होम /न्यूज /जीवन शैली /World Contraception Day 2022: क्या गर्भनिरोधक दवाओं का इस्तेमाल करना सुरक्षित? एक्सपर्ट से जानें हकीकत

World Contraception Day 2022: क्या गर्भनिरोधक दवाओं का इस्तेमाल करना सुरक्षित? एक्सपर्ट से जानें हकीकत

कॉन्ट्रासेप्शन प्रेग्नेंसी से बचने का एक तरीका होता है.

कॉन्ट्रासेप्शन प्रेग्नेंसी से बचने का एक तरीका होता है.

World Contraception Day 2022 Significance: हर साल 26 सितंबर को विश्व गर्भनिरोधक दिवस (World Contraception Day) मनाया जा ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के ज्यादा इस्तेमाल से स्ट्रोक की समस्या हो सकती है.
हमेशा डॉक्टर की सलाह के बाद ही इन दवाओं का इस्तेमाल करना चाहिए.

Is It Safe To Take Contraceptive Medicine: दुनिया की आबादी करीब 800 करोड़ के आसपास पहुंच गई है. यह तेज रफ्तार से आगे बढ़ रही है. इसे रोकने के लिए तमाम सरकारें और कई वैश्विक संस्थाएं लगातार लोगों को जागरूक कर रही हैं. इसी के उद्देश्य से हर साल 26 सितंबर को ‘विश्व गर्भनिरोधक दिवस’ (World Contraception Day) मनाया जाता है. कई रिपोर्ट्स में यह बात सामने आ चुकी है कि बड़ी संख्या में लोग कॉन्ट्रासेप्टिव का इस्तेमाल नहीं करते. अब तक आपने कई बार गर्भनिरोधक दवाओं यानी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स (Contraceptive Pills) के बारे में सुना होगा. क्या कॉन्ट्रासेप्टिव दवाओं का इस्तेमाल करना सुरक्षित होता है? वर्ल्ड कॉन्ट्रासेप्शन डे पर गर्भनिरोधक दवाओं से जुड़े सभी सवालों के जवाब एक्सपर्ट से जान लेते हैं.

क्या है कॉन्ट्रासेप्शन का मतलब?
नई दिल्ली के इंद्रप्रस्थ अपोलो हॉस्पिटल की गायनोकोलॉजिस्ट डॉ. सुरप्रीत कौर संधू के मुताबिक फैमिली प्लानिंग या प्रेग्नेंसी को रोकने के लिए जिन तरीकों का इस्तेमाल किया जाता है, उसे कॉन्ट्रासेप्शन कहते हैं. इस बारे में बड़ी संख्या में लोगों को सही जानकारी नहीं होती. यह एक बेहद जरूरी मुद्दा है, जिसके बारे में जागरूकता फैलाने की जरूरत है. गायनोकोलॉजिस्ट से विचार-विमर्श के बाद फैमिली प्लानिंग के लिए कॉन्ट्रासेप्शन एक अच्छा और सुरक्षित विकल्प हो सकता है. उम्र और बॉडी कंडीशन के आधार पर लोगों को इस बारे में सलाह दी जाती है.

Covid-19 से बच्चों में बढ़ रहा इस लाइलाज बीमारी का खतरा, नई स्टडी ने उड़ाई नींद

कितने टाइप का होता है कॉन्ट्रासेप्शन?
कॉन्ट्रासेप्शन के 4 प्रमुख टाइप होते हैं. पहला बैरियर कॉन्ट्रासेप्टिव मेथड होता है, जिसमें प्रेग्नेंसी से बचने के लिए मेल या फीमेल कॉन्डोम का यूज किया जाता है. दूसरा मेथड मेडिसिनल कॉन्ट्रासेप्शन होता है, जिसे हार्मोनल कॉन्ट्रासेप्टिव भी कहा जाता है. इस मेथड में कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का इस्तेमाल किया जाता है. तीसरा मेथड इंट्रायूटरिन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस होता है, जिसमें यूटेरस के अंदर कुछ प्रोडक्ट इस्तेमाल किए जाते हैं. चौथा मेथड सर्जिकल कॉन्ट्रासेप्शन होता है, जिसमें सर्जरी के जरिए नसबंदी कर दी जाती है.

Lyme Disease की दुनियाभर में क्यों हो रही चर्चा? ऐसे होती है इस बीमारी की शुरुआत

क्या सुरक्षित है गर्भनिरोधक दवाओं का इस्तेमाल?
डॉ. सुरप्रीत कौर कहती हैं कि कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स यानी गर्भनिरोधक दवाओं का इस्तेमाल डॉक्टर से कंसल्ट किए बिना नहीं करना चाहिए. कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स दो तरह की होती हैं. एक नॉर्मल और दूसरी इमरजेंसी. बड़ी संख्या में लोग इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के बिना करते हैं, जो खतरनाक हो सकता है. इमरजेंसी पिल्स को लाइफ में एक या दो बार से ज्यादा नहीं लेना चाहिए वरना उसके गंभीर साइड इफेक्ट होंगे. अगर डॉक्टर की सलाह पर कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स ली जाती हैं तो ऐसा करना सुरक्षित माना जाता है. एक्सपर्ट सभी टेस्ट करने के बाद ही पिल्स को रिकमेंड करते हैं.

क्या होते हैं इन दवाओं के साइड इफेक्ट्स?
फरीदाबाद के सर्वोदय हॉस्पिटल के न्यूरोसर्जन डॉ. गौरव केसरी के अनुसार कई बार कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के ज्यादा इस्तेमाल से स्ट्रोक के मामले सामने आते हैं. इससे बचने के लिए गायनोकोलॉजिस्ट की सलाह के आधार पर ही इन पिल्स का इस्तेमाल करना चाहिए. इस मामले पर डॉ. सुरप्रीत कौर कहती हैं कि कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स का ज्यादा इस्तेमाल करने से हाइपरकोलेस्ट्रेमिया, ब्लड क्लॉट और हार्मोन से जुड़ी समस्याएं भी हो सकती हैं. अलग अलग पर्सन पर इसका डिफरेंट इफेक्ट हो सकता है. इस कंडीशन से बचने के लिए डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

Tags: Health, Lifestyle, Pregnancy, Trending news, Women Health

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें