Home /News /lifestyle /

कोरोना का डेल्टा वैरिएंट ज्यादा संक्रामक और घातक क्यों है? रिसर्च में हुआ खुलासा

कोरोना का डेल्टा वैरिएंट ज्यादा संक्रामक और घातक क्यों है? रिसर्च में हुआ खुलासा

कोशिकाओं में कट लगाकर आक्रामक होता है डेल्टा का स्पाइक प्रोटीन  (सांकेतिक तस्वीर)

कोशिकाओं में कट लगाकर आक्रामक होता है डेल्टा का स्पाइक प्रोटीन (सांकेतिक तस्वीर)

Delta Variant : दुनियाभर के वैज्ञानिकों के सामने पिछले काफी समय से ये सवाल बना हुआ था कि डेल्टा वैरिएंट क्यों और कैसे अधिक खतरनाक है? अब एक रिसर्च में इसे लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है.

    Delta Variant : कोरोना वायरस (Coronavirus) का डेल्टा वैरिएंट सबसे खतरनाक वैरिएंट क्यों है? इससे जुड़ी अहम रिसर्च सामने आई है. यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास (University Of Texas) के वैज्ञानिकों ने इस रहस्य से पर्दा उठा दिया है. आपको बता दें कि दुनियाभर के वैज्ञानिकों के सामने पिछले काफी समय से ये सवाल बना हुआ था कि डेल्टा वैरिएंट क्यों और कैसे अधिक खतरनाक है? अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक वैज्ञानिकों का दावा है कि डेल्टा वैरिएंट के अधिक खतरनाक होने की वजह पी681 आर म्यूटेशन है. जानकारी के मुताबिक ये व्यक्ति के श्वासन तंत्र (Respiratory System) के एपिथिलियल सेल्स में अल्फा वैरिएंट की तुलना में तेजी से फैलता है. रिसर्च में दावा किया गया है कि जब पी681 आर म्यूटेशन को हटाया तो देखा कि इंफेक्शन की दर लगभग खत्म हो चुकी है, ऐसे में डेल्टा के अधिक संक्रामक होने की ये मुख्य वजह हो सकती है.

    300 गुना अधिक होता है वायरल लोड
    वैज्ञानिकों ने डेल्टा वैरिएंट को लेकर दावा किया है कि इसकी चपेट में आने वाले लोगों में वायरल लोड 300 गुना अधिक होता है लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि ये वैरिएंट 300 गुना अधिक संक्रामक है. यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्सास मेडिकल ब्रांच के वायरोलॉजिस्ट प्रो. पी योंग शी (Pei-Yong Shi) का कहना है कि शोध में उन्हें वायरस के इस रूप में अमिनो एडिस म्यूटेशन का पता चला है जो कि इसके अधिक संक्रामक और घातक होने की मुख्य वजह हो सकता है.

    यह भी पढ़ें- कोरोना वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन लगवा चुकी मां का दूध है शिशु का ‘सुरक्षा कवच’

    प्रो. पी योंग शी का दावा है कि वायरस जब कोशिकाओं में प्रवेश करता है तो उसका स्पाइक प्रोटीन कोशिकाओं के प्रोटीन को दो बार काटता है. उन्होंने बताया कि वायरस का फ्यूरिन क्लीवेज साइट सबसे पहले कट लगाता है. इसके बाद संक्रमित कोशिकाओं से बने नए वायरल कण तेजी के साथ मुख्य कोशिकाओं को संक्रमित करते हैं जो कुछ समय के भीतर ही घातक रूप ले लेता है.

    यह भी पढ़ें- प्रीमेच्योर बर्थ का पता अब बहुत पहले लगाया जा सकेगा, नई स्टडी में हुआ खुलासा

    प्लाज्मा मेंब्रेन को करता है फ्यूज
    वहीं एक और शोधकर्ता यूनिवर्सिटी ऑफ टोक्यो के वायरोलॉजिस्ट प्रो पी सातो का भी यही कहना है कि वायरस के स्पाइक प्रोटीन में पी 681 आर म्यूटेशन स्वस्थ कोशिकाओं की प्लाज्मा मेंब्रेन को तीन गुना अधिक तेजी से फ्यूज करता है.

    Tags: Coronavirus, Covid19, Covid19 Pandemic, Delta, Delta Variant, Health, कोरोना वायरस, डेल्टा वैरिएंट

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर