World Heart Day 2020: क्या होता है साइलेंट हार्ट अटैक, जानें इसके लक्षण और बचाव

दिल का दौरा केवल हृदय को ही प्रभावित नहीं करता बल्कि पूरे शरीर के विभिन्न हिस्सों में असुविधा महसूस की जा सकती है.
दिल का दौरा केवल हृदय को ही प्रभावित नहीं करता बल्कि पूरे शरीर के विभिन्न हिस्सों में असुविधा महसूस की जा सकती है.

साइलेंट हार्ट अटैक (Silent Heart Attack) में व्यक्ति के हृदय में खून के प्रवाह में रुकावट आती है और इससे हृदय की मांसपेशियों को नुकसान पहुंच सकता है.

  • Last Updated: September 29, 2020, 12:37 PM IST
  • Share this:


हार्ट अटैक या दिल का दौरा (Heart Attack) हमेशा ही स्पष्ट लक्षणों के साथ हो ऐसा जरूरी नहीं है. कई बार ऐसा भी होता है जब दिल का दौरा कम से कम, बिना पहचाने जाने वाले किसी भी लक्षण के बिना होता है और तब इसे साइलेंट हार्ट अटैक (Silent Heart Attack) या साइलेंट आईस्केमिया कहा जाता है. साइलेंट हार्ट अटैक के दौरान, व्यक्ति उन विशिष्ट लक्षणों का सामना नहीं करता जो सामान्यतः दिल का दौरा पड़ने की स्थिति में देखने को मिलता है, जैसे- सीने में दर्द और सांस से जुड़ी तकलीफ आदि. जिन लोगों को बिना लक्षणों वाला साइलेंट दिल का दौरा पड़ता है, वे लोग बदहजमी, फ्लू जैसे लक्षण या छाती की मांसपेशियों में खिंचाव का अनुभव कर सकते हैं. हालांकि, आपको पता होना चाहिए कि किसी भी अन्य हार्ट अटैक की ही तरह, साइलेंट हार्ट अटैक में व्यक्ति के हृदय में खून के प्रवाह में रुकावट आती है और इससे हृदय की मांसपेशियों को नुकसान पहुंच सकता है. ऐसे में साइलेंट हार्ट अटैक के लक्षण क्या हो सकते हैं इस बारे में हम आपको यहां बता रहे हैं.

सांस लेने में तकलीफ और चक्कर आना
कई बार ऐसा भी हो सकता है जब सीने में दर्द के बिना भी सांस लेने में तकलीफ महसूस हो रही हो. यह इस बात का एक संकेत हो सकता है कि आपका हृदय शरीर के बाकी हिस्सों में खून को सही तरीके से पंप करने में सक्षम नहीं है. इसके अलावा चक्कर आना या सिर घूमना भी साइलेंट हार्ट अटैक का एक लक्षण हो सकता है.
जी मिचलाना और पसीना आना


उल्टी आना, जी मिचलाना या किसी डर या घबराहट की वजह से बहुत ज्यादा पसीना आना आमतौर पर फ्लू के लक्षण माने जाते हैं, लेकिन ये लक्षण साइलेंट हार्ट अटैक के संकेत भी हो सकते हैं और इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि यह किसी गंभीर समस्या को जन्म दे सकता है.

सीने में दर्द, दबाव और असहज महसूस होना
साइलेंट हार्ट अटैक के दौरान सीने में बहुत हल्का दर्द या किसी तरह की असुविधा महसूस होती है. इसके अलावा व्यक्ति को सीने में एक तरह का दबाव, सिकुड़न या निचोड़ने जैसी भावनाएं भी महसूस हो सकती हैं. ये लक्षण आमतौर पर धीरे-धीरे शुरू होते हैं और ये लक्षण समय के साथ आते-जाते रहते हैं.

शरीर के अन्य क्षेत्रों में बेचैनी महसूस होना
दिल का दौरा केवल हृदय को ही प्रभावित नहीं करता बल्कि पूरे शरीर के विभिन्न हिस्सों में असुविधा महसूस की जा सकती है, जिससे दिल के दौरे के लक्षणों की पहचान करना मुश्किल हो सकता है. शरीर के विभिन्न क्षेत्र जहां असुविधा या असहजता महसूस हो सकती है वे हैं व्यक्ति के हाथ (खासकर बाजू का हिस्सा), पीठ, गर्दन, जबड़ा और पेट.

साइलेंट हार्ट अटैक के विभिन्न कारण हो सकते हैं जैसे-

  • उच्च रक्तचाप

  • उच्च कोलेस्ट्रॉल

  • धूम्रपान

  • दिल की बीमारी का पारिवारिक इतिहास

  • मोटापा


मई 2016 में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, रिपोर्ट किए जाने वाले लगभग हर दूसरे दिल के दौरे की घटना की प्रकृति साइलेंट होती है. साइलेंट हार्ट अटैक का पता केवल इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम यानी ईसीजी के द्वारा ही लगाया जा सकता है इसलिए, नियमित ईसीजी चेकअप के जरिए साइलेंट हार्ट अटैक की घटना को किसी भी व्यक्ति में पहचानना आसान बनाता है. इस तरह के मामलों में 1-3 लीड सिस्टम वाला दीर्घकालिक ईसीजी सिस्टम उतना मददगार नहीं रहता जितना 12-लीड वाला ईसीजी. सामान्य कार्डिएक मॉनिटरिंग की तुलना में, 12-लीड ईसीजी हृदय की 3डी इलेक्ट्रिकल गतिविधि को दर्शाता है, जिसे 12 अलग-अलग दृष्टिकोण से दर्ज किया जा सकता है.

अगर किसी व्यक्ति को साइलेंट हार्ट अटैक होता है तो उसे भविष्य में हार्ट अटैक की घटना को रोकने के लिए बेहद जरूरी है कि वह शांत रहें और रिलैक्स करे, आराम करे क्योंकि शरीर और हृदय दोनों को ही आराम की जरूरत है. साइलेंट हार्ट अटैक से जुड़े जिन लक्षणों के बारे में हमने आपको अभी ऊपर की पंक्तियों में बताया है अगर उनमें से भी कोई भी लक्षण आपको महसूस हो तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें. साइलेंट हार्ट अटैक से बचा जा सकता है जब हमें जोखिम कारकों के बारे में पहले से पता हो, हमारा शरीर कैसे काम करता है इसे अच्छी तरह से समझें और नियमित रूप से एक्सरसाइज करें.

इस आर्टिकल को माइ उपचार के लिए डॉ दिनेश कुमार मित्तल ने लिखा है जो दिल्ली के शालीमार बाग स्थित फोर्टिस अस्पताल में अडल्ट सीटीवीएस (कार्डियोथोरैसिक और वैस्क्युलर सर्जरी) विभाग के डायरेक्टर और एचओडी हैं.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल हार्ट अटैक के लक्षण, कारण, इलाज के बारे में पढ़ें.न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज