• Home
  • »
  • News
  • »
  • lifestyle
  • »
  • HEALTH WHAT ARE THE DISEASES CAUSED BY MAKING SEXUAL RELATIONS KNOW THE SYMPTOMS AND WAYS OF PREVENTION MYUPCHAR PUR

क्या आप जानते हैं सेक्स करने से भी हो सकती है बीमारियां!

एसटीडी को ही गुप्त रोग कहा जाता है. ये बीमारियां कई रूपों में सामने आ सकती हैं.

सेक्स (Sex) करने, ओरल सेक्स (Oral Sex) करने और यहां तक कि एक-दूसरे के अंगों को छूने से भी यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) हो सकता है. ये बीमारियां महिलाओं और पुरुषों में समान रूप से होती हैं.

  • Myupchar
  • Last Updated :
  • Share this:


    शारीरिक संबंध (Sexual Relation) बनाते समय कई बीमारियों का जोखिम रहता है, जिन्हें सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज या एसटीडी (STD) कहा जाता है. सेक्स करने, ओरल सेक्स करने और यहां तक कि एक-दूसरे के अंगों को छूने से भी यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) हो सकता है. ये बीमारियां महिलाओं और पुरुषों में समान रूप से होती हैं. यही कारण है कि शारीरिक संबंध बनाने से पहले यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि पार्टनर को किसी तरह की एसटीडी तो नहीं है. आमतौर पर होने वाली सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज के नाम हैं - जननांग दाद, गोनोरिया, क्लैमाइडिया, सिफलिस, एचपीवी यानी ह्यूमन पैपिलोमा वायरस, एचआईवी यानी ह्यून इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस. इनके लक्षण (Symptoms) भी अलग हैं.

    myUpchar से जुड़ी डॉ. मेधावी अग्रवाल के अनुसार, एसटीडी को ही गुप्त रोग कहा जाता है. ये बीमारियां कई रूपों में सामने आ सकती हैं जैसे- सेक्स के बाद त्वचा पर चकत्ते, सेक्स या पेशाब करने के दौरान दर्द होना, महिलाओं में योनि के आसपास खुजली होना, योनि से स्राव होना, पुरुषों में लिंग से स्राव होना. यदि किसी व्यक्ति को बिना कारण के थकान हो रही है, रात को ज्यादा पसीना आता है या अचानक वजन घटने लगा है तो भी यह एसटीडी का लक्षण हो सकता है. वहीं कई बार बिना किसी लक्षण के ये बीमारियां हो सकती हैं. इस तरह बिना किसी जानकारी के ये बीमारियां एक इन्सान से दूसरे में चली जाती हैं. यदि समय रहते इनका इलाज न किया जाए तो शरीर के अंदरूनी अंगों को नुकसान पहुंच सकता है. खासतौर पर महिलाओं को इनका जोखिम अधिक होता है. एसटीडी के कारण महिलाओं में बांझपन, विभिन्न प्रकार के कैंसर हो सकते हैं. समय पर इलाज न मिले तो मृत्यु भी हो सकती है. कुछ एसटीडी में मरीज को तेज बुखार आता है.

    कैसे होती है एसटीडी की जांच

    सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज या एसटीडी का पता लगाने के लिए डॉक्टर कुछ जांच करवाते हैं. इनमें यूरिन और ब्लड की जांच शामिल होती है. अंदरूनी अंगों पर हुए घावों की ब्रश से सफाई कर डॉक्टर बीमारी का पता लगाता है. इसके अलावा मूत्र मार्ग और योनि से सैंपल लेकर भी जांच करवाई जाती है.

    एसटीडी से बचाव के तरीके

    सुरक्षित यौन संबंध इन बीमारियों से बचने के सबसे अच्छे तरीके हैं. कंडोम का ठीक से उपयोग कर एसटीडी के संचरण को कम किया जा सकता है. महिला कंडोम उतने असरदार नहीं हैं, लेकिन यदि पुरुष कंडोम का उपयोग नहीं कर रहा है तो महिला को जरूर करना चाहिए. myUpchar से जुड़ी डॉ. मेधावी अग्रवाल के अनुसार, सबसे अच्छा तो यह होगा कि संबंध बनाने से पहले अपनी और अपने साथी की शारीरिक जांच करवा लें. सेक्स करते समय संयम बरतें और समय-समय पर यौन जांच करवाते रहें. सेक्स के बाद अंगों को साबुन से अच्छी तरह साफ करें. यदि संभव हो तो डॉक्टर की सलाह पर एचपीवी और हेपेटाइटिस का टीका जरूर लगवाएं. यदि किसी को लगता है कि उसके शरीर में एसटीडी के लक्षण हैं या वह एसटीडी के संपर्क में है, तो डॉक्टर को दिखाएं. संयम से रहें और स्वस्थ्य जीवनशैली अपनाएं.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, अनियमित मासिक धर्म का कारण और उपचार पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

    First published: