ा था (तस्वीर: लौरा कैल्बर्ट के इंस्टाग्राम से)
मोटापे के कारण 26 साल की उम्र में लौरा को हार्ट अटैक पड़ा था (तस्वीर: लौरा कैल्बर्ट के इंस्टाग्राम से)

लौरा (Laura Calbert) ने कड़ी मेहनत से सिर्फ अपना वजन ही नहीं कम किया बल्कि वो अब एक हेल्थ ट्रेनर (Health trainer) भी हैं जो दूसरों को वजन कम करने के लिए मोटीवेट भी करती हैं. एक ऐसा वक्त था जब लौरा 184 किलो की थीं मगर उन्होंने हार नहीं मानी और तीन साल में 94 किलो वजन कम किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2020, 2:40 PM IST
  • Share this:
दुनिया में ऐसे बहुत लोग हैं जो ओबेसिटी या मोटापे का शिकार हैं मगर उनमें से बहुत कम लोग हैं जो अपने मोटापे को कम करने लिए मेहनत करते हैं. लोग अक्सर ये शिकायत करते हैं कि वो पतले तो होना चाहते हैं मगर उनके पास वक्त की कमी है या फिर उनके अंदर एक्सरसाइज करने के लिए मोटिवेशन नहीं है. इन सबके बीच कुछ लोग खुद को प्रोत्साहित करते हैं और स्वस्थ रहने की निरंतर कोशिश करते हैं. उनकी कोशिश रंग भी लाती है. जॉर्जिया की लौरा कैल्बर्ट की कहानी भी कुछ ऐसी ही है.

कम उम्र में डिप्रेशन का शिकार हो गई थीं लौरा

लौरा ने कड़ी मेहनत से सिर्फ अपना वजन ही नहीं कम किया बल्कि वो अब एक हेल्थ ट्रेनर भी हैं जो दूसरों को वजन कम करने के लिए मोटीवेट भी करती हैं. एक ऐसा वक्त था जब लौरा 184 किलो की थीं मगर उन्होंने हार नहीं मानी और तीन साल में 94 किलो वजन कम किया.
लौरा बताती हैं कि उनका वजन हमेशा से अधिक था. हाई स्कूल तक पहुंचते-पहुंचते उनका वजन लगभग 90 किलो हो गया था. एक इंटरव्यू के दौरान लौरा ने बताया, "कोई पुरुष मेरा दोस्त नहीं बनाता था और मेरे पिता के साथ मेरे संबंध ठीक नहीं थे."
30 साल के करीब पहुंचते-पहुंचते लौरा डिप्रेशन का भी शिकार हो चुकी थीं. उन्हें शराब की लत लग चुकी थी और वो अधिक मात्रा में फास्ट फूड खाने लगी थीं.



Laura Calbert
(तस्वीर: लौरा कैल्बर्ट के इंस्टाग्राम से)


26 साल की उम्र में पड़ा हार्ट अटैक

जब लौरा 26 साल की थीं तो उन्हें एक बार हार्ट अटैक आ गया था. अटैक की तीव्रता कम थी इसलिए उन्हें अधिक समस्या नहीं हुई. डिप्रेशन में होने के कारण वो अस्पताल नहीं जाना चाहती थीं. उनके मन में आता था कि वो मर जाएं क्योंकि उनके जीने का कोई मकसद नहीं है. जैसे-तैसे कर के वो अस्पताल गईं तो डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि अटैक की तीव्रता कम थी और उन्हें वजन कम करने की जरूरत है. डॉक्टर की इस सलाह के बाद भी लौरा ने अपने जीवन में कोई बदलाव नहीं किया. 30 साल की उम्र में उन्हें डायबिटीज, हाई बल्ड प्रेशर और हाई कॉलेस्ट्राल की समस्या हो गई.

184 किलो की लौरा ने कम किया 98 किलो वजन

कुछ साल बाद, 2016 में, वो एक दुकान में थीं जहां एक छोटी बच्ची ने लौरा की ओर इशारा करते हुए अपने पिता से कहा- "डैडी देखिए वो कितनी मोटी है!"
इस वाकये के बाद लौरा को बहुत बुरा लगा और उन्होंने निश्चय किया कि वो अपना वजन कम करेंगी. उन्होंने एक दोस्त का ऑनलाइन वेट लॉस प्रोग्राम ज्वाइन किया और वर्कआउट करना शुरु कर दिया. वेट लॉस प्रोग्राम के कुछ साल बाद तक वो खुद को मोटीवेट नहीं कर पा रही थीं मगर धीरे-धीरे उन्होंने अपने मन पर काबू किया. 184 किलो की लौरा ने कड़ी मेहनत के बाद तीन साल में 98 किलो वजन कम किया. आज वो कई महिलाओं के लिए इंस्पिरेशन हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज