क्या होती है चर्बी की गांठ, जानें इसके लक्षण और घरेलू इलाज के बारे में

ज्यादातर चर्बी की गांठ सर्जरी के माध्यम से ठीक की जा जाती है, लेकिन सर्जरी के बाद कई मामलो में इसके दुष्प्रभाव भी देखे गए हैं.
ज्यादातर चर्बी की गांठ सर्जरी के माध्यम से ठीक की जा जाती है, लेकिन सर्जरी के बाद कई मामलो में इसके दुष्प्रभाव भी देखे गए हैं.

चर्बी की गांठ (Lipoma) के कई कारण हो सकते हैं. इनमें से कुछ मुख्य जन्मजात यानी आनुवंशिक भी हो सकते हैं. इसके अलावा घाव के कारण, मोटापा, अधिक शराब का सेवन करने या लिवर संबंधी रोगों के कारण भी ऐसा हो सकता है.

  • Last Updated: November 16, 2020, 4:00 PM IST
  • Share this:


अक्सर हम देखते हैं कि शरीर में किसी जगह पर गांठ हो जाती है. आम भाषा में इसे कई लोग चर्बी की गांठ (Lipoma) भी कहते हैं. इन गांठों में दर्द (Pain) तो नहीं होता है, लेकिन शरीर में दिखने में अजीब लगती है. कई बार लोग इस तरह की गांठ के कारण लज्जित भी महसूस करते हैं. आइए जानते हैं चर्बी की गांठ होने के कारण, लक्षण और घरेलू नुस्खे के बारे में.

इस कारण से होती है चर्बी की गांठ



myUpchar के अनुसार, चर्बी की गांठ के कई कारण हो सकते हैं. इनमें से कुछ मुख्य जन्मजात यानी आनुवंशिक भी हो सकते हैं. इसके अलावा घाव के कारण, मोटापा, अधिक शराब का सेवन करने या लिवर संबंधी रोगों के कारण भी ऐसा हो सकता है.
चर्बी की गांठ होने के प्रमुख लक्षण

इसके लक्षण अन्य प्रकार की गांठ से अलग हो सकते हैं। यह गांठ गर्दन, कंधे, हाथ, कमर, पेट व जांघ पर नजर आते हैं. इस तरह की गांठ में ज्यादा दर्द नहीं होता है, लेकिन किसी नस पर दबाव पड़ने पर इसमें हल्का दर्द हो सकता है. कुछ लोगों को चर्बी की गांठ होने पर कब्ज की समस्या भी रहती है.

इन घरेलू उपाय से दूर करें चर्बी की गांठ

गांठ पर रूई से रोज नींबू का पानी लगाए, इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण जाते हैं, जो सूजन को कम करने में मदद कर सकते हैं. सेब का सिरका भी गांठ पर लगाया जा सकता है क्योंकि इसके इस्तेमाल से शरीर डिटॉक्सीफाई होता है, इम्यून सिस्टम बेहतर होता है और रक्त संचार भी ठीक हो सकता है.

गांठ पर हल्दी का पेस्ट लगाने से प्रभावित हिस्सा जल्द ठीक होने लगता है. हल्दी में एंटीसेप्टिक, एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीमाइक्रोबियल गुण होते हैं. ये सूजन को कम करने और बैक्टीरिया को दूर करने का काम करते हैं.

लहसुन से भी चर्बी की गांठ का इलाज किया जा सकता है. इसमें एंटीमाइक्रोबियल, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण होते हैं, जो चर्बी की गांठ को कम करने के साथ-साथ बैक्टीरिया से बचाए रखने में भी मदद करते हैं.

इन सबके अलावा खानपान का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए. विटामिन ए और विटामिन ई से भरपूर खाद्य पदार्थों का भरपूर सेवन करें और पानी भरपूर मात्रा में पिएं.

इन चीजों के सेवन से बचें

कॉफी और चाय में कैफीन भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो गांठ के बढ़ने का कारण बन सकता है. वहीं, तैलीय व मसाला युक्त खाने का भी परहेज करना चाहिए.

चर्बी की गांठ का इलाज

myUpchar के अनुसार, ज्यादातर चर्बी की गांठ सर्जरी के माध्यम से ठीक की जा जाती है, लेकिन सर्जरी के बाद कई मामलो में इसके दुष्प्रभाव भी देखे गए हैं. वहीं, कुछ मामलों में इंजेक्शन लगाकर भी गांठ को सिकोड़ा या छोटा किया जा सकता है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, चर्बी की गांठ पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज