होम /न्यूज /जीवन शैली /Burnout Syndrome: क्या है बर्नआउट सिंड्रोम, यह प्रभावित करता है आपकी प्रोफेशनल लाइफ, जानें 10 बड़े संकेत

Burnout Syndrome: क्या है बर्नआउट सिंड्रोम, यह प्रभावित करता है आपकी प्रोफेशनल लाइफ, जानें 10 बड़े संकेत

बर्नआउट की समस्या आपको धीरे धीरे तनाव की तरफ धकेल देती है.

बर्नआउट की समस्या आपको धीरे धीरे तनाव की तरफ धकेल देती है.

Burnout Syndrome Symptoms: बढ़ती जिम्मेदारियों और बदलती परिस्थितियों की वजह से कई बार लोग बर्न आउट सिंड्रोम के शिकार हो ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

What is Burnout Syndrome, Burnout Syndrome Symptoms: जिंदगी को हर कोई अलग अलग तरह से जीता है. किसी का इसके प्रति अनुभव काफी अच्छा होता है तो कुछ लोगों का बुरा. जिंदगी में हमें कई तरह की परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है. कई बार हमारे सामाने ऐसे हालात हो जाते हैं जो हमारे अंदर तनाव पैदा कर देते हैं. इंसान के लिए जिंदगी जीने के लिए सबसे जरूरी बात है मानसिक रूप से मजबूत होना, लेकिन आज की जीवनशैली के बीच में तनाव और जिम्मेदारियों के प्रेशर से बचना नामुमकिन सा हो गया है.

बढ़ती जिम्मेदारियों और बदलती परिस्थितियों की वजह से कई बार लोग बर्न आउट सिंड्रोम के शिकार हो जाते हैं लेकिन उन्हें इसका एहसास भी नहीं होता. वेबएमडी की खबर के अनुसार कुछ ऐसे संकेत आपको मिलते हैं जिन पर गौर करके आप यह समझ सकते हैं कि आप भी बर्नआउट के शिकार हो चुके हैं. आइए जानते हैं कि वह कौन से लक्षण हैं….

थकान का महसूस होना
बर्नआउट सिंड्रोम एक तरह का कार्य संबंधी तनाव है. बर्नआउट सिंड्रोम का एक बसे बड़ा लक्षण है कि आप थोड़े समय में ही थकाम का महसूस करने लगते हैं. यदि आप ऑफिस में 8 घंटे काम करते हैं और यह अवधि आपको 80 घंटे क बराबर लगने लगती है. क्या आपको काम पर जाने के लिए जबरदस्ती बिस्तर से उठना पड़ता है तो आप समझ सकते हैं कि आप बर्नआउट के शिकार है.

फिट और तंदुरुस्त सेलिब्रिटीज क्यों हो रहे हार्ट अटैक का शिकार? वजह जानकर रोंगटे हो जाएंगे खड़े

काम में रुचि कम होना
बर्न आउट का दूसरा सबसे बड़ा लक्षण काम में रुचि का कम होना. यह आप के लिए नकारात्मक और कठोर भी हो सकती है. काम में रुचि का कम होना आपको अक्सर थकावट की ओर ले जाती है.

खुद को यूजलेस समझना
बर्नआउट होने का संकेत हैं जब आपको इस तरह की भावनाएं आएं कि आप अब पहले की तरह प्रभावी नहीं रहे. आपकी उपलब्धियों में गिरावट आ रही है और साथ ही परफार्मेंस में भी कमी आ रही है. यह सभी भावनाएं आपके काम के प्रति कम रुचि को दर्शाते हैं.

उदास रहना
अक्सर उदास रहना भी बर्नआउट का संकेत है. लेकिन अगर आप खुद को बेकार महसूस कर रहे हैं तो इस तरह की स्थिति उत्पन्न होना सामान्य सी बात है. एक शोध से पता चलता है कि अवसाद (Depression) एक जीवन भर की चीज है जबकि वहीं बर्न आउट मुख्य रूप से आपके काम से जुड़ी चीज है.

कई पोषक तत्वों का पावर हाउस ‘अखरोट’, हार्ट और ब्रेन के लिए तो है सुपरफूड

अपनी नौकरी से नफरत करना
अध्ययनों से पता चलता है कि अपनी जॉब से असंतुष्ट होना बर्नआउट का एक सबसे बड़ा संकेत हैं. अगर आप भी अपने काम से खुश नहीं है और इसे छोड़ने के विकल्प को तलाश रहे हैं तो आप इसके शिकार हो सकते हैं.

सहकर्मियों के साथ चिड़चिड़ा व्यवहार
यदि ऑफिस में जब अपने समान विचारों वाला कोई और न मिले और यहां का वातावरण आपको दमघोंटू लगने लगे तो यह काम से जुड़ा तनाव बढ़ जाता है. अगर ऑफिस के बाहर, घर पर भी आपको मानसिक और भावनात्मक सहयोग न मिले, तो स्थिति और बिगड़ जाती है. यदि आप अपने सहकर्मियों के साथ हमेशा चिड़चिड़ा व्यवहार करते हैं तो आप बर्नआउट के शिकार हो सकते हैं.

मन का भटकना
अगर आपको अपने काम में ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत होती है तो आप बर्नआउट के शिकार हो सकते हैं. इसके साथ ही ऐसी स्थिति में आपको भूलने की दिक्कत या फिर काम से मोहभंग भी हो सकता है.

नींद का मुश्किल से आना
यदि आपको बड़ी मुश्किल से नींद आती है या फिर आप को सोने के लिए जद्दोजहद करना पड़ता है तो आप बर्न आउट सिंड्रोंम के शिकार हो सकते हैं. पर्याप्त नींद न लेने से आप में हृदय और हाई ब्लड प्रेशर, और मधुमेह का खतरा बढ़ सकता है.

ड्रग्स और एल्कोहल का सेवन करना
तनाव भरी जिंदगी से राहत पाने के लिए आप शराब या दूसरी नशीली दवाओं का उपयोग करने लगते हैं तो यह भी बर्न आउट का लक्षण हो सकता है.

Tags: Health, Lifestyle

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें