Home /News /lifestyle /

सांप के काटने पर घबराएं नहीं, जानें- ये जान बचाने वाले उपचार

सांप के काटने पर घबराएं नहीं, जानें- ये जान बचाने वाले उपचार

सांप बहुत ही जहरीला जीव होता हैं जिसके काटने के तुरंत बाद अगर ठीक से उपचार नहीं किया गया तो जिस व्यक्ति को सांप ने काटा हैं वह मर भी सकता हैं.

सांप बहुत ही जहरीला जीव होता हैं जिसके काटने के तुरंत बाद अगर ठीक से उपचार नहीं किया गया तो जिस व्यक्ति को सांप ने काटा हैं वह मर भी सकता हैं.

सांप बहुत ही जहरीला जीव होता हैं जिसके काटने के तुरंत बाद अगर ठीक से उपचार नहीं किया गया तो जिस व्यक्ति को सांप ने काटा हैं वह मर भी सकता हैं.

    सांप बहुत ही जहरीला जीव होता है और इसका नाम आते ही लोगों की कंपकंपी छूटने लगती है. गांव हो या शहर हर जगह सांपों की दहशत होती है. सांप के काटने के तुरंत बाद अगर उपचार नहीं किया गया तो जिस व्यक्ति को सांप ने काटा हैं वह मर सकता है. लेकिन ये कम लोग ही जानते होंगे कि कुछ सरल उपायों को अपनाया जाए तो पीड़ित की जान बचाई जा सकती है. आइये जानते हैं क्या है यह उपाय.

    हममें से ज्यादातर लोग ये नहीं जानते कि सारे सांप जहरीले नहीं होते. दुनिया भर में सांपों की लगभग 550 प्रजाति पाई जाती है जिसमे से केवल 10 प्रजाति वाले सांप ही जहरीले होते हैं.

    जहरीले सांप के काटने पर, जहर खून में मिलकर ऊपर की तरफ दिल तक जाता है, इसके लिए जिस जगह पर सांप ने काटा हो उसके थोड़े ऊपर कपड़े से कसकर पट्टी बांध दें. ऐसा माहौल न बनाएं कि मरीज़ को घबराहट होने लगे. ज्यादा घबराहट होने पर दिल तेज़ी से धड़कने लगता है और जहर पूरे शरीर में फैलने लगता है.

    काटे हुए जगह से खून बहने दें. खून को रोकने की कोशिश बिल्कुल ना करें. इस खून में जहर मिला होता है यह जितना बाहर निकलेगा उतना बेहतर है. पूरे शरीर में ज़हर फैलने से मौत हो सकती है इसलिए 3 घंटे की अंदर मरीज को अस्पताल पहुंचाएं.

    सांप के जहर को दूर करने के लिए घी के साथ फिटकरी का उपयोग करके भी जहर के असर से राहत पाई जा सकती हैं. इसके लिए 60 ग्राम घी लें. 2 ग्राम फिटकरी लेकर उसे पीस लें. अब फिटकरी के चूर्ण को घी में मिला कर जहर से ग्रस्त व्यक्ति को पिलाएं. जहर का असर कम हो जाएगा.

    कई बार लोगों की मौत जहर से नहीं बल्कि सदमे की वजह से हो जाती है. सांप का खौफ लोगों में इतना ज्यादा है कि उसके काटने पर हार्ट अटैक से ही लोग मर जाते हैं. इस भयभीत कर देने वाली धारणा से बाहर निकलना बहुत जरूरी है.

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर