प्रेग्नेंसी में आ रही है दिक्कत, आईवीएफ है वरदान, जानें टेस्ट ट्यूब बेबी तकनीक है कैसे फायदेमंद

गर्भधारण में कैसे आईवीएफ तकनीक है फायदेमंद जानें (फोटो साभारः Instagram @anushkasharma) (तस्वीर: सांकेतिक चित्र )
गर्भधारण में कैसे आईवीएफ तकनीक है फायदेमंद जानें (फोटो साभारः Instagram @anushkasharma) (तस्वीर: सांकेतिक चित्र )

प्रेग्नेंट (Pregnency)नहीं होने की समस्या से आईवीएफ (IVF) तकनीक के सहारे छुटकारा पाया जा सकता है. आइए जानते हैं क्या है आईवीएफ तकनीक और बच्चा पाने वाली महिलाओं के लिए क्यों ये उम्मीद की किरण बनकर उभरी है -

  • Last Updated: October 21, 2020, 12:39 PM IST
  • Share this:


बदलती दिनचर्या और काम के बोझ के चलते इन दिनों कई महिलाएं तनाव से गुजर रही हैं और ऐसे में कुछ महिलाओं में शादी के बाद गर्भाधारण से संबंधित समस्याएं भी दिखने को मिलती हैं. ऐसी महिलाओं को शादी के बाद जब बच्चा नहीं होता है तो और अधिक मानसिक तनाव सहन करना पड़ता है, लेकिन प्रेग्नेंट नहीं होने की समस्या से आईवीएफ तकनीक के सहारे छुटकारा पाया जा सकता है. आइए जानते हैं क्या है आईवीएफ तकनीक और बच्चा पाने वाली महिलाओं के लिए क्यों ये उम्मीद की किरण बनकर उभरी है -

क्या है आईवीएफ तकनीक



आईवीएफ तकनीक का पूरा नाम है इन विट्रो फर्टीलाइजेशन. दरअसल जिन महिलाओं में गर्भाधारण की समस्या रहती है, उनमें आईवीएफ तकनीक काफी लाभदायक मानी जाती है. आम बोलचाल की भाषा में इसे टेस्ट ट्यूब बेबी तकनीक भी कहा जाता है और इसकी सफलता के कारण ही आजकल बड़े शहरों में कई आईवीएफ सेंटर तेजी से खुलते जा रहे हैं.
ऐसे काम करती है आईवीएफ तकनीक

myUpchar से जुड़े डॉ. विशाल मकवाना के अनुसार, आईवीएफ तकनीक में महिला के अंडाशय से अंडाणुओं को निकाला जाता है और उन्हें प्रयोगशाला में पुरुष के शुक्राणुओं के साथ निषेचित किया जाता है. बता दें कि किसी भी भ्रूण के निर्माण के लिए अंडाणु और शुक्राणु में निषेचन ही सर्वप्रथम प्रक्रिया होती है और यह कुछ महिलाओं में प्राकृतिक तौर पर नहीं हो पाती है और आईवीएफ तकनीक के द्वारा इसे प्रयोगशाला में संपन्न किया जाता है. ऐसी महिलाओं में अंडाणु और शुक्राणुओं के निषेचन के बाद की प्रक्रिया प्राकृतिक तौर पर ही जारी रहती है. प्रयोगशाला में जब अंडाणु को शुक्राणु से निषेचित कर दिया जाता है और भ्रूण विकसित होता है तो इस भ्रूण को महिला के गर्भ में डाल दिया जाता है. इस प्रक्रिया में पत्नी के अंडाणु और पति के शुक्राणु का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन अगर किसी एक पार्टनर के अंडाणु और शुक्राणु में कोई समस्या रहती है तो डोनर के अंडाणु और शुक्राणु का भी इस्तेमाल किया जा सकता है.

किन लोगों के लिए ज्यादा फायदेमंद

myUpchar से जुड़े डॉ. विशाल मकवाना के अनुसार, आईवीएफ तकनीक ऐसी महिलाओं के लिए ज्यादा फायदेमंद है, जो प्राकृतिक तौर पर गर्भाधारण नहीं कर पाती हैं. आजकल हम देखते हैं कि कई महिलाएं कामकाज व नौकरीपेशा होने के कारण काफी देर से शादी करती है. ज्यादा उम्र होने पर भी कई महिलाओं में गर्भाधारण से संबंधित समस्याएं होने लगती हैं. ऐसे में आईवीएफ तकनीक काफी फायदेमंद साबित होती है. इसके अलावा जिन महिलाओं में फैलोपियन ट्यूब में रूकावट हो या आईयूआई (इन्ट्रायूटेराइन इनसेमिनेशन) जैसी तकनीक सफल नहीं हुई हो तो वे महिलाएं भी आईवीएफ तकनीक का इस्तेमाल कर सकती हैं. आईयूआई तकनीक में सीधा शुक्राणु को गर्भाशय में डाल दिया जाता है.

आईवीएफ से पहले पुरुष पार्टनर का भी जरूर कराएं टेस्ट

यदि आईवीएफ तकनीक का सहारा ले रहे हैं तो महिलाओं को पुरुष पार्टनर का भी टेस्ट जरूर करा लेना चाहिए, क्योंकि यह सुनिश्चित करा लेना चाहिए कि महिला के साथ-साथ पुरुष के वीर्य में मौजूद शुक्राणुओं की संख्या, शुक्राणुओं की गतिशीलता और शुक्राणुओं के आकार में सही जानकारी प्राप्त हो सके. कई बार पुरुषों के शुक्राणुओं की संख्या में कमी या कमजोर शुक्राणुओं के कारण भी आईवीएफ तकनीक सफल नहीं हो पाती है. (अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, टेस्ट ट्यूब बेबी क्या है, खर्च और फायदे पढ़ें।) (न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं। )

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज