होम /न्यूज /जीवन शैली /आंख बंद कर किसी भी योगासन को न करें हार्ट पेशेंट, योग एक्‍सपर्ट की राय, बढ़ सकती है परेशानी

आंख बंद कर किसी भी योगासन को न करें हार्ट पेशेंट, योग एक्‍सपर्ट की राय, बढ़ सकती है परेशानी

world Heart Day 2022: हार्ट पेशेंट के लिए योगासन फायदेमंद हैं लेकिन कुछ योगासन नुकसान भी पहुंचा सकते हैं.

world Heart Day 2022: हार्ट पेशेंट के लिए योगासन फायदेमंद हैं लेकिन कुछ योगासन नुकसान भी पहुंचा सकते हैं.

योग चिकित्‍सक डॉ. बालमुकुंद कहते हैं कि योगासन और प्राणायाम हमेशा ही फायदेमंद हैं बशर्ते उनके नियमों का ध्‍यान रखा जाए ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

योगासन दिल और दिल की बीमारी के मरीजों के लिए रामबाण दवा की तरह काम करते हैं.
योग विशेषज्ञों की मानें तो कुछ योगासन हार्ट पेशेंट के लिए नुकसानदेह भी हो सकते हैं.
हार्ट के मरीजों को योगासन या प्राणायाम करते हुए विशेषज्ञ की सलाह जरूर लेनी चाहिए.

नई दिल्‍ली. हार्ट संबंधी परेशानियों से जूझ रहे लोगों को योगासन और प्राणायाम करने की सलाह दी जाती है. इनसे न केवल दोबारा हार्ट अटैक का खतरा कम होता है बल्कि जिन्‍हें हार्ट अटैक जैसी परेशानी हो चुकी है उनका रक्‍त प्रवाह यानि ब्‍लड फ्लो ठीक करने, उच्‍च रक्‍तचाप, शुगर, मोटापा आदि को कम करने में योगासन और प्राणायाम काफी प्रभावी होते हैं. कई शोध और रिसर्च में भी ये बात सामने आ चुकी है कि रोजाना हल्‍का व्‍यायाम, योगासन और प्राणायाम करने से हार्ट के मरीजों के शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल को नियंत्रित करने में काफी मदद मिलती है.

एसएम योग रिसर्च इंस्‍टीट्यूट एंड नेचुरोपैथी अस्‍पताल इंडिया के सचिव और शांति मार्ग द योगाश्रम अमेरिका के फाउंडर व सीईओ योगगुरु डॉ. बालमुकुंद शास्‍त्री कहते हैं क‍ि योग चिकित्‍सा की पद्धति है जो रोगों को आने से तो रोकती ही है, बड़े से बड़े रोगों को काट भी देती है. हार्ट की समस्‍या भी उन्‍हीं गंभीर बीमारियों में से एक है. हालांकि योगासनों के अभ्‍यास से दिल संबंधी रोगियों को भी काफी आराम मिलता है. कई ऐसे योगासन हैं जिनसे खून को पतला करने और ब्‍लड सर्कुलेशन को बेहतर और सुचारू करने में मदद मिलती है. हालांकि कुछ ऐसे भी योगासन और प्राणायाम हैं जिन्‍हें दिल के रोगियों को नहीं करना चाहिए. अगर जाने-अनजाने इनका अभ्‍यास किया जाता है तो ये दिल के लिए मुसीबत पैदा कर सकते हैं.

दिल के मरीजों के लिए ये योगासन हैं निषेध
डॉ. बालमुकुंद कहते हैं कि योगासन और प्राणायाम हमेशा ही फायदेमंद हैं बशर्ते उनके नियमों का ध्‍यान रखा जाए लेकिन अगर शरीर में कोई रोग या बीमारी है तो कुछ योगासन या प्राणायाम शरीर पर नकारात्‍मक असर भी डाल सकते हैं. यही वजह है कि दिल की बीमारी से जूझ रहे मरीजों को भी कुछ योगासन और प्राणायाम न करने की सलाह दी जाती है. योग विशेषज्ञों की मानें तो कुछ योगासन हार्ट पेशेंट के लिए पूरी तरह निषेध हैं, इन्‍हें करने पर फायदे के बजाय नुकसान की संभावना रहती है. लिहाजा दिल के मरीजों को इन्‍हें करने से बचना चाहिए.

  • . जिन भी आसनों में ब्‍लड का सर्कुलेशन हार्ट या ब्रेन की तरफ आता है ऐसे योगासनों को निषेध बताया गया है. लिहाजा आगे की ओर झुकने वाले योगासनों से परहेज करें.
    . बहुत ज्‍यादा दवाब वाले आसनों से बचें.
    . पैरों को ऊपर उठाकर करने वाले आसन भी हार्ट पेशेंट की मुसीबत बढ़ा सकते हैं.
    . उत्‍तानपादासन, शीर्षासन, हलासन, सेतुबंधासन, पादहस्‍तासन, समकोणासन, शशांकासन, पश्चिमोत्‍तासन
    , कर्णपीड़ासन, सूर्य नमस्‍कार, विशेषज्ञ के निर्देशन में ही कर सकते हैं, शलभासन, फलकासन, पर्वतासन न करें.

दिल के मरीज कर सकते हैं ये योगासन
डॉ. बालमुकुंद कहते हैं क‍ि भुजंगासन, वृक्षासन, त्रिकोणासन, ताड़ासन, कटिचक्रासन, अधर्चक्रासन, गौमुखासन, वज्रासन, अर्धमक्षेन्‍द्रासन, वक्रासन, उष्‍ट्रासन, मरकटासन, नौकासन, शवासन, मत्‍स्‍यासन, तिर्यक भुजंगासन, मकरासन आदि को दिल के मरीज कर सकते हैं. ये फायदेमंद हैं.

  • ये प्राणायाम हैं फायदेमंद
    . डॉ. शास्‍त्री कहते हैं कि नाक की बाईं ओर से शुरुआत करते हुए अनुलोम विलाम कर सकते हैं.
    . भ्रामरी मन को शांत रखता है, इसे भी कर सकते हैं.
    .चंद्रभेदी प्राणायाम बेहद फायदेमंद है. इसे नियमित रुप से करें
    . शीतली और शीतकारी भी कर सकते हैं अगर हाई बीपी की समस्‍या है.
    . ध्‍यान और माला पर मंत्र का अभ्‍यास भी कारगर है.
  • भूलकर भी न करें कपालभाति और भस्त्रिका
    . कपालभाति प्राणायाम ब्‍लड प्रेशर को बढ़ाता है, लिहाजा इससे परहेज करें.
    . दिल के मरीज सूर्यभेदी प्राणायाम न करें.
    . भष्त्रिका प्राणायाम भी नुकसानदेह हो सकता है.

योगाभ्‍यास के अलावा खाने पीने का रखें ध्‍यान
डॉ. बालमुकुंद कहते हैं योगाभ्‍यास तो काफी जरूरी है ही इसके अलावा खान-पान का भी ध्‍यान रखना जरूरी है. कोलेस्‍ट्रोल को बढ़ाने वाले और कैलोरी वाले भोजन से बचें. हाई-फाइबर वाली डाइट लें. लहसुन, अदरक, हल्‍दी और चुकंदर का इस्‍तेमाल जरूर करें ये सभी चीजें हार्ट पेशेंट के खून को पतला करने में कारगर हैं. इससे भविष्‍य में हार्ट की समस्‍या होने का खतरा कम होता जाता है.

Tags: Heart attack, Heart Disease, World Heart Day

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें