होम /न्यूज /जीवन शैली /

Warning Signs of Diabetes: ये 11 लक्षण हो सकते हैं डायबिटीज की दस्‍तक के संकेत

Warning Signs of Diabetes: ये 11 लक्षण हो सकते हैं डायबिटीज की दस्‍तक के संकेत

Sehat Ki Baat: डायबिटीज के संकेत मिलने पर हमें डॉक्‍टर की सलाह पर ही दवा लेनी चाहिए.

Sehat Ki Baat: डायबिटीज के संकेत मिलने पर हमें डॉक्‍टर की सलाह पर ही दवा लेनी चाहिए.

Sehat Ki Baat: डायबिटीज की बीमारी कितने तेजी से बढ़ रही है, इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि वर्तमान समय में 40 वर्ष से अधिक उम्र वाले करीब 20 फीसदी लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके है. ऐसे में, डायबिटीज से बचाव के लिए सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि इस बीमारी के लक्षण कौन-कौन से हैं. एक भी लक्षण की पहचान होने के बाद शुगर की जांच कराना उससे भी ज्‍यादा जरूरी है. डायबिटीज को किसी भी तरह से नजरअंदाज करना आपके लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. Sehat Ki Baat में आज बात करते हैं उन 11 लक्षणों की, जो आपके शरीर में डायबिटीज की दस्‍तक के संकेत हो सकते हैं. दरअसल, कोविड महामारी के बाद, डायबिटीज की बीमारी ने बड़ी तेजी से अपने पैर पसारने शुरू कर दिए है. आंकड़े बताते हैं कि इन दिनों भारत में 40 की दहलीज पार कर चुके 20 फीसदी लोग डायबिटीज का शिकार हो चुके हैं. वहीं, अब 30 वर्ष की छोटी सी आयु में लोगों को डायब‍िटीज जैसी ऐसी बीमारी अपने गिरफ्त में ले रही है, जिसे कभी बुजुर्गों की बीमारी कहा जाता था. बदलती लाइफ स्‍टाइल और फूड पैटर्न के साथ यह बीमारी भी लगातार गंभीर होती जा रही है.

मैक्स इंस्टीट्यूट ऑफ एंडोक्रिनोलॉजी एंड डायबिटीज के चेयरमैन डॉ. अंबरीश मिथल के अनुसार, डाइबिटीज की बीमारी अब बेहद कॉमन बीमारी बन चुकी है. दिल्‍ली और मुंबई जैसे शहरों में 40 वर्ष के उम्र के करीब-करीब 20 फीसदी लोगों को शुगर पहले ही है. लिहाजा, अब बेहद जरूरी हो गया है कि लोगों को पहले तो लक्षणों का इंतजार नहीं करना चाहिए, 30 की उम्र पार करने के बाद समय-समय पर डायबिटीज की जांच कराते रहना चाहिए. यदि आपको किसी भी पल खुद में डायबिटीज के लक्षण दिखाई देते हैं, तो बिना देरी आपको डायबिटीज की जांच करा लेनी चाहिए. समय पर डायबिटीज की बीमारी का पता न चलना और संकेत मिलने के बावजूद नजरअंदाज करना कई बार खतरनाक साबित हो सकता है.

डायबिटीज के लक्षण:

प्‍यास नहीं बुझना:यदि आपका गला बहुत सूखता है, बार-बार पानी पीने के बावजूद प्‍यास नहीं बुझती है. ऐसी स्थिति होने पर आपको अपनी शुगर की जांच करा लेनी चाहिए.

बार-बार पेशाब आना:डायब‍िटीज के मरीजों को छोटे से अंतराल में बार-बार पेशाब आती है. रात में यदि आप चार से पांच बार पेशाब करने के लिए उठ रहे हैं तो आपको अपनी शुगर जरूर चेक करानी चाहिए.

भूख लगना:डायबिटीज के मरीजों को बार-बार भूख लगती है. एक बार भरपेट खाना खाने के कुछ ही देर बाद उन्‍हें फिर से कुछ खाने की इच्‍छा होने लगती है. यदि आपमें ऐसे लक्षण दिखाई दे रहे है तो आपको अपनी शुगर चेक करा लेनी चाहिए.

वजन कम होना:यदि आपका वजन अकारण कम होना शुरू हो गया है. मसलन, एक सी जीवनशैली और भोजन के बावजूद आपका वजन लगातार कम हो रहा है तो ये डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं.

थकान होना:यदि आप बिना किसी थकावट के 10 से 12 घंटे काम कर लेते थे, लेकिन अब 8 घंटे काम करने में ही आपको थकावट होने लगती है तो आपको डायबिटीज की जांच करा लेनी चाहिए.

पिंडलियो में दर्द:आपके हाथ और पैरों में दर्द रहता है. खासकर, दर्द आपकी पिंडलियों में रहता है, तो यह डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं.

झंझनाहट होना:हाथ की हथेली और पैर के पंजों में झनझनाहट रहती है. पैर के अंगूठे में सुई सी चुभती प्रतीत होती है तो यह भी डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं.

नजर कमजोर होना:आपकी नजर कमजोर हो गई है. छोटी सी अवधि में आपके चश्‍में का नंबर लगातार बढ़ रहा है तो आपको डायबिटीज हो सकती है.

स्किन इंफेक्‍शन:आपको स्किन में बार-बार इंफेक्‍शन हो रहा है, दवा करने के बावजूद वह आसानी से नहीं जा रहा है. स्किन इंफेक्‍शन ठीक होने के बाद वह दोबारा हो रहा है, ऐसी स्थिति में आपको डायबिटीज हो सकती है.

बार-बार इंफेक्‍शन होना:स्किन इंफेक्‍शन की तरह आपको दूसरे इंफेक्‍शन हो रहे हैं और ये इंफेक्‍शन दवा करने के बाद भी आसानी से नहीं जा रहे हैं तो यह भी डायबिटीज के लक्षण हो सकते हैं.

घावों का जल्‍दी न भरना:यदि आपके घाव दूसरों की अपेक्षा देर से भर रहे हैं. कटने पर खून का थक्‍का जमने में देर लग रही है या जलने पर घाव आसानी से नहीं भर रहे हैं तो यह भी डायबिटीज के लक्षण हैं.

शुरूआती दौर में नहीं नजर आते लक्षण
डॉ. अंबरीश मिथल के अनुसार, डायबिटीज एक ऐसी बीमारी है, जिसके लक्षण शुरूआती दौर में नहीं आते हैं. डायबिटीज के लक्षण तभी नजर आते हैं, जब यह बीमारी आपको अपनी गिरफ्त में ले लेती है. लिहाजा, उम्र 30 वर्ष के पार जाते ही, हम सबको निश्चित समयावधि में अपनी जांच कराते रहना चाहिए. उन्‍होंने बताया कि यह बेहद सामान्‍य और मामूली खर्च में होने वाली जांच है, लिहाजा हमें इससे परहेज नहीं करना चाहिए.


यह भी पढ़ें:
World Diabetes Day 2021: क्यों मनाया जाता वर्ल्ड डायबिटीज डे? जानें इतिहास और थीम
डायबिटीज के रोगियों का हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी जानलेवा स्थितियों से बचाव होगा आसान- स्टडी

Tags: Diabetes, Health, Health tips, Sehat ki baat

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर