World Food Safety Day 2020: हेल्दी खाने के लिए आप क्या करें, हो सकती है ये बड़ी परेशानी

World Food Safety Day 2020: हेल्दी खाने के लिए आप क्या करें, हो सकती है ये बड़ी परेशानी
सुरक्षित और पौष्टिक भोजन सभी का मूल अधिकार है.

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के दो निकायों विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और खाद्य व कृषि संगठन (FAO) द्वारा हर साल 7 जून को ‘विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. इसका उद्देश्य खाद्य सुरक्षा की ओर ध्यान आकर्षित करने के साथ सुधारात्मक कार्रवाई को बढ़ावा देना है.

  • Last Updated: June 7, 2020, 6:37 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
जीवन की बुनियादी आवश्यकताओं में से एक है भोजन (Food). सुरक्षित और पौष्टिक भोजन सभी का मूल अधिकार है. हालांकि, जब यह अधिकार लोगों को प्राप्त नहीं हो पाता है, तो इसके परिणामस्वरूप न सिर्फ कई प्रकार की बीमारियों का डर बढ़ जाता है, साथ ही कई बार इससे जीवन भी खतरे में पड़ जाता है. इसी को ध्यान में रखते हुए संयुक्त राष्ट्र (United Nations) के दो निकायों विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और खाद्य व कृषि संगठन (FAO) द्वारा हर साल 7 जून को ‘विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस’ के रूप में मनाया जाता है. इसका उद्देश्य खाद्य सुरक्षा की ओर ध्यान आकर्षित करने के साथ सुधारात्मक कार्रवाई को बढ़ावा देना है. सभी के लिए पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने के लक्ष्य को पूरा करने के लिए आवश्यक क्षेत्रों के सतत विकास पर भी ध्यान दिया जाता है.

ग्राहक की भूमिका

लोगों को मानकों पर खरा भोजन प्राप्त हो यह प्रशासन और ग्राहक दोनों की साझा जिम्मेदारी है. खेतों से निकलकर विभिन्न चरणों से गुजरते हुए सुरक्षित और पौष्टिक भोजन सभी को मिल सके इसके लिए सरकारों, खाद्य उत्पादकों और उपभोक्ताओं की अपनी-अपनी भूमिका होती है. खाद्य पदार्थों की गुणवत्ता को जांचने के लिए सरकार ने कई स्तर पर इंतजाम किए हुए हैं. भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) जैसी सरकारी एजेंसियां खाद्य उत्पादों की स्वच्छता और सुरक्षा मानक निर्धारित करने के साथ उनकी जांच करती हैं. वहीं दूसरी ओर उपभोक्ताओं तक पहुंचने वाले खाद्य पदार्थ इन मानकों पर खरे उतरें, यह जिम्मेदारी उत्पादकों की होती है.



यह तो रही अलग-अलग लोगों की जिम्मेदारी. अब सवाल उठता है कि इसमें आम जनता यानी हमारी और आपकी क्या भूमिका है? खाद्य सुरक्षा मानकों को बनाए रखने के लिए हम क्या कर सकते हैं? तो इसका जवाब है कि इस संबंध में हमारी भूमिका सबसे महत्वपूर्ण है. ऐसा इसलिए है क्योंकि खाद्य पदार्थों की खपत आम जनता पर निर्भर करती है. मांग और आपूर्ति को बनाए रखने में इन्हीं का सबसे बड़ा योगदान होता है. इतना ही नहीं आपके फीडबैक के आधार पर ही इस बात का निर्धारण होता है कि कौन सा खाद्य पदार्थ, खाद्य सुरक्षा कानून के मापदंडों पर खरा उतरता है और कौन सा नहीं. यदि उत्पादक खाद्य पदार्थों की स्वच्छता और सुरक्षा मानकों को पूरा नहीं करते हैं तो इसका सीधा असर आप यानी उपभोक्ता के स्वास्थ्य पर पड़ता है. इससे कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं.



बतौर उपभोक्ता आपकी क्या जिम्मेदारी है?

जैसा कि हम पहले ही बता चुके हैं, खाद्य सुरक्षा मापदंड में उपभोक्ता की भूमिका महत्वपूर्ण होती है. ऐसे में आप क्या खरीद रहे हैं और क्या खा रहे हैं, इस बारे में पूर्ण रूप से जागरूक होना जरूरी हो जाता है. सभी उपभोक्ताओं द्वारा निम्नलिखित बिंदुओं का विशेष रूप से पालन किया जाना चाहिए.

लेबल पढ़ें

लेबल का मतलब सिर्फ खाद्य पदार्थों की एक्सपायरी डेट से नहीं है. आपको संबंधित खाद्य पदार्थ के पोषण चार्ट के बारे में भी जानना आवश्यक है. इससे आपको पता चल सकेगा कि जो खाद्य पदार्थ आप ले रहे हैं उसमें कौन-कौन से पोषक तत्व और उसे सुरक्षित रखने के लिए किन रसायनों का प्रयोग किया गया है. भोजन में संरक्षक यानी लंबे समय तक खराब होने से बचाने वाले रसायन और ट्रांस फैट कई बार स्वास्थ्य संबंधी गंभीर जोखिम पैदा कर सकते हैं. इसलिए रसायन युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन से बचें.

मौसम के मुताबिक खाद्यों का चयन

जब आप ताजे फल और सब्जियां खरीद रहे होते हैं, तो यह जानना महत्वपूर्ण है कि मौसम के हिसाब से आपके लिए कौन से फल और सब्जियां फायदेमंद हो सकते हैं? ताजे, स्वच्छ और सही फल व सब्जियों की पहचान और खरीद आपको स्वस्थ रखने में मदद करती है. आपको इस बात की भी जानकारी होनी चाहिए कि ताजे और खराब अंडे, मछली, मीट और डेयरी उत्पादों से किस प्रकार की खुशबू आती है, इससे आप सही खाद्य का चयन कर सकेंगे.

अपने विक्रेता/ बाजार के बारे में जानकारी

आपको पता होना चाहिए कि आसपास के कौन से बाज़ार और विक्रेता सबसे अच्छे खाद्य पदार्थ रखते हैं. उदाहरण के लिए, यदि आपको किसी स्टोर के आसपास चूहे और अन्य जानवर दिखते हैं तो इससे पता चलता है कि वहां मिलने वाले खाद्य पदार्थ स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकते हैं. आपको इसकी रिपोर्ट करनी चाहिए.

खाद्य पदार्थों को धोना और अच्छे से पकाना

कोविड-19 महामारी के दौरान हम फलों और सब्जियों को अच्छे से धोकर प्रयोग में ला रहे हैं. इस नियम का सिर्फ कोविड-19 जैसी महामारी के वक्त ही नहीं बल्कि हमेशा पालन किया जाना चाहिए. सब्जियों और फलों को गर्म पानी में धोना, उन्हें साफ-सफाई के साथ रखना आदि स्वास्थ्य के लिए बहुत आवश्यक है.

वहीं आपको सिर्फ उन्हीं खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो अच्छी तरह से पके हों. सही से खाना पकाने से सभी तरह से कीटाणु मर जाते हैं. इसलिए आपको भोजन अच्छी तरह से पकाकर ही सेवन करना चाहिए. भोजन में अच्छे तेल, मसालों और जड़ी बूटियों का प्रयोग स्वाद के साथ सेहत के लिए भी बेहतरीन माना जाता है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, हेल्दी फूड को लेकर अपने सब भ्रम यहां से दूर करें पढ़ें.

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

First published: June 7, 2020, 6:35 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading